Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
12-21-2018, 09:40 PM,
#1
Lightbulb  Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
रंगीली बीवी की मस्तियाँ

ये कहानी कुछ अलग है ये पति पत्नी के संबंधो पर है ,की कैसे एक पत्नी अपने पति को धोखा देती है और कैसे उसका पति उसे बस देखता ही रह जाता है.........आशा है की आपको ये कहानी पसंद आयेगी ,,,,,,,
-
Reply
12-21-2018, 09:41 PM,
#2
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
जिन्दगी में आप कितनी भी चाहत कर ले मिलता वो है जो मिलना है.लेकिन जीवन का हिसाब ये है की जो मिले उसका मजा लो,जिसने ये सिख लिया उसकी जिन्दगी जन्नत हो जाती है वरना यहाँ दुखो का अम्बर ही है.मैं विकास मैंने भी इछाये की पर शायद मुझे वो कभी नहीं मिला जो मैं चाहता था..पर मुझे जो मिला उसका सुख उससे कही जादा है जो मैं चाहता था...मैं एक साधारण सा व्यक्ति हु जिसके साधारण से सपने थे लेकिन मुझे बहुत मिला जो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था..मैं एक इंजिनियर बन कर नाम कमाना चाहता था पर पढाई के बाद जॉब न मिलने के कारण मैं सिविल सर्विस की तयारी करने लगा शुरवाती मुस्किलो और तकलीफों के बाद सफलता भी मिली..आज मैं एक वन अधिकारी हु..दुतीय वर्ग की जॉब है..और उपरी कमाई बहुत जादा.
नौकरी लगने के बाद से ही घर वाले शादी के लिए पीछे पड़ गए.उन्होंने एक लड़की भी पसंद कर ली थी..एक बहुत ही अच्छा परिवार था समाज में इज्जत थी,और लड़की पड़ी लिखी थी पता चला की लड़की का कॉलेज मुंबई से हुआ है और अभी अभी कॉलेज ख़तम कर गाव आई है.मुझे एक सीधी साधी घरेलु किस्म की बीवी चाहिए थी न की बहुत मोर्डेन..लेकिन घर वालो ने कहा की वो मुंबई में पढ़ी जरूर है लेकिन बहुत ही सीधी और अच्छी है..यु तो मुझे लगा की उनकी बात झूटी है क्योकि बड़े शहर की लड़की कितनी घरेलु होगी लेकिन घर वालो को मन तो नहीं कर सकता था,मैं भी एक सीधा साधा इंसान हु.भारी मन से ही सही मैं लड़की को देखने पहुच ही गया...
आपको एक अधिकारी होने की अहमियत तब समझ आती है जब लोग आपको इतना सम्मान देते है..मुझे ऐसा सम्मान मिल रहा था की मैं बहुत महत्वपूर्ण व्यक्ति हु.वो लोग बहुत ही संपन थे बड़ा बंगला था नौकर चाकर बहुत सी खेती..घर के सभी लोग बहुत पढ़े लिखे तथा जहीन किस्म के लग रहे थे.लड़की ३ भाइयो की एकलौती छोटी बहन थी सभी भाई शादी शुदा थे..परिवार के रवैये से लगता था की अपने घर की इकलोती बेटी को बहुत ही प्यार से पला है.मुझे समझ आ रहा था की मेरे परिवार वाले इस रिश्ते को लेकर इतने उतावले क्यों है,मैं एक माध्यम वर्गीय परिवार से हु जहा लोग पढाई करते है और नौकरी में ही धयान देते है,इतनी शानो शौओकत की आदत भी नहीं है, आख़िरकार लड़की बाहर आई और मैं देखता ही रह गया..इतनी सुंदर इतनी जहीन प्यारी हे भगवान मैं कितना मुर्ख था जो इस लड़की के लिए ना कर रहा था..बड़ी बड़ी आँखे गोल चहेरा बिलकुल काजल अग्रवाल की तरह दिख रही थी.नाम भी उसका काजल ही था,चहरे पे इतनी मासूमियत थी की लगता ही नहीं था की ये कुछ जानती भी होगी..चाय नाश्ते और मेरे परिवार वालो से बात करने के बाद ही मुझे समझ आ गया की ये लड़की जितनी भोली दिख रही है उतनी समझदार भी है.घर में सबकी लाडली है पर कोई कारन नहीं था की इसके घर वाले इसपे गर्व न करे..बातचीत का सलीका इतना जहीन था की कोई भी कह सकता था की वो एक उच्च वर्ग की पढ़ी लिखी लड़की है..आख़िरकार वो वक्त आया जिसकी मुझे तलाश थी उसे कहा गया की बेटी विकास को घर दिखा के आओ साथ में उसकी छोटी भाभी जी बी भी हो ली..पूरा घर देख हम छत में पहुचे और भाभी जी ने हमें कुछ देर बात करने अकेला छोड़ दिया..
कुछ देर की चुप्पी मैंने ही तोड़ी ‘तो आप का रिजल्ट क्या हुआ,होटल मनेज्मेंट कर रही थी न आप’
उसने चहेरा उठाया होठो पे हलकी मुस्कान और शर्म साफ दिख रहे थे,’जी ठीक ही है,’
‘आप इतनी पड़ी लिखी है मुझसे शादी कर आपको जंगली इलाको और छोटे शहरो में रहना पड़ेगा आपके कैरियर का क्या होगा.’मैंने अपनी शंका जाहीर की जो मुझे बहुत देर से सता रही थी.’
‘जी मझे प्राकृतिक जगहे पसंद है,और जहा मेरे पति का जॉब होगा मैं वही रहूंगी,मैं मुंबई में पढ़ी जरूर हु लेकिन मेरे संस्कार तो गाव के ही है,और कैरियर का क्या है मैं कही भी अपना करियर बना सकती हु अगर मेरे पति साथ दे तो’ उसकी बात सुन के मेरी तो बांछे ही खिल उठी..मेरे दिल में एक सुकून आया की कम से कम ये मुझे अपने कैरियर के कारन रिजेक्ट नै करेगी..मेरे मन में एक और सवाल घूम रहा था पुछू की उसका कही कोई चक्कर तो नहीं है लेकिन इतनी प्यारी और समझदार लकी से पूछना उसकी बेइजती करने जैसा था.
लेकिन मैंने कुह घुमा के ही पूछ लिया ‘आप इस शादी से खुश तो है ना,,,मेरा मतलब कोई प्रोब्लम तो नहीं ‘
‘नहीं कोई प्रोब्लम नहीं लेकिन मैं आपको कुह बताना चाहती हु,जो मेरे घर वालो को भी नहीं पता लेकिन मैं आपको धोखे में नहीं रख सकती..’मेरे तो दिल की धड़कन ही रुक गयी ये लड़की तो मुझे चाहिए ही थी पता नहीं क्या बोलने वाली थी.’
‘जी जी बोलिए’मैं थोडा उत्सुक होते हुए पूछा
‘वो ऐसा है की..’उसके मासूम चहरे पे बेचैनी के भाव उभर रहे थे उतनी बेचैनी मुझे भी थी..’वो मैं वर्गिन नहीं हु ‘..इतना बोल के वो सर झुका के कड़ी हो गयी उसका चहेरा शर्म से लाल हो गया ऐसा जैसे टमाटर हो,शायद शर्म से ज्यादा ग्लानी के भाव थे.
हमारे इंडिया में लड़की का वर्गिन होना उसके चरित्र का प्रमाण मन जाता है,लेकिन मैं हमेशा से इसके खिलाफ हु एक लड़की का भी दिल होता है,हम लड़के लडकियों के पीछे कुत्तो की तरह पड़े होते है और जब लड़की हम पर भरोसा कर हमें अपना कौमार्य शौप दे तो वो चरित्रहिन हो जाती है,मैं अपने कई दोस्तों को जानता हु जिन्होंने न जाने कितनी लडकियो को भोगा है लेकिन उन्हें भी शादी एक वर्गिन लग्की से करनी है,,
मैंने चहरे पे एक मुस्कुराहट के साथ उन्हें देखा ‘ओ ओ ओ ऐसा है,बॉयफ्रेंड था या..’
उसने मुझे शरारत करते देख कुछ आशचर्य से देखा ‘देखिये मुझे पता है की एक उम्र में ऐसा हो जाता है.मेरी तरफ से आप निश्चिंत रहिये,आप अपने बारे में कुछ बताना चाहे तो आप बता सकती है,अगर आप सहज न महसूस करे तो कोई बात नहीं,और मुझे खुशी है की आपने मुझे धोखे में नहीं रखा.’
मेरी बात सुन उसके चहरे में आया ग्लानी के भाव जाते रहे और वह कृतज्ञता से मेरी ओर देखने लगी शायद कहना चाह रही हो धन्यवाद पर ओपचारिकता इसकी इज्जाजत नहीं दे रहा था.
‘आप मेरे अतीत के बारे में कुछ जानना चाहती है??’अब मैं थोडा सहज महसूस कर रहा था.
‘जो बित चूका उसके बारे में जानके क्या करना,’अब वो भी सहज दिख रही थी.मुझे तो डर था की कही वो मुझे उसे घूरते न देख ले,मैं उसकी मासूम से चहरे में खो ही गया था,पता नहीं कौन साला मेरी जान को भोगा होगा हाय सोचके ही मेरे शारीर में झुनझुनाहट सी दौड़ गयी..
Reply
12-21-2018, 09:41 PM,
#3
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
आखिरकार हमारी शादी हो गयी और वो दिन आया जिसका मुझे इन महीनो में रोज इंतजार था जी हा मेरी सुहागरात.....

रात के लगभग 10 बजे थे काली अमावस की रात और मैं छत में इंतजार कर रहा था की वो पल कब आये जब मझे बुलाया जायेगा,आज सुबह से ही मेरे सभी जीजा और बड़े भाइयो ने मुझे गुरु ज्ञान दें रहे थे सभी मुझे बताते की कैसे स्टार्ट करना है,पहले पहल तो सभी कुछ सुहाना लग रहा था पर अब मैं बोर हो चूका था..लेकिन वो बेचारे अपना दायित्व निभा रहे थे,मैं छत में खड़ा अपने ही रंगीन सपनो में डूबा था की मुझे बुलाने गाव की एक भाभी जी आई..”चलिए साहब क्या रात अकेले ही बिताने का इरादा है,वहा आपकी रानी जी तड़फ रही है और आप यहाँ अकेले खड़े है.”,रात के अंधियारे में भाभी का चहरा तो नहीं देख पाया पर उनकी अदा में एक जालिम पन था,एक मस्ती जो मुझे उत्तेजित करने को तथा शर्म में डूबने को काफी थी,मैं उनके पीछे ही चल दिया,कमरे में मेरे नए बिस्तर पर मेरी नयी नवेली दुल्हन शरमाये हुए सिकुड़ कर बैठी थी,चारो और मेरी भाभिया बहने सालिया और कुछ औरतो का जमावड़ा था उन्हें देख कर मैं शर्म से पानी पानी हो गया,मेरे आते ही वो मुझपर टूट पड़ी और मुझे उन्हें अच्छे पैसे देने पड़े लगभग सभी ने मुझे बेस्ट ऑफ़ लक कहा और मेरी जान का माथा चूमकर खिलखिलाते हुए भाग गयी.कमरा खली होने पर मैंने उसे बंद किया,मेरी धड़कन कुछ जादा ही चल रही थी मेरी सांसे कुछ बेकाबू सी थी,मैं उनके पास आया धीरे से बैठा उनका घूँघट पड़े प्यार से हटाया,उसकी नजरे अभी भी झुकी थी,कितना प्यारा चहरा जैसे लाली सुबह की,होठो पे हया कपकपाते लब,मैंने अपना हाथ उनके चहरे पे लाया उसके गर्म त्वचा का अहसास मेरे अंदर एक रोमांच का जन्म दे रहा था,”काजल”..
एक खामोसी सी थी,”काजल कुछ बोलो ना”,”मुझे देखो तो सही”
उसने बड़ी चंचलता से मुझे देखा जैसे एक छोटी बच्ची हो,उसकी आँखों में मासूमियत की बरसात थी,बड़ी आँखे शर्म से सुर्ख हो गयी थी,लबो की कपकपाहट अब भी कम नहीं हुई थी,गुलाबी से उसके होठ रस के प्याले से थे,किसी ताजा गुलाब की पंखुड़िया से कोमल,संतरे से रसदार जैसे अभी उनसे लहू की धार बह निकलेगी,मैं अनायास ही उसके लबो पे अपने उंगलियों को चलने लगा,उसकी चंचल आँखे बंद ही हो गयी,मैंने उसके मुड़े हुए पैरो को सीधा किया और वो मेरी गुलाम सी बस मेरे इशारो पे खुद को बिस्तर पर बिछा दिया,मैं उसके लबो को पीना चाहता था,पर मैं एक सीधा सा बंदा डर था की कही मेरी सनम रूठ ना जाये,”काजल आई लव यू”,
जवाब का इंतजार ही बेकार था,क्योकि उसने आंखे खोली और उसके आँखों ने ही कह दिया की की वो सहमत है..मैं उसके लबो से खेलता हुआ उसे खिचता हुआ अपने होठो को उस नाजुक से नर्म रसभरे मयखानों से मिला दिया..
सच में ये मयखाना ही था,मैं चूसता ही गया पर ये रस ख़त्म ही नहीं हो रहा था,काजल ने अपने हाथ मेरे पीठ पर लगा दिये उसने भी अपना सबकुछ मुझ पर समर्पित करने की ठान ली थी,लबो का रशावादन करने के बाद जब हम अलग हुए तो उसका चहरा लाल हो चूका था,लाल टमाटर की तरह,उसने मेरे चहरे को सहलाते हुए मेरी आँखों में देखा,”विकास जी आई लब यू,मुझे माफ़ कर देना की मै आपको वो नहीं दे पाऊँगी जो हर मर्द चाहता है,एक लड़की का कोमार्य,लेकिन मैं आपकी दासी बन कर रहूंगी,आपको वो सब दूंगी जो आप चाहो” काजल के आँखों में प्यार का मोती था,आंखे नम थी पर उनमे मेरे लिये अपार स्नेह मैंने देखा,”जान तू मेरी रानी है दासी नहीं,”मैंने उसके आँखों के पानी को अपने लबो में समां लिया,उस अपार स्नेह में डूब सा गया मैं उसे चूमता गया ना जाने कहा कहा,उसकी आँखों को लबो को माथे को,गालो को तो खा की गया,प्यार की गहराइ अब वासना का रूप ले रही थी,वासना और प्यार एक महीन दिवार से अलग अलग है,मनमें एक नाजुक सा बदलाव वासना को प्यार और प्यार को वासना बना देती है,मैं प्यार के तूफान में वासना के हिलोरो को महसूस कर रहा था,ये इतने महीन थे की इसके झोको ने मुझे बस सहलाया पर हिला ना पाई,हर चुम्मन मेरी जान की आह बन रही थी,और मेरे होठ ऐसे चिपके थे की कोई जोक हो,वो उसके चहरे से दूर ही नहीं हो रहे थे,उसका चहरा मेरे लार से भीग गया था वो आह ले रही थी जैसे वो बेहोश हो,उसने अपनी उत्तेजना के शिखर पर मुझे पलटा और मेरे उपर चुम्मानो की बारिश कर दी,उसने अब मेरी जगह ले ली और मैंने उसकी अब मैं कहारे ले रहा था और मेरी नयी नवेली नाजुक सी जान मेरे उपर उपर अपना पूरा प्यार लूटा रही थी,,ये प्यार का तूफ़ान ऐसा चल निकला की मैं जानवरों सा वर्ताव करने लगा मैं उसे नोचने लगा कभी वो मेरे उपर होती कभी मैं उसके उपर,हम इतने मगन थे की हम एक दुसरे के कपड़ो को फाड़ने लगे,मुझे होश भी ना रहा की कब मैंने उसको उपर से नंगा कर दिया है और खुद भी मेरे कपडे उतरे हुए है,हम अब सिर्फ चहरो तक ही सिमित नहीं रहे अब हम बदन को सहला रहे थे,चूम रहे थे अपने लार से एक दुसरो के बदन को भिगो रहे रहे थे,हम प्यार के नशे में इस कदर से डूबे थे की हमें ना अपना ही होश था ना समय का,ना कोई शर्म बची थी ना कोई समझ..मैंने उसके नाजुक नर्म उजोरो को चूमने लगा जो पर्वत शिखर से उन्नत थे,उन नुकीली सी छोटे पर्वत पर मैंने अपना मुह भर दिया,मैं उससे ऐसे दबा रहा था जैसे आज उनका पूरा दूध निचोड़ कर रख देना चाहता हु..काजल की सिस्कारिया बढ़ रही थी वो उत्तेजना में मेरे पीठ पर नाखुनो को गडा रही थी,अपने दांतों से मेरी पीठ पर घाव कर रही थी पर फिकर किसे थी,उसने अपने हाथो से मेरे सिर को दबा रखा था,मैं निचे आने लगा और वो लगभग उत्तेजना में चीखने सी लगी मैंने उससे उसके अन्तःवस्त्र से निजात दिलाया और उसकी प्यारी सी गुलाब की पंखुडियो को अपने अंदर सामने के लिये अपना मुह लगा चूसने लगा,अपने लार से उसे भिगोने लगा जो पहले से गिला था,वोकामरसका स्वादन मुझे दीवाना बना रहा था,मैंने अपना सर उठाना चाह पर काजल की पकड़ अब और मजबूत हो चुकी थी वो तो जैसे मुझे अपने काम के द्वार पर सामना चाहती थी..फिर भी मैं काजल का चहरा देखना चाहता था,मैंने नजरे उठा कर देखा वो तो खोयी सी थी बस आँखे बंद और सिसक रही थी,अचानक वो अकड़ने लगी और अपने संतुष्टी का रस की धार छोड़ दी...उसने मुझे अपने से अलग किया उपर खीचा और मेरे होठो को अपने लबो में भरकर पूरा रसावादन किया,उसने देर ना करते हुए मेरे निचे के वस्त्रो को भी आजाद किया और मेरे अकड़े हुए लिंग को अपने हाथो में भरकर अपने घाटी में रगड़ने लगी,मुझे लगा अब मैं अपनी जान के अंदर जाने वाला हु..काजल ने उत्तेजना में भरकर मेरे कानो को चूमा “जान मुझे अपना बना लो,भर दो मुझे अपने प्यार के तूफान से प्लीस,,मै अपने आपको आपके हवाले करती हु मैं आपके लिये समर्पित हु,आई लव लव लव यू जान”,उसने एक झटके में मुझे अपने भीतर प्रवेश दे दिया मैं उसके ऊपर आ कर कमान सम्हाली और धीरे धीरे कर उसके अंदर समाने लगा,मुझ जैसा अनाड़ी कैसे एक खिलाडी के तरह घुड़सवारी कर रहा था ये तो आश्चर्य ही था,हम एक दुसरे में समाने लगे,कभी तेज कभी धीरे,कभी चुम्बन कभी फकत तडफन,होठो का मिलना और मिल ही जाना...तेज तेज और तेज...बस समय रुक सा गया सांसेभीझटको के साथ लयबद्ध हो गयी,आखिर प्यार का मुकाम आया और मैंने उसे पूरा भिगो दिया...उसने भी मुझे भीच कर अपने अंदर डूबने में सहायता की,और पंखुडियो को सिकोड़ कर मेरा प्यार पि गयी...
अब बस सांसे रह गयी जो सम्हालना चाहती थी,धड़कने फिर से अपने गति में आ रही थी और उस शांति में बचा था बस प्यार...लिपटे हुए शारीर पर एक होने का अहसास था..अब काजल मेरी थी,और मै उसका...
Reply
12-21-2018, 09:41 PM,
#4
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
आज सुबह कुछ और थी,मैं चादर में लिपटा हुआ नंगे जिस्म में अपनी जान से लिपटा हुआ था,उसके बदन की खुसबू उसके बसन की गर्मी के अहसास ने मुझे फिर से उत्तेजित कर दिया,कल रात की बेपनाह मोहब्बत को याद कर मैंने काजल के चहरे पर चुम्बनों की बरसात कर दी लगभग 4 बजे का वक्त था और मेरे प्यार का परवाना फिर से चढ़ रहा था,मैंने अपने जिस्म को उसपर लाद कर उसके अंदर समाने की कोशिस की काजल ने पूरा सहयोग देते हुए मुझे अपने अंदर समां लिया वो प्यार का उफान गहरातागया पर उस शिद्दत से नहीं जैसा रातको था पर प्यार तो प्यार ही है ना,सुबह काजल अपने काम में व्यस्त हो गयी आज मुझे अहसास हुआ की वो कितनी जिम्मेदार है,घर में सभी इतने खुश कभी नहीं दिखे,कुछ दिन घर में बीते और मेरे काम पे वापस लोटने की घडी आ गयी....
मैं अपनी नयी नवेली बीवी के साथ केसर्गढ़ घाटी पंहुचा जहा मेरी पोस्टिंग थी,ये इलाका जंगली क्षेत्र था लेकिन बहुत ही मनोरम और शांत,मुझे एक छोटा सा बंगला और सरकारी गाढ़ी मिली हुई थी साथ ही एक नौकर था जिसका नाम प्यारे था,एक ड्राईवर रहूराम जिसे प्यार से रघु कहते थे एक माली था जिसे रवि कहते है..तीनो मेरे खास थे और मेरे स्वागत की तैयारी में कोई कमी नहीं रहने दिया,मेरे बंगले को पूरी तरह सजाने की जिम्मेदारी रघु की बीवी को दिया गया था जिसने अपनी मालकिनकेस्वागत में कोई कसर नहीं छोड़ी,सभी काजल से मिलकर बहुत खुश थे और काजल भी सभी से बहुत खुस दिख रही थी..मुझे लग ही नहीं रहा था की ये लड़की मुंबई जैसे शहर में रहकर पढ़ी है..मैं अपने काम में बिजी हो गया,मुझे १००००० पेड़ लगाने का काम मिला कुछ आदिवासियों और सरकारी नौकरों के साथ मिलकर ये काम करना था..
दिन बीतते गये और मेरा टारगेट लगभग पूरा हो गया,काजल की और मेरा धयान थोडा कम सा हो गया ऐसा नहीं की हम में प्यार नहीं होता था पर मैं अधिकतर जल्द बाजी में रहता था,उपर से प्रेसर था की कामजल्दी करो,काजल समझदार लड़की थी और मुझे बहुत सपोर्ट करती थी,वो मेरा पूरा धयान रखती थी और मुझे मेरे काम को लेकर भी सुझाव देती थी को अकसर बहुत अच्छे होते थे क्योकी वो किसानो और कम पड़े लिखो से डील करना अच्छे से जानती थी...हमारी शादी को 3 महिना बीत गया,मेरे और उसके घर से बुजुर्ग भी हमारे साथ रहने आये और ओनी बहु और दमांद के गुण गाते चले भी गये.....मैं अपने लाइफ में मस्त था,मुझे मेरे कम के लिये शाबासी भी मिली मैंने अपने बंगले के पास कुछ पेड़ो को गोद लिया जहा मैं वाक पे जाया करता था,उनकी देखभाल की जिम्मेदारी ली,वहा मुझे एक सैगोन का मोटा सा पेड़ बहुत पसंद था,यह पेड़ मुझे मेरे और काजल के रिश्ते की यद् दिला दिया,मजबूत और किमती....मैंने इस पेड़ को काजल नाम दिया..
मै अपनी दोनों काजलो को देख कर सम्मोहित सा हो जाता था,एक मुझे घर में खुश करती दूसरी बगीचे में..
लेकिन वक़्त को शायद कुछ और ही मंजूर था,शायद मेरी तडफन,मेरी अजीब सी उलझन,मेरा शिद्दत का प्यार पता नहीं क्या,शायद मेरी बेवकूफी या और कुछ लेकिन कुछ तो था...

मैं अपनी दुनिया में मस्त या ये कहू सबसे बेखबर सा जी रहा था,लेकिन कुछ ऐसे वाकये घटने लगे की मुझे अपनी दुनिया में धयान देना पड़ा.शुरुवात होती है उस रात से जब हम रात को प्यार में थके सोये थे और काजल का मैसेज टोन बजा मझे हलकी नींद थी इसलिये मैं जग गया,देखा तो काजल सोयी हुई थी मुझे समझ नहीं आया की बजा क्या मैं फिर सो गया पर काजल की हलचल हुई और वो उठकर बहार चले गयी मुझे ये सब बहुत ही साधारण सी बात लगी,दुसरे बार नींद खुलने पे भी काजल नहीं दिखी क्योकि रात में कमरे में अँधेरा था मैंनेउठकर लाइट जलाई काजल को आवाज देते बेडरूम से बहार आया,काजल की आवाज आई क्या है जी..”कहा हो जान”,”अरे मैं किचन में हु,पानी पिने आई थी,आप क्यों उठ गए,””वो तुम्हे अपने बगल में ना पाकर मैं देखने चला आया” मैं किचन की तरफ जाने लगा पर काजल आती हुई दिखी उसके बाल बिखरे थे और सिन्दूर भी फैला था,मुझे लगा की हमारे प्यार करते समय हो गया होगा ऐसे भी रात में कोई अस्त व्यस्त दिखे वो साधारण सी बात है...उसके नायटी में पड़ी सिलवटे मुझे रात के कसमकस की याद दिला रही थी उसने अभी भी अपने अन्तःवस्त्र नहीं पहने थे,मेरा मूड उसे देख के फिर से बन गया..
“आप भी ना नहीं थी तो क्या हुआ,अपनी नींद क्यों ख़राब करते है मैं तो दिन भर सोती हु मुझे रात में नींद नहीं आती इसलिए बहार भी घुमने चले जाती हु..”
वो मेरे पास आई और मैंने उसे पकड़ लिया,मेरी पकड़ से उसे भी समझ आ गया की मैं क्या चाहता हु,मैंने उसकी योनी में अपना हाथ फेरा पर ये क्या,वो तो पहले से ही बेहद गीली थी,मुझे कुछ आश्चर्य जरूर हुआ पर काजल ने मुझे पकड़ बेडरूम में ले गयी और मेरे उपर चढ़ गयी,”मुझे प्यार करने का बहुत मन कर रहा है..”
मैं समझ गया वो इसलिए गीली थी,खैर प्यार का सैलाब आया और काजल ने पुरे जोश में मेरा साथ दिया...
बस मैं खुश,और मुझे क्या चाहिए था...
काजल की कोई भी हरकते मुझे अजीब नहीं लग रही थी,उसका सजना सवरना,मझे तो बस प्यर ही दिखाई देती थी,हाथो में भरे हुए चुडिया,माथे में मेरे नाम का सिन्दूर,गोरा रंग जो दमकता सा था,होठो में प्यार की लाली,वाह पतली कमर बलखाता भरी पिछवाडा,मुझे दीवाना बनाने के लिए काफी था,वो बस देख के हस देती तो मेरी सारी तकलीफे ख़तम हो जाती थी,मैं बहुत खुश था..
सुबह उठ मैं बगीचे में घुमने चला गया,आज कुछ आस पास के बच्चो को खेलता देख रहा था,मैं दूर बैठा अपनी दूसरी काजल को निहार रहा था,कुछ बच्चे काजल के पास जा कर उससे लिपटने लगे,एक तो पत्थर से उसपर अपना नाम लिखने की कोशिश कर रहा था,मुझे ये देख के थोडा अजीब लगा लेकिन अचानक ही मैं गुस्से से भर गया,मेरी काजल पे अपना नाम..मैं गुस्से में उठा पर बच्चो से क्या बहस कर सकता था,मैं जाकर उन्हे डाटने लगा क्यों पत्थर से इसे क्यों गोद रहे हो..
शायद मेरी आवाज थोड़ी जादा थी क्योकी बच्चो के माँ बाप भी आ गए थे,”क्या हुआ सर “
वो मेरे ही ऑफिस का बाँदा था “कुछ नहीं यार ये बच्चे इस पेड़ में पत्थर से अपना नाम लिख रहे है..”
उसने बच्चे को डाटा शायद वो उसका ही बच्चा था,बच्चे में मुझे मासूमियत से घुरा
“अंकल जब ये (उसने पेड़ की तरफ ऊँगली दिखाते हुए कहा ) कुछ नहीं बोल रही तो आप को क्या प्राब्लम है..”
मैं उस बच्चे को घूरने लगा,”क्यों ये कैसे बोलेगी”
“ये भी बोलती है,इसे छू के देखो ये बहुत खुस है मेरे नाम लिखने से..”
उस बच्चे का बाप थोडा घबराया लेकिन बच्चे ने जाते जाते एक तीर और छोड़ दिया,”जब वो खुश है तो आप भी उसे देख के खुश रहो ना”
बच्चे ने क्या समझ के ये बाते की मुझे नहीं पता लेकिन मैंने काजल को छू ही लिया और सचमुच मुझे एक उमंग सी दिखायी दी जो मुझे कभी उसमे नहीं दिखाती थी..
मैंने आश्चर्य से उस पेड़ को देखा,और मेरे दिमाग में बच्चे की वो बात गूंज गयी ”जब वो खुश है तो आप भी उसे देख के खुश रहो ना”

सुबह मेरा नौकर प्यारे बहुत खुश दिख रहा, प्यारे लगभग 50-55 का था और हमारे ही बंगले में रहता था,उसके बेटे ने उसे घर से निकाल दिया था और बीवी की मौत हो चुकी थी वो सरकारी नौकर नहीं था,पर अधिकारियो की कृपा से उसे ये जॉब मिली थी,वह फौज में भी कम कर चूका पैर खेती करने ले लालच में पूरा पैसा लगा गांव में जमींन ली,मेहनत से अपनी फसलो को सीचा,और अच्छे पैसे भी कमाय पर पुत्र मोह में आकर सब बेटे के नाम कर दिया और एक मामूली सी बात के लिए बेटे ने उसे घर से बहर निकल दिया,खैर अब वो मेरे ही बंगले में रहता था और सालो से उसने अनेक अधिकारियो की सेवा की थी..मैंने कभी उसे इतना खुश नहीं देखा था,उसका मेहनती देह आज दमक सा रहा था,और मुझसे उसकी ख़ुशी छुप ना पायी..
“क्यों प्यारे जी आज बहुत दमक रहे हो”,मैंने नास्ता करते हुए कहा..
प्यारे ने अपना कम करते हुए काजल की और देखा,जो मेरी बातो सुन कर मुस्कुरा रही थी..
“हा साहब जी जब से बहु रानी आई है मन में ख़ुशी ही रहती है,इनको देख के ही सारे दुःख दूर हो जाते है..”
“अरे वाह काजल इतना असर है तुम्हारा,मैंने इसे कभी इतना खुश नहीं देखा था..”काजल ने बस मुस्कुरा के अपनी नजरे झुका ली..
मैं नाश्ता करके घर से बाहर आया तो बाहर माली रवि झाड़ियो की कटाई छटाई कर रहा था,रवि पास ही रहता था और सरकारी नौकर था आसपास के सभी बंगलो में वही काम करता था,रवि और प्यारे की अच्छी बनती थी रवि लगभग 35 का था और अपने घर से दूर रहता था,ये भी बेचारा अपने तक़दीर का मारा था और अभी तक कुवारा था,घर में भाभी भैया थे जो इससे बिलकुल भी प्यार नहीं करते थे,,और इसकी भाभी के खतरनाक व्यवहार के कारन उसे शादी से नफरत थी,खैर दो दुखी आत्माओ(प्यारे और रवि) अपना गम कभी साथ दारू पीकर कम कर लेते थे इनका एक और साथी था रघु,मेरा ड्राईवर ऐसे तो वो सरकारी गाड़ी चलता था पर मेरी पर्सनल कार भी वक्त पड़ने पर चला दिया करता था,रघु लगभग 30 साल का था और बीबी बच्चो वाला था...
रवि को देखकर मैंने स्माइल दी पर वो देखकर खड़ा हो गया और सलाम किया,कार में बैठने के बाद मैंने मुडकर काजल को देखा वो मुझे देखकर सबकी नजरो से बचकर एक फ्लियिंग किस दे दिया,और मैंने भी अपने दिल में हाथ उसका जवाब दिया....

वाकये कुछ ऐसे ही चल रहे थे,करीब महीने बित गए बगीचे में उस बच्चे ने अपना नाम मेरी काजल पर लिख ही दिया और मैं देखता रहा,उसके साथ ही कुछ और बच्चे भी उसमे अपना नाम लिखने की कोसिस कर रहे थे जिसके कारन वो उसे रोज छिल देते थे,ये सब मेरी आँखों के सामने हो रहा था और मैं बस देख रहा था,अपने प्यार को बर्बाद होते हुए,सोचता था की कभी उसके आंसू देख लू और रोक लू पर कोई आंसू नहीं दिखे,न ही कोई दर्द ऐसा लगता था की वो उस दर्द का ,मजा ले रही है,इधर घर में वही सिलसिला शुरू था,मैं जब भी रात उठता काजल को बिसतर पे नहीं पता,थका होने के कारण मैंने धयान देना ही छोड़ दिया था,तभी मुझे एक लेपटॉप की जरूरत महसूस हुई,और मैंने एक अच्छे मोडल का लेपटॉप खरीद लिया,दुसरे ही दिन मैंने आदत के मुताबिक तैयार हुआ लेकिन लेपटॉप को देखकर उसे खोल कर विडियो रिकाडिंग चालू कर दी,मैं बस चेक कर रहा था लेकिन जल्बाजी में उसे बंद करना भूल गया और नास्ता करने चले गया,मुझे क्या पता था की ये छोटी सी गलती मेरे जीवन का नया अध्याय लिखने वाला है,
मैं आफिस पहुचकर अपने काम में बिजी सा हो गया,दोपहर में मुझे याद आया की मैं तो विडिओ की रिकॉर्डिंग बंद करना भूल ही गया हु,मैंने फोन उठा के काजल को डायल किया लेकिन मेरे दिल में अजीब सी कसक उठी की आज मेरी जान क्या कर रही होगी,अगर मैंने उसे ये बता दिया की रिकॉर्डिंग चालू है तो काजल विडिओ भी डिलीट कर देती मैंने उसे कुछ न बताने और चुपके से उस विडिओ को देखने का प्लान बना लिया...
घर पहुचने पर देखा की रिकॉर्डिंग अब भी चालू है लेकिन स्क्रीन बंद हो चुकी थी काजल को लगा होगा मैंने शटडाउन कर दिया है,मुझे आश्चर्य इस बात का था की काजल जो की दिन भर बोर होती होगी नए लेपटॉप को छुआ भी नहीं था,मुझे लगा की कम में व्यस्त रही होगी लेकिन क्या काम घर का पूरा काम तो प्यारे कर देता है बस काजल खाना बनाने का काम करती है,खैर आज इतना तो पता चल ही जाना था....
Reply
12-21-2018, 09:41 PM,
#5
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
मैंने विडियो अपने मोबाईल में डाली ताकि आराम से ऑफिस में देख सकू,दुसरे दिन ऑफिस में जाकर मैंने विडियो स्टार्ट किया,मेरे जाने के बाद काजल नहाने चली गयी जब वो गिले बालो के साथ निकली जैसे कोई ओश की बूंद ताजा हरी घास पर अटखेलिया कर रहा हो,मेरे सामने मेरे बेडरूम का पूरा नजारा था पर मैं अपने जान के चहरे को देखकर दीवाना हो रहा था,उसकी लाली ताजा सेब की तरह,टबेल में लिपटी हुई बलखाती कमर उन्नत वक्ष जो तोलिये मे लिपटे हुए भी अपने शबाब की झलक दिखा रहे थे,उसने अंग अंग को आईने में निहारा और बड़ी शरमाते हुए अपने कपडे उठा लिए मुझे लगा था की वो अपना तोलिया गिरा देगी लेकिन उसकी शर्म ने मेरी जान की इज्जत मेरी नजरो में और बढ़ा दी,वो अकेले में भी अपने नग्नता से शर्मा रही थी, वही नग्नता जिसका भोग मै हर रोज करता आ रहा था,उसने बड़े सलीके से अपनी साड़ी पहन ली और पुरे मनोयोग से सजने लगी,उसने गहरा सिन्दूर अपने माथे में लगाया और चूडियो को हाथो में डाल कर चूम लिया ये देख मेरे दिल में ऐसा प्यार जगा की अभी फोन कर उसे चूम लू पर मैंने घर जाकर जी भर प्यार करने का फैसला लिया,जब वो सजके तैयार हो गयी तो उठकर बिस्तर के पास आई और मेरी और उसकी फोटो को उठा कर चूम लिया मेरा दिल तो भर आया की कोई किसी को इतना प्यार कैसे कर सकता है,वो कमरे से बहार चली गयी और मैं अपनी ही सोच में डूब गया,की मैं कितना खुश किस्मत हु,लगभग 1 घंटे का कमरा खाली रहा और कोई आवाज भी नहीं आई लेकिन अचानक किसी के हसने की आवाज आई मैं विडिओ फॉरवर्ड करके देख रहा था लेकिन कुछ परछाई सी कमरे में हुई जैसे कोई हाल में दौड़ रहा हो,मैंने विडिओ फिर दे देखा मुझे आवाजे भी सुनाई दी,जैसे काजल हस कर दौड़ रही है...मेरा माथा खनका,मैंने कुछ बुरा नहीं सोचा था न ही सोचना चाहता था,पर ये अजीब था,क्यों काजल ऐसे हस कर दौड़ रही है,लगभग 1 घंटो का फिर सन्नाटा रहा,तभी काजल रूम में आई लेकिन ये क्या उसके पुरे बाल बिखरे सिन्दूर फैला हुआ साड़ी ऐसे सिकुड़ी जैसे किसी ने बुरी तरह मसला हो,आते ही उसने मेरे फोटो को ऐसे ही चूमा जैसे जाने के पहले,उसके चहरे में संतोष के भाव थे ये भाव और उसकी वेशभूषा ऐसे ही थी जैसे मेरे प्यार करने के बाद होती थी या रात में जब वो घूम कर आती तब......
वो फिर से बाथरूम चली गयी और आकर सो गयी उठाने पर फिर सजधज बहार निकली तो तब तक नहीं आई जब तक मैं नही आ गया,.....

.इस विडियो ने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया की क्या मेरे पीछे कुछ हो रहा है जिसकी मुझे भनक नहीं हो पा रही है,दिल कुछ गलत सोचने से भी इंकार कर रहा था पर दिमाग ने एक अंतर्द्वंद की स्तिथि पैदा कर दी थी,काजल का प्यार महसूस कर और देखकर मैं सोच भी नाही पा रहा था की वो मुझे कभी धोखा भी देगी,मैंने आँखों देखि साँच पर ही विश्वाश करने की ठान ली,और भगवान से दुआ की की मेरा दिमाग गलत हो,..........

आज भी घर आकर मुझे काजल का वैसा ही प्यार मिला जैसा रोज मिलता था,लेकिन आज मैं एक बोझ में था उस हकीकत का बोझ जो अभी मेरी कल्पनाओ में था,काजल के चहरे पर कोई सिकन न थी न ही कोई ग्लानी के भाव,वही मुस्कुराता मासूम सा चहरा,वही नश्छल आँखे,मैं उसका चहरा देखता ही रहा अपलक निर्विचार,
क्या देख रहे है आप,आज कुछ खामोश से है,कोई प्रोब्लम है क्या ऑफिस में,
नहीं बस सोच रहा था की तुम कितनी सुंदर हो,क्यों हो इतनी मासूम,इतनीं निश्छल,इतनी पावन,
काजल ने मुझे घुर कर देखा,.क्या हुआ है आपको
कुछ नहीं आज कोई आया था क्या नहीं तो क्यों बस ऐसे ही
काजल को शक तो था की मुझे कुछ हुआ है पर मैं उससे क्या कहता की मैं तुमपे शक कर रहा हु, क्या पूछता उससे की क्या वो किसी गैर मर्द के साथ,,छि छि मैं इतना कैसे गिर सकता हु की काजल के बारे में ऐसा सोचु..मैं प्यार से काजल के पास गया और उसे अपनी बाहों में भर लिया,मेरे आलिंगन में एक गहरा प्यार था जिसका आभाष काजल को हो गया था,उसने अपना सर पीछे करते हुए मेरे होठो को अपने होठो से रगड़ना शुरू कर दिया मैंने भी अपना मुह खोल उसके प्यारे गुलाबी लबो के रस का पान करने लगा...
हम डायनिंग टेबल के पास खड़े हो अपनी प्रेम लीला में खोये हुए थे,ये तन्द्रा तब टूटी जब प्यारे खासते हुए कमरे में प्रवेश किया,काजल तुरंत मुझसे दूर हो गयी उसकी आँखे शर्म से झुक गयी,मैं भी थोडा शर्मिन्दा हुआ पर जब मैंने प्यारे को देखा तो मै निश्चिंत हो गया क्योकि वो एक आश्चर्य से हमें निहार रहा था जैसे पूछ रहा हो क्या हुआ ऐसे क्यों रियेक्ट कर रहे हो..
रात मैंने काजल को जी भर के प्यार किया पर आज मैं बहुत उतावला दिख रहा था काजल के कई बार मुझसे कहा की आराम से मैं कही भागे थोड़ी जा रही हु पर मेरा दिल कहता रहा इसे दूर मत कर जैसे अगर मैं उससे दूर हुआ तो कभी मिल नहीं पाउँगा,मैं उसके जिस्म को घंटो तक चूमता ही रहा हर कोनो को चूमता रहा मेरे लार से उसका पूरा बदन चिपचिपा हो गया था ऐसी कोई जगह न बची थी जो मैंने अपने लार से भिगोया न हो,...
आज काजल की गहरइयो में न जाने कितने देर तक सैर करता रहा,उसे अपने प्यार से भिगोया उसके शारीर में अपने वीर्य की धार छोड़ी और उसे उसके पुरे शारीर में लगाया,आम तौर पर मैं जो नहीं करता वो सब आज किया और काजल???काजल मेरी बेकरारी से बहुत खुश थी मेरी हरकते उसके चहरे पे मुस्कान ले आती थी और मैं उसकी मुस्कान को देखकर और भी बेताब और उग्र हो रहा था...
आँखे बंद किये हुए उसके चमकीले और लालिमा लिए चहरे पर वो मुस्कान जो प्रियतम के सताने पर प्रिय के चहरे पर आता है वो किसी कत्लगाह से कम कातिल और मैखाने से कम नशीला नहीं होता...
मैं प्यार के नशे में था या काजल के पता नहीं पर मैं नशे में जरूर था और मैं उसी नशे में जिन्दगी भर रहना चाहता था,,..
पर ये नशा कब तक का था ये तो वक्त की बात थी..

गहरा प्यार गहरी तृप्ति देता है मानो ध्यान की गहराई हो,इसीलिए तो अनेको तंत्र के जानकर सम्भोग की तुलना समाधी से करते है,मैंने भी काजल के गहरे प्यार में था और अपने जिस्म के परे अपनी रूह का आभास मुझे उसके प्यार में डूब जाने को मजबूर करता था,हमारा मिलन गहरे तलो पर होता था जो मेरे लिए किसी ध्यान या पूजा से कम न थी..उस रात हम सो ही ना पाए,शायद भोर में नींद आई,इतनी गहरी नींद जिसके लिए आदमी तरसता है,मुझे अपने प्यार से ही मिल गया,सुबह सुनहरी थी और मन में कोई ग्लानी के भाव नही थे,प्यार मन को स्वक्छ किये था,
सुबह फिर वही कहानी शुरू हो गयी,मैं सुबह वाक पे निकला और वही पेड़ वही बच्चो का उसे गोदना मैं फिर परेशान हो गया,वो पेड़ मुझे मेरी काजल की याद दिलाता है,कोई उसे चोट पहुचाय मुझे अच्छा नहीं लगता पर कभी कभी ऐसा लगता है की कही कोई मेरी काजल को तो चोट नाही पंहुचा रहा लेकिन काजल के व्यवहार से तो ऐसा नही लगता,और कौन है जो उसे चोट पहुचायेगा कभी मन भारी होने लगता,न जाने क्यों अब हद हो चुकी थी दिल और दिमाग की जंग जारी थी थका देने वाली जंग में आखिर दिल हार ही गया,दिमाग ने कहा एक बार तसल्ली कर ही लेते है दिमाग को तो शकुन मिल जायेगा,
यह शुकून कितना दुःख देने वाला था ये तो मैं नही जनता था लेकिन मैंने फिर अपना लेपटॉप का विडियो ओंन रखने का फैसला किया,ऑफिस से आकर मैंने विडियो अपने मोबाइल में डाल लिया,और रात एक बजे का अलार्म डाल सो गया,दिल इतना मचला हुआ था की नींद ही नही आ रही थी,आज कोई प्यार हमारे बीच नही हुई काजल शायद समझ गयी थी की आज मैं बहुत ज्यादा थका हुआ हु,लगभग एक बजे मैं उठा,अलार्म तो बज ही नहीं पाया था,देखा काजल आज भी नही थी,धडकते दिल के साथ मैं उठा और बिना कोई आवाज किये बाहर आया,काजल वहा नहीं थी,ना ही आहट ही थी,मैं बहार आ गया पर काजल नही दिखी मेरी धड़कने बड़ने लगी एक अजीब घबराहट ने मुझे घेर लिया था,एक अनसुलझी सी पहेली थी मैंने बहुत ही तेज रफ़्तार से अपने कदम बाहर बढाये पुरे बंगले में तलासने लगा कही कोई निशान न मिला,आख़िरकार मैं प्यारे के रूम में पंहुचा काजल की आवाज सुनाई दी दिल को तसल्ली हुई लेकिन अगले ही पल एक अजीब से कशमकश ने मुझे घेर लिया इतने रात को काजल यहाँ क्या कर रही है,दिल की धड़कने तो बड़ी साथ ही आँखों में खून उतर आया था,ये गुस्सा था जलन थी या कुछ और था मुझे नही पता पर मेरा शारीर जल रहा था,मैंने चाहा की जाकर सीधे काजल से पूछ लू ये क्या है पर मेरा दिल किसी भी तरह काजल को दोषी मानने को तैयार ही नहीं हो रहा था,मैं अंदर न जाकर बाहर से ही उनकी बाते सुनने लगा,
क्या करू ये तो पागल ही है,काजल की आवाज गूंजी,ये उसने लगभग खिलखिलाते हुए कहा था
लेकिन बहु रानी लगता नही की साहब आपको जादा प्यार करते है,आप तो उन्हें कितना चाहती है,
मैं सकते में आ चूका था,आखिर ये हो क्या रहा है,
नहीं काका वो मुझपर अपनी जान लुटाते है,उनकी आँखों में मैंने हमेशा अपने लिए सिर्फ प्यार ही देखा है,प्यार को देखने के लिए भी आँखे चाहिए काका काजल के बातो में एक गंभीरता थी,प्यारे ने थोड़ी देर कुछ न कहा फिर अच्छा बहु रानी चाय पियेंगी,आपके लिए लाल चाय बनाऊ ऐसे भी आपको नींद तो आएगी नहीं,
हा चाचा बना दो ना,क्या करू कॉलेज की पुरानी बीमारी है,रात भार नींद नहीं आती,और खामखाह आपको परेशान होना पड़ता है,
आप भी कैसी बाते कर रही है बहु रानी जब से आप आई है मुझे भी लगता है इस दुनिया में मेरा कोई अपना है,वरना....प्यारे की बातो में एक दर्द था,
बस हो गया आज से आप ऐसी बाते नही करेंगे,मैं हु ना,आपके दर्द बाटने के लिए, मैं आपकी हर सेवा करुँगी,काजल फिर हस पड़ी और प्यारे भी,
आप भी ना,मेरे भाग की आप मुझसे दो बाते कर ले,ऐसे बहु रानी मुझे साहब की किस्मत पर जलन होती है,असल में हर इन्सान को हो,आप सी प्यार करने वाली हर किसी के नसीब में नहीं होती,:
मैं वहा खड़ा हुआ खुद अपने नसीब पर फक्र करने लगा,की ऐसी बीबी है मेरी जो नौकर तक का दिल जीत ली है,इतने रात में एक नौकर के रूम में जाना ऐसे तो शक पैदा करता है पर मेरा शक जाता रहा,मैं सामान्य हो गया और वहा से चला गया,लेटे लेटे यही सोचता रहा की काजल इतना प्यार करने वाली है,सबको सम्मान देती है,अपने घर में भी सबकी लाडली है,यहाँ भी,इतने बड़े घर की बेटी इतनी पड़ी लिखी और नौकर के साथ चाय पि रही है,सिर्फ इसलिए की वो अकेला है,उसका दुख दर्द बाँट रही है,लगभग एक घंटे की बेचैनी ने मुझे सोने न दिया ओर काजल भी नहीं आयी मैंने सोचा क्यों न चाचा की चाय मैं भी पी लू,मैं बहार जाने लगा रूम के बाहर रुका एक उत्सुकता लिए की ये लोग क्या बात कर रहे होंगे,पर जैसे ही कानो में काजल की आवाज गूंजी मेरे पैरो की जमीन ही खिसक गयी,
हुम्म्म्मम्म काका हुम्म्मम्म एक नशीली आवाज काजल जैसे पुरे मस्ती में थी,
आह बहु रानी आह क्या जिस्म है तुम्हारा,बिलकुल मक्खन सा,आह आह आह कमरे से सिर्फ सिस्कारियो की आवाज ही नही आ रही थी बल्कि काजल की चुडिया और पायल भी एक लय में खनक रहे थे,छम छम की आवाजे सिस्कारियो से लयबद्ध थी,मैं इतना भी नादान तो नहीं था की उन सिसकियो और आहो का मतलब न समझ सकू मेरी चेतना जाने सी हुई,मैं जमीन में गिर ही गया आँखे पथरा गयी मुझे लगा ये कोई दुखद स्वप्न होगा जो कुछ देर में शायद चला जाय,मैं अपने आप को मारने लगा,ये सोच की अभी मैं जागूँगा और अपने को अपने बिस्तर में पाउँगा,लेकिन मैं गलत था,साली रंडी तुझे तो नंगा करके पुरे शहर में दौड़ाउंगा..आह आह प्यारे के ये शब्द ने मेरे सबर का बांध तोड़ दिया,मेरे आँखों में आंसू थे जो कुछ बूंदों में ही अपना सभी दर्द छिपाए हुए थे,,,,मैं प्यारे को जान से मारना चाहता था,लेकिन
जो आप चाहो कर लो आह,थोडा दम लगाओ न काका,मैं फूल हु मुझे रौंद दो रगडो नकाजल की उत्तेजना अपने चरम में थी,आहो की रफ़्तार में तेजी आ रही थी,मैं ठगा सा खड़ा रहा काजल कितना मजा ले रही है क्या मेरे प्यार में कुछ कमी है,लेकिन अभी कुछ देर पहले तो उसने ही स्वीकारा था की वो मुझसे और मैं उससे बेतहाशा प्यार करता हु फिर क्यों......
Reply
12-21-2018, 09:42 PM,
#6
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
मेरे सवालो का जवाब तो काजल ही दे सकती थी या प्यारे,अपने उत्तेजना के चरम पर वो बस आहे भरते रहे और एक पूरा माहोल उन आहो से गूंज उठा काजल को लगने वाले धक्के इतने ताकतवर थे की उसकी आवाज कामरस के चपचपाने की आवाज के साथ बाहर तक आ रही थी,वो सिर्फ वासना से भरो आवाज नहीं थी बल्कि मेरे प्यार का खात्मा था,....एक चीख के साथ ये खेल ख़त्म हुआ पर मैं कुछ बोलने के हालत में नहीं रह गया था,मैं आखो में अपने अरमानो की खाख लिए अपने कमरे में चला गया,मैं कोई सवाल पूछने या उसका उत्तर जानने के स्थिति में नहीं था,मैं अपने ही खयालो में खोया लेटा रहा,बहुत देर हो चुकी थी काजल नहीं आई मैंने अपनी आँखे बंद की ही थी,एक प्यारा सा चुम्मन मेरे माथे में किया गया,इतना प्यार भरा की उसके प्यार की गहराई को मैं समझ सकता था,मैंने आँखे खोली काजल अपने भग्न वेश में मेरे बगल में सोयी थी मैं अब भी उसे कुछ न कह पा रहा था,वो आज भी उतनी है ,मासूम लग रही थी,मैं अपने आप को ये भी न समझा पा रहा था की आखिर ये हकीकत है या कोई सपना,मैं काजल को बस देखता रहा जब तक मेरी आँखे नही लग गयी..............

मैं गया तो था शांति के लिए और ले आया कई सवाल,हा मुझे बाबा से गुरु मन्त्र मिल गया था,आँखे बंद करो और देखो की क्या हो रहा है,अपने अंदर झाको वही हर सवाल का जवाब है..
मैंने तय किया की बस देखूंगा जो चल रहा है,काजल को इसका आभास भी नहीं होने दूंगा,मैं ऑफिस में आकर कल की विडिओ को चालू किया पर कुछ खास हाथ नहीं आया,वही उसका सज धज के जाना और उजड़े हुए वापस आना,इतना तो समझ आ गया की मेरे घर में मेरी ही बीवी गैरो की हो चुकी है,घर जाने पर वही प्यार भरी बाते वही प्यार वही चहरा,इतना प्यार लुटाना की लगे किस्मत ने सब दे दिया है,पर काजल के प्यार में झूट नहीं था जो मुझे अंदर से झकझोर रही थी मैं मन ही नहीं पा रहा था की वो मुझे प्यार करती है,पर क्या करू कितना भी बुरा सोच कर भी मैं काजल के प्यार को झुठला नहीं पा रहा था,वो प्यार तो असली ही था,पूरा खालिस असली मन की गहराई से निकला हुआ,फिर क्यों ये धोखा...
रात बिस्तर पे मैं उदासीन ही रहा,लेकीन काजल से मेरे चहरे के भाव न छुप पाए,'क्या हुआ जान 
कुछ नहीं मैंने आराम से जवाब दिया 
कल से कुछ खोये से लग रहे हो सब ठीक तो है ना उसने मेरे बालो से खेलते हुए पूछ लिया 
हा सब ठीक ही तो है मैं एक शून्य में देखता हुआ जवाब दिया,
नहीं मैं आपको खूब समझती हु,आप कुछ तो छुपा रहे हो मुझसे,बताओ ना,'उसने जोर दिया और मेरे छाती पर अपना चुम्मन जड़ दिया,
तुम तो मुझे समझती हो पर क्या मैं तुम्हे समझता हु,'मेरे मन का द्वन्द दामने आ रहा था,मैंने मन ही मन एक फैसला कर लिया,
अच्छा बताओ तुम रात में कहा जाती हो,मैं कल भी तुम्हे रात में ढूंडा पर तूम बाहर भी नहीं थी,'जैसा मैंने सोचा था उसके विपरीत वो चौकि नहीं वो हसने लगी जैसे मैंने कोई मजाक कर दिया हो,
क्या तुम भी कहा जाउंगी यही थी,काका के पास बैठी थी,जानते हो वो बहुत अकेले और दुखी रहते है,और मुझे भी तो नींद नहीं आती न रात में जल्दी,'मैं बिलकुल स्तब्ध था की ये औरत इतनी शातिर कैसे हो सकती है की चहरे पे जरा भी शिकन नहीं आया..मैं गुस्से में मानो फुट पड़ा,
रात के 1-2 बजे तुम नौकर के पास जाती हो,नींद नहीं आता इसका क्या मतलब है,अगर किसी को ये बात पता चली तो जानती हो लोग क्या सोचेंगे पागल हो तुम,इतना समझ नहीं है तुममे,और क्या मतलब की वो अकेला है,दिन भर तो उसके साथ रहती हो न फिर तुम्हे रात में भी उससे हमदर्दी जतानी है...'
मैंने कभी काजल से इतने ऊचे आवाज में बात नही की थी,मेरा चहरा ताप रहा था,और काजल के आँखों में आंसू थे आज पहली बार मुझे उसके चहरे में आसू देख दुख नहीं हो रहा था,काजल ने अपने भरे नयन से मुझे देखा,भगवान इतना प्यारा भी किसी को न बनाये,डबडबाई आँखों पर से कुछ बूंद चहरे पर गिरे थे,अनायाश ही वो हुआ जिसका मुझे डर था मैंने आगे बड कर उसे चूम लिया और उसके आँखों का पानी अपने होठो पे पि गया ,मुझे खुद में आश्चर्य था की मैं ये कर रहा हु,लेकिन मैंने अपने आप को सख्त बनाये रखा,केवल बाहर से..काजल को इतना तो समझ आ गया था की मैं उससे जादा देर तक गुस्सा नहीं रह पाउँगा,वो मुझेसे एक भोले बच्चे की तरह लिपट गयी और सिसकिया लेती हुई मेरे छाती में अपना सर रगड़ने लगी,
मैं कभी ऐसा फिर नहीं करुँगी जान माफ़ कर दो अब कभी रात में घर से बाहर नहीं जाउंगी,'मेरे दिल में एक उमंग जगी लेकीन मैंने एक गलती कर दी
तो कसम खाओ मेरी 'हा मैं कसम खाती हु,'
ये मेरी बहुत बड़ी गलती बनने वाली थी जिसका मुझे उस वक्त अंदाजा भी नहीं था,
मैंने प्यार से उसका सर सहलाया मानो सब ठीक हो गया हो पर मैं भूल गया था की कुछ ठीक नहीं हुआ है,मैं उससे लिपटा अपनी प्यार की दुनिया में खो गया...पर...

मेरे अवचेतन ने मुझे जगा दिया क्योकि मैं जनता था कुछ ठीक नहीं हुआ है,लगभग 12 बजे का वक्त था,काजल अब भी मेरे बांहों में थी,ये जानकर मुझे शकुन भी मिला,लेकिन मैं काजल को ये अहसास नहीं दिलाना चाहता था की मैं जग चूका हु,थोड़ी देर बाद ही काजल का मोबाइल बीप किया काजल जैसे जग ही रही हो उसने msg पड़ा मैं हैरान था की वो एक घंटे से जादा समय से जग रही है,और मुझसे लिपटी हुई है,मुझे लगा था वो सो चुकी है पर ऐसा नहीं था,मैंने हलके से आँखे खोले उसे देखने की कोसिश करने लगा,उसके चहरे पर मुस्कान साफ दिखाई पड रही थी,उसने भी कुछ लिखा थोड़ी देर तक msg का ये सिलसिला चलता रहा,और उसने सर उठाया मैंने अपनी आँखे बंद की वो कुछ देर मुझे देखते रही उसकी सांसो से मुझे इसका अहशास हो गया,फिर उसने मेरे चहरे पर माथे पर kiss किया और मुझसे अलग हो चली गयी,उसके जाने की आहट ने मेरा दिल तोड़ दिया की उसने अभी तो मुझसे वादा किया था इतनी जल्दी क्या थी,मेरी नजर उसके मोबाइल पर पड़ी मैंने उससे उठा लिया,msg whatapp से किये गए थे मैंने msg चेक किये,प्यारे काका जी का msg था,
काका-'कितना तडफायेगी जल्दी आ न,'
काजल -'आज आपके पास नहीं आ पाऊँगी,मैंने इन्हें वचन दिया है,आप ही आ जाओ,'
काका-क्या अब ये क्या है,छोड़ भी इस वचन को
काजल-काका मैं जान दे सकती हु पर इनसे किया कोई वचन नहीं तोड़ सकती जानते हो न,अपनी औकात में रहो वरना मैं दिखा दूंगी,'मैं और भी सदमे में था की ये क्या है,जो औरत किसी दुसरे मर्द का बिस्तर गर्म करती है वो पति की इतनी इज्जत कर रही है की अपने यार को धमका रही है,
काका-'अरे बहु रानी आप तो गुस्सा हो गयी मुझे माफ़ कर दीजिये 
काजल -'पहली गलती है काका माफ़ करती हु,लेकिन आज के बाद इनके बारे में कुछ कहा तो सोच लेना अंजाम क्या होगा,मैं भी जमीदारो के खानदान से हु
काका-माफ़ी मालकिन 
काजल ने जवाब में स्माइल भेजा 
काका -तो क्या करना है
काजल -पता नहीं क्या क्या करना है,आप आ जाइये यहाँ मैं आपकी सेवा करती हु,लेकिन आज जादा नहीं बस कुछ कुछ
इसके बाद कोई बात नहीं हुई पर मेरे मन में विचारो की रेल चल पड़ी ये क्या है,वो मुझसे प्यार करती है तो उसके साथ क्यों है और नहीं करती तो इतना प्यार मेरे लिए क्यों,और अब क्या वो मेरे सामने ही मेरे घर के अंदर ये सब करेंगे,मैं क्या करु मुझे समझ नहीं आ रहा था,और मैं कुछ करना भी नहीं चाहता था न जाने कौन सी शक्ति ने मुझे रोका हुआ था,थोड़ी देर में ही काजल की हसी से मेरी तन्द्रा भंग हुई,मैं बड़े ही सम्हाल के जगा और किचन में गया तो पाया प्यारे पास खड़ा था और काजल चाय बना रही थी ,प्यारे थोड़ी थोड़ी देर में काजल को छू लेता पर इससे जादा नहीं बाद रहे थे शायद उन्हें मेरा डर था ,प्यारे ने काजल के कानो में कुछ कहा और वो खिलखिला के हस पड़ी प्यारे ने अपना हाथ बढाकर काजल के वक्षो को सहलाने लगा उसने अंदर कुछ ना पहना था मैंने काजल की कोमलता का अहसास किया कैसे ये गैरो के हाथो से मसला रहे है,मेरी सांसे तेज हो गयी उसने अपना हाथ जन्घो को सहलाते हुए दोनों जन्घो के बीच की घाटी पे ले जाने की कोशिस की मेरे सब्र का बांध टूट सा गया मैं आगे बड़ा पर रुका और पीछे जा फिर से खासने की एक्टिंग की जिससे दोनों सजग हो गए,मैं किचन मे पंहुचा तो प्यारे की हालत ख़राब थी पर काजल बिलकुल सामान्य सी दिख रही थी,
अभी इतनी रात यहाँ क्या कर रहे हो मैंने प्यारे को उच्ची आवाज में कहा 
Reply
12-21-2018, 09:42 PM,
#7
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
अरे जान मैंने ही बुलाया है ,वो नींद नहीं आ रही थी तो और अपने कसम दि थी ना की बहार मत जाना तो इन्हें घर में बुला लिया,आप गुस्सा क्यों कर रहे हो,'इतनी प्यारी आवाज साला मैं पागल हु या इसका दीवाना या महा बेवकूफ हो इसकी बातो में प्यार सा आ जाता है,
मैं कहा गुस्सा कर रहा हु ,'मैंने थोडा सम्हाल के कहा,
अच्छा एक खिलखिलाती आवाज जो मेरे कानो को भेद कर मेरे दिल तक चली गयी,उसका हसता चहरा क्या बेवफा भी इतनी प्यारी इतनी निर्भीक इतनी मासूम होती है,
गुस्सा नही कर रहे तो क्यों चिल्ला रहे हो ,'चलो जाओ सो जाओ मैं आ रही हु,काका आप जाइये ये चाय ले जाइये,मैं इनका गुस्सा शांत करती हु,'प्यारे तो चला गया,पर मैं भी सर पटक के अपने रूम में जाकर सोने का नाटक करने लगा जाने क्यों मैं कुछ खुलकर नहीं कह पा रहा था,काजल आई मुझसे लिपट कर सो गयी सायद ऐसे जैसे मुझे मना रही हो .....

मैं बेचैन था ,पर बेकाबू नहीं मैं कुछ करना तो चाहता था पर क्या करू ये मुझे भी पता नहीं था,अब तो ऑफिस भी जाने का मन नहीं करता था ,साला मैं ऑफिस में होऊंगा और यहाँ घर पर मेरी बीवी ,...............मैं जलकर भूंज जाता ,बहाने बना बना कर घर आ जाता ,काजल भी मेरा बहुत ध्यान रख रही थी ,कुछ दिनों से ऐसा कुछ भी नहीं हुआ जिससे मुझे दुःख पहुचे पर मैं कब तक अपनी पत्नी की रखवाली करता रहूँगा ,जब उसने ही मन बना लिया है और वो भी इसका मजा ले रही है तो मैं कब तक उसे रोक पाऊंगा,.......मैं क्या करू तलाक ......
तलाक का नाम दिमाग में आते ही मेरे तन बदन में एक झुनझुनाहट सी दौड़ गयी ,नहीं मैं काजल से दूर नहीं रह सकता था ,तो ट्रान्सफर करा लू...ताकि इस प्यारे से छुटकारा मिल जाय ,इसमें भी तो समय लगेगा ,मुझे सोचने को समय चाहिए था ,ताकि मैं कुछ अच्छा सा फैसला कर पाऊ,मैंने काजल को उसके मायके भेजने की सोची,वो भी ख़ुशी ख़ुशी तैयार ही गयी ,साले प्यारे की सूरत उसके जाने पर रोनी सी हो गयी थी ,काजल भी मेरे ही सामने उसे सांत्वना दे रही थी ,की काका जल्द ही आ जाउंगी ना .........
उसके जाने से मुझे कुछ शांति सी महसूस हुई कुछ दिनों से इतना तनाव था की मैं पागल सा हो रहा था ,तभी मेरे दिमाग में एक नाम गूंजा ,,,,,,,,,,,,डॉ चुतिया ...जी हा मेरे स्कूल का दोस्त था ,पूरा नाम था चुन्नीलाल तिवारी यरवदावाले ...बचपन में साला बहुत हु चुपचाप और सबसे अलग रहने वाला था ,और पड़ी में बड़ा ही कमजोर था पर ना जाने ऐसा क्या हुआ की 12 th के बाद उसके व्यक्तित्व में गजब का सुधार हुआ वो M.B.B.S.,डॉ बन गया उसके बाद ना जाने क्या क्या डिग्रिय और चीजे सीखता रहा ,शहर में उसने प्रक्टिस भी शुरू कर दि,पर वो लोगो के परेशानियों के हल ढूंढने में माहिर था ,सायकोलोजी की उसे गहरी जानकारी थी ,इसके साथ ही ना जाने क्या क्या ,,,,क्या उसे सब बताना ठीक रहेगा ?????मेरे दिमाग में एक ही बात आई ,साला दोस्त भी है और डॉ भी कही कमीनापण ना कर दे ,लेकिन मैंने उसका सीधा साधा और सबकी मदद करने और सबके दुःख में साथ देने वाला रूप भी देखा था मैंने हिम्मत की और फैसला किया की मैं उसे सब कुछ बताऊंगा और उसे काल किया ...
"क्या चुन्नीलाल कैसे हो ,"
"आप कौन बोल रहे है "
"अबे मैं विकास , "
"अबे साले तू है ,इतने दिनों बाद कॉल किया ,शादी के बाद तो भूल ही गया दोस्तों को ...और बता भाभी कैसी है ,"मैं थोडा उदास सा हो गया ,
"ठीक है अभी मायके में है ,"
"अच्छा तभी तुझे हमारी याद आई साले "
"नहीं भाई बात कुछ खास है ,क्या तू मुझे मिल सकता है ,यार थोड़ी परेशानी में चल रहा हु "
"क्यों क्या हुआ "
"फोन में नहीं आकर मिलता हु ,तू मुझे अपने क्लिनिक का पता msg कर दे मैं कल ही मिलता हु "
"हा हा बिलकुल कभी भी आजा "
"अच्छा चल यार रखता हु ,बाय "
"ओके दोस्त बाय ".............. 
मैं डॉ के क्लिनिक पंहुचा वहा कोई भी दिखाई नहीं दे रहा था ,मैं केबिन के अंदर झाका चुन्नी मुझे अपने कुर्सी पर बैठा कुछ पड़ता हुआ दिखाई दिया ,मुझे देखते ही वो खड़ा हुआ और मेरे पास आकर मेरे गले से लग गया ,मैं भी बड़ी ही आत्मीयता से उससे मिला ,हम बैठे इधर उधर की बाते होने लगी फिर मैंने मुद्दे की बात करने की सोची मैंने गंभीरता से उसे सभी मामला बताया और वो बड़ी ही गंभीरता से उसे सुनने लगा,...मुझे आश्चर्य हुआ की उसे मेरी बातो से जादा आश्चर्य नहीं हुआ वो बड़े ही आराम से मेरी बात सुन रहा था जैसे मैं उसका दोस्त नहीं कोई क्लाईंट हु...
"हम्म्म्म तो ऐसी बात है ,कोई बात नहीं भाई ,मैंने जब पहली बार तेरी शादी में काजल को देखा था तभी मुझे लगा की कुछ तो गड़बड़ है पर क्या है ये मुझे अब समझ आ रहा है ,"
मैं उसे आँखे फाडे देखने लगा ,क्या गड़बड़ है ..........
"पूरी बात तो मैं उससे मिल कर ही बता पाउँगा पर अभी जितना तुमने मुझे बताया ,मुझे वो एक सेक्स एडिक्ट लग रही है ,"
डॉ की बात सुनकर मेरा माथा घूम गया ,सेक्स एडिक्ट मेरी बीवी ,
"भाई तू क्या बोल रहा है ,वो बहुत अच्छे घर की बेटी है और इतनी पढ़ी लिखी भी है यार ,,,,"मैं लगभग रुवासु हो चूका था ,ऐसा लग रहा था जैसे अभी जोर जोर से रो पडूंगा ,पर मैंने अपने को सम्हाला ,मुझे देखकर चुतिया हसने लगा ,मुझे लगा की वो मेरा मजाक उड़ा रहा है ,
"नाम मेरा चुतिया है और काम तेरा चुतियो जैसा है ,साले की बीवी दूसरो से चुद्वाती है ,हा हा हा "डॉ के ये वचन मेरे दिल को झल्ली झल्ली कर रहे थे ,मैं उसे मरना चाहता था ,मेरा ही दोस्त ,इतना बड़ा काउंसलर होकर भी वो ऐसी बाते कर सकता है मुझे यकीं नहीं आ रहा था ,मुझे अपने पर ही गुस्सा आया की मैं यहाँ क्यों आ गया ,मैं वहा से उठाकर जाने लगा ,उसने मुझे रोका भी नहीं ,मैं और भी गुस्से में आ चूका था ,मैं बाहर निकला ,बाहर रघु गाड़ी लेकर खड़ा था ,मैं अपनी ऑफिस की गाडी से वहा आया हुआ था ,उसे देखकर मैंने खुद को सम्हाला ,
"चलना है क्या साहब "रघु ने बड़े ही प्यार से पूछा 
"हा मादरचोद ,मैं यहाँ नाचने आया हु क्या ,जायेंगे नहीं तो और क्या करेंगे ,दीखता नहीं क्या तुझे ,"मेरे इस बात से रघु भी घबरा गया था ,उसने मुझे कभी भी ऐसे रूप में नहीं देखा था वो जल्दी से ड्राईवर सिट पर बैठा और मैं पीछे बैठने ही वाला था की किसी ने मेरा हाथ पकड़कर बहार खीच लिया ,मैं उसे देखकर और भी गुस्से में आ चूका था वो डॉ था ,............
"चल तुझे कुछ और भी बताना है "डॉ के चहरे पर अब भी एक मुस्कुराहट थी ,मैंने अपना हाथ छुड़ाया ,
"मुझे कुछ नहीं जानना "
"सोच ले ,अबे चल सॉरी अब तो आजा ,यु ड्राईवर के सामने क्यों तमाशा कर रहा है ,ये हम दोस्तों की आपस की बात है ,चल ना यार ,"
मैं रघु के सामने सचमे कोई भी तमाशा नहीं करना चाहता था ,मैं उसे ये भी पता नहीं लगने देना चाह्त्ता था की मैं यहाँ क्यों आया हु,मैं चुपचाप अंदर चला गया ,फिर उसी केबिन में 
"क्या हुआ ,जल्दी बता "
"भाई मुझे माफ़ कर दे की मैंने ये सब किया ,पर ये जरुरी था ,तेरे प्रश्न का उत्तर है ये ,की काजल क्यों सेक्स एडिक्ट हो गयी ,और क्यों कोई इस रोग में पड़ जाता ही ,"मुझे उसकी बाते कुछ भी समझ नहीं आ रही थी ,मैंने उसे बड़े ही आश्चर्य से देखा ,वो मुझे आराम से रहने और बैठने को कहा ,
"देख तुझे रोना आया पर तू मेरे सामने नहीं रो पाया ठीक ,"
"हा तो उससे क्या "
"बताता हु ,फिर तुझे मुझपर गुस्सा आया पर तूने गुस्सा दबा लिया ,और वो गुस्सा किसपर निकला तेरे ड्राईवर पर ,है ना "
"हा तो "
"बता की ये गुस्सा ड्राईवर पर क्यों निकला "
मैं उसे अनजान सा देखने लगा ,
"क्योकि तू मुझपर तो गुस्सा नहीं कर सकता था पर अपने ड्राईवर पर कर सकता था ,तूने कभी भी अपने ड्राईवर को ऐसे नहीं कहा होगा पर आज तुझे क्या हुआ ,तूने कहा गलती कर दि "
मैं उसके बातो को समझने का प्रयास कर रहा था ,
"तूने मुझपर गुस्सा नहीं करके और अपने रोने और गुस्से को दबाकर गलती कर दि ,दबा हुआ गुस्सा ड्राईवर पर फूटा वहा नहीं फूटता तो कही और और ही फूटता शायद और भी बढ़कर "
"तू कहना क्या चाह रहा है "
चुतिया ने एक गहरी साँस भरी 
Reply
12-21-2018, 09:42 PM,
#8
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
"देख भाई हम सब इन्सान है और इन्सान होने की सबसे बड़ी जो खासियत है वो है हमारी भावनाए ,पर ये समाज,धर्म ,और नैतिक बन्धनों से भी हम बंधे हुए ही जो हमें सिखलाते है की ये करो ये मत करो ,अब हम है तो मूलतः जानवर ही ना ,पर यही बंधन हमें जानवरों से अलग करते है ,लेकिन इन्ही बन्धनों के कारन हम अपनी भावनाओ को दबाते है ,और उसका परिणाम होता है,विकृति .....हमारी असली भावना कही छुप जाती है और वो विकृत होकर प्रगट होती है ,इसलिए लोग हत्या करते है चोरी करते है ,और सबसे बड़ी और मूल भावना है सेक्स की भावना लेकिन हमें बचपन से ही इसे दबाना सिखाया जाता है ,इसका परिणाम होता है की हम ना तो प्यार कर पाते है और ना ही इससे पूरी तरह से छुट पाते है ,परिणाम होता है विकृत सेक्स ......जैसे बलात्कार ,और सेक्स एडिकशन और भी बहुत कुछ ,जैसे सेक्स में कमी या चिडचिडापन या बहुत ही जादा गुस्सा आना और भी कई तरह की शरिर्रिक और मानसिक बिमारिया जन्म लेती है ......."
थोड़ी देर चुप्पी छाई रही जिससे मुझे कुछ कुछ चीजे समझ आने लगी थी ,डॉ ने फिर से बोलना शुरू किया 
"काजल के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ होगा ,वो बहुत ही कुलीन घर की लड़की है ,और उसे अपनी सेक्स की भावना को दबाना पड़ा होगा इसमें कोई भी दो राय तो नहीं है ,पर जब उसे मौका मिला होगा ,जैसा तूने बताया की वो वर्जिन नहीं थी ,तो उसने इसे या तो खुलकर एन्जॉय किया होगा ,या फिर ग्लानी के भाव से भर गयी होगी ,यार ये ग्लानी बहुत ही ख़राब चीज है जो इन्सान के भावनाओ को कुरूप कर देती है ,शायद उसके साथ भी ऐसा ही हुआ होगा..........अगर ऐसा हुआ होगा तो जो वो आज कर रही है वो,वो नहीं कर सकती थी इसके लिए उसने जरुर किसी से काउंसलिंग ली होगी जिसने उसे समझाया होगा की ग्लानी से बचो और इसे एन्जॉय करो ....हो सकता है ऐसा कुछ भी नहीं हुआ हो और वो एक सेक्स एडिक्ट नहीं हो तो ,,,,,,,,हा ये भी हो सकता है तो बस एक ही चीज हुई होगी और वो ये है की वो जब मुंबई गयी तो उसने पहली बार आजादी देखि और उसे ये सब करने में मजा आने लगा वो अपनी जिंदगी खुलकर जीने लगी ,और अब भी वो ये सब बस मजे के लिए करती होगी ,"
मुझे ऐसे तो सब कुछ समझ आ रहा था पर ........
"यार लेकिन क्या सचमे वो मुझसे प्यार करती है या सिर्फ दिखावा "मेरी आँखे फिर से गीली हो गयी ,
"इतना तो पक्का है मेरे दोस्त की वो तुझसे बहुत ही जादा प्यार करती है ,"
"तो भाई ये सब ,............अब मैं क्या करू "
डॉ भी थोड़ी देर तक चुप रहता है ....
"कुछ भी मत कर ,अभी तो उसे मायके में ही रहने दे और तेरे ट्रांसफर लेने से मामला नहीं बदलेगा बस प्यारे की जगह कोई और आ जायेगा ,अभी कम से कम प्यारे तेरे हाथो में तो है ,वो काजल के कण्ट्रोल में है,और कोसिस यही करना की कभी भी प्यारे या काजल या किसी भी और को ये ना पता चले की तू ये सब जानता है ,अगर किसी को भी ये पता चला और काजल ने उसका साथ दिया तो तेरे लिए उसकी इज्जत जाती रहेगी फिर वो कभी भी तुझे और तू कभी भी उसे वो प्यार नहीं दे पाओगे जो वो अभी तुझसे करती है ....."
मैं जोरो से रोने लगा .डॉ आकर मेरे कंधे पर अपना हाथ रखता है,
"तू फिकर मत कर मेरे दोस्त सब ठीक हो जाएगा ,मैं खुद मुंबई जाकर उसके बारे में पता करूँगा "
"लेकिन यार तब मैं क्या करू ,कब तक उसे मायके में रखूँगा और कब तक मैं उसे बचा पाउँगा वो फिर ,,,,,,,,और मैं कैसे ये सब सहूंगा "
साले कमीने डॉ के चहरे पर एक रहस्यमयी मुस्कान आ गयी जिसे देख मुझे फिर से गुस्सा आ गया ,वो इसे समझ गया और 
"भाई मेरे मुस्कान पर गुस्सा मत हो पर तुझे voyeurism का पता है "
"ये क्या होता है "
"किसी दुसरे को सेक्स करते देखकर मजे लेना "
मेरा गुस्सा सातवे आसमान पर पहुच गया 
"मादरचोद तो क्या मैं अपने बीवी को अपने नौकर से चुदते देखकर मजे लू "
डॉ फिर जोर से हँसा 
"नहीं मेरे भाई ,मैं बस बता रहा था ,ऐसे ले भी सकता है ,ये सोच की अगर काजल को कोई परेशानी नहीं है तो तुझे क्यों है ,ऐसे लोग भी होते है जो अपनी शादीशुदा जिंदगी में मजे को बढ़ने के लिए ये जानबूझकर करते है ,"
"दुसरे करते होंगे मैं नहीं कर सकता ,साले तेरे पास आया था की तू काजल को ठीक करेगा और तू कह रहा है की मैं इसमें मजे ढूढू ..."
"देख दोस्त तू क्या ये चाहता है की काजल का तेरे ऊपर प्यार कम हो जाय ,नहीं ना अगर तू चाहता तो अभी तक उसे कह चूका होता ,और मुझे थोडा समय चाहिए इस केस को समझने और जचने के लिए ,मैं काजल से बात नहीं कर सकता मुझे सीक्रेट तरीके से मुंबई जाकर और उसके गाव जाकर ही पता लगाना पड़ेगा ,तब तक तू क्यों जलेगा ,try करके देख ले ,मैं तुझे कुछ कहानियो और विडिओ के लिंक भेजता हु तू उन्हें चेक कर ले अगर पसंद आया तो ठीक वरना ......जलते रह इस आग में अपने को दुखी करते रह ..."
डॉ की बात मुझे समझ आ चुकी थी ,मेरे पास ऐसे कोई भी रास्ता नहीं था मैंने हां में सर हिलाया और वहा से चला गया .....

मेरा मन व्याकुल सा था जस्बातो ने कबड्डी खेल खेल कर मेरा दिमाग झंड कर दिया था ,मैं बात बात में चिडचिडा सा जाता था ,खासकर प्यारे को देखकर तो दिमाग चढ़ जाता था ,पर उसे कुछ ना कह पाता ,क्या कहता,हर काम सही टाइम में कर देता था ,कुछ ना कह पाना भी बहुत बड़ा दुःख था,काजल अभी तक नहीं आई थी,डॉ से मिले मुझे बस दो दिन ही हुए थे ,मैं उससे और भी बात करना चाहता था ,पर क्या बोलता उसे ............
भगवान ने मेरी सुन ली और डॉ का फोन आ गया ,
"कैसे हो भाई,"
"बढ़िया हु दोस्त थोडा बेचैन सा हु ,क्या करू समझ नहीं आ रहा ,"
"तू मेरे पास तुझे कुछ दिखाना है ,"
"क्या "
"तू आ तो जा फिर दिखता हु "
"अरे यार पर छुट्टी का थोडा "
"ओके सन्डे आ जा और अपने ड्राईवर को साथ मत लाना तू बस अकेले आना ."
डॉ से बात होने के बाद मैं और बेचैन था पता नहीं साला क्या दिखाना चाहता था ,आख़िरकार सन्डे आ ही गया और मैं शहर में था ,डॉ मुझे एक क्लब में ले गया एक साधारण सा दिखने वाला क्लब था ,बहुत से लोग तो नहीं थे और सब कुछ बड़ा ही नार्मल लग रहा था ,मैंने डॉ को बार बार पूछा की बात क्या है पर वो कुछ भी नहीं बता रहा था कहता था की रुक जा टाइम आने पर पता चलेगा ........हम दोनों इधर उधर और अपने स्कूल के टाइम की बाते करते रहे और बियर पीते रहे ,तभी मुझे एक कपल दिखाई दिया ऐसे तो वहा और भी कपल थे पर वो कपल बहुत ही खास था कारन था उनके बीच का प्यार ,दोनों को देखकर कोई भी कह सकता था की उनमे कितना जादा प्यार है ,पत्नी को कुछ हो जाता तो पति आगे आकर उसे सम्हालता ,पति के चहरे पर कुछ लग जाता तो पत्नी उसे अपने पल्लू से पोछती थी ,दोनों एक दुसरे से ऐसे मिले बैठे थे जैसे कभी अलग ही नहीं होंगे ,मुझे ये कपल मेरी और काजल की याद दिला रहा था ,वो लड़की दिखने में भी कुछ कुछ काजल जैसी ही थी,बहुत देर तक वो दोनों वहा बैठे रहे ,शाम जब और गहराने लगी तो वो साथ एक दूजे के कमर में हाथ डाले नाचते हुए दिखाई दिए ,कुछ देर बाद मेरा धयान डॉ की तरफ चला गया और वो दोनों मुझे फिर दिखाई नहीं दिए ,पर मुझे उन्हें यु घुरना डॉ से छिपा नहीं था ,
"क्यों क्या हुआ उनमे कुछ खास है क्या जो तू उन्हें यु घुर रहा है ,"
"हा यार ये दोनों मुझे काजल और मेरी याद दिलाते है,काजल भी मुझे ऐसे ही प्यार करती है और ऐसे ही मेरा ख्याल रखती है ,"मेरी आँखों में कुछ आंसू की बुँदे आ गयी ,डॉ ने मुझे दिलासा दिलाया और इधर उधर की बाते करने लगा ,तब तक वो कपल आँखों से ओझल हो चूका था ,मैंने नज़ारे घुमाई पर वो कही नहीं दिखे .......डॉ मेरी नजरो को समझ गया ,
"उन्हें ढूंड रहा है क्या ,"मैंने हा में सर हिलाया 
"रुक जा थोड़ी देर में मिलवाता हु "मैंने आशचर्य से डॉ को देखा 
"तू जानता है उन्हें "
"नहीं नहीं जानता फिर भी मैं जानता हु की वो क्या कर रहे होंगे "मैंने फिर से आँखों को चौड़ा किया ,डॉ ने मुझे चुपचाप अपना ड्रिंक ख़तम करने और साथ आने को कहा मैं बिना किसी सवाल के डॉ के साथ चलने लगा ,वो एक अलग ही गेट था क्लब के अंदर से और भी अंदर जाने के लिए पूरी तरह से डिम लाइट जल रही थी ,रोशनी इतनी थी जीतनी की लोग दिख जाय पर इतनी भी नहीं थी की कोई अनजान आदमी पहचान में आ सके ,,उस लाल रोशनी के कारन लोगो का चहरा भी लाल लाल दिख रहा था ,ac चलने के कारण वहा ऐसे तो बड़ी ठंडक थी पर माहोल कुछ गर्म लग रहा था,वो एक सकरा रास्ता था जो किसी और मंजिल तक पहुचता था ..........
हम दोनों फिर एक गेट पर पहुच गए ,वहा कुछ बड़े ही डोले शोले वाले लोग खड़े थे ,देखकर ही समझ आ रहा था की अंदर जो चल रहा है वो हर किसी के लिए नहीं है ,हमारे पास जाने पर डॉ ने उन्हें एक कार्ड दिखाया ,और उनके कानो में कुछ कहा ,उनमे से एक बॉडीबिल्डर हमें रुकने का इशारा कर अंदर जाता है फिर वापस आकर हमें अंदर जाने का इशारा करता है अंदर जाकर मैं और भी अचंभित हो गया क्योकि वहा ऐसा कुछ भी नहीं था जिसे गलत समझा जाय ,वहा होटलों जैसे सिंपल से कमरे बने हुए थे ,और एक और एक ऑफिस नुमा केबिन था ,डॉ ने मुझे केबिन की तरफ आने का इशारा किया केबिन के बहार भी कुछ बॉक्सर टाइप लोग खड़े थे ,ऐसा लग रहा था जैसे साला मैं किसी डॉन के पास या किसी बड़े पॉलिटिशियन के पास जा रहा हु ,इतनी सिक्योरिटी मैंने वही देखि थी ,हम दोनों केबिन के अंदर गए,बड़ा सा केबिन था जैसे किसी कम्पनी के सीईओ का होता है ,एक कोने में एक अर्धगोलाकार टेबल के पीछे एक लम्बा चौड़ा सा व्यक्ति बैठा हुआ था,चहरा रोबदार और हलकी हलकी दाढ़ी कानो में बाली ,बाल बिलकुल छोटे जैसे आर्मी वाले रखते है उससे थोडा बड़ा , आँखों में हलकी लालिमा जैसे की हल्का हल्का खून उतर आया हो ,मूंछ धारदार थे पर वो देसी बिलकुल नहीं लग रहा था ,रंग गोरा था पर कुछ कुछ जैसे अग्रेजो जैसे रंग का था ,लेकिन देशी स्टायल लिए ,शारीर तो जैसे मॉस का कोई गोदाम खोल रखा हो साला कही भी कोई चर्बी नहीं दिख रही थी दिख रहा था तो बस कसे हुए मसल्स ,वो एक स्पोर्ट बनियान और जीन्स पहने था ,इतने बड़े प्रोफेसनल से लगने वाली जगह का मालिक (जैसा मुझे लग रहा था )बनियान पहन के बैठा था ,उसके पास ही एक लड़की पूरी तरह से तैयार होकर खड़ी थी ,ड्रेस और हावभाव से लग रहा था की वो उसकी सेकेटरी है और वो जैसे खड़ी थी इससे पता लग रहा था की वो 25-30 साल का किसी हीरो की तरह दिखने वाला शख्स बिलकुल भी नर्म नहीं है ,उस शख्स का शरीर देखकर मुझे जॉन इब्राहीम की याद आई पर जब वो खड़ा हुआ तो उसकी चाल विद्युत् जामवाल सी थी ,साला दोनों का मिश्रण था ,डॉ को देखकर वो खुश होकर उठा और आगे बढकर डॉ के गले से लग गया ,डॉ उसके शारीर के सामने बच्चा लग रहा था ,
"ये आकाश है मेरा दोस्त "उसने अपना हाथ बढाया ,मुझे लगा जैसे मैं किसी लोहे के पुतले को छू रहा हु ,
"और आकाश ये है टाइगर उर्फ़ दलजीत कनाडियन माँ और पंजाबी पिता की देन है ,इस क्लब का मालिक और हमारा खास दोस्त "डॉ ने मुझे बैठने का इशारा किया हम सभी अपनी जगहों पर बैठ चुके थे ,डॉ बे बैठते हुए उसकी सेकेटरी को हाय कहा उसने भी अपना सर हिला कर उनसा अभिवादन किया 
"कैसी हो रेहाना "
"अच्छी हु डॉ "
"तो आज इस नाचीज को कैसे याद किया डॉ ,"टाइगर के आवाज में भी वही भारीपन था जो की उसकी पर्नालिटी में था ....
"ह्म्म्म वही पुराना रिसर्च का चक्कर है ,लेकिन इसबार मुझे इसके साथ देखना है ,"डॉ ने मेरी तरफ इशारा किया ,टाइगर ने जब मुझे घुर कर देखा तो मेरी रूह तक काप गयी साले की आँखे थी या अंगारे थे ,जैसे दहक रहे हो ,उसने एक भारी सांसे ली जैसे की कोई शेर गुर्राता हो,
"डॉ आपको नहीं बोलना मेरे लिए हमेशा से मुस्किल रहा है ,पर ये नहीं हो सकता ,आप जानते है की क्यों ,यहाँ लोग मेरे भरोसे आते है और मैं उसके साथ धोखा नहीं कर सकता ,आप मेरे वसूलो को जानते है ,मैं कितना प्रोफेसनल हु ये भी आपको पता है ,जब मैं कनाडा से यहाँ आया था तो आपने मेरी बहुत मदद की थी ,जिसका अहसान मैं कभी नहीं चूका सकता पर ये मेरे धंधे से गद्दारी होगी मेरे ग्राहकों से गद्दारी होगी ,आप चाहे तो आपको मैं कुछ भी दिखा सकता हु पर ये ,.................( उसने फिर से मुझे घुर )आप जानते है ...मैं कैसे "बस इतना बोलकर वो खामोश हो गया ,और डॉ के चहरे पर एक गंभीर भाव आ गया 
"ह्म्म्म यार तेरी बात तो ठीक है पर सच में ऐसा है की मुझे इसको दिखने की जरुरत है ,"
"डॉ सॉरी मैं ये नहीं कर सकता "डॉ के चहरे पर एक मुसकान सी खिल गयी 
"ठीक है पर अगर मैं तुझे एक डील दू तो तू सायद इंकार नहीं करेगा "डॉ ने मुस्कुराते हुए कहा 
"डॉ आप और आपके डील "टाइगर भी हसने लगा "पर इस बार कुछ नहीं सॉरी "
डॉ ने मुझे बाहर जाने को कहा और कुछ देर बाद मुझे अंदर बुलाया गया ,टाइगर ने मुझे फिर से घुर इस बार उसके चहरे पर एक अजीब सी सांत्वना का भाव था मुझे लगा इस साले डॉ ने कही उसे मेरे बारे में तो नहीं बता दिया ,
"ठीक है डॉ बस एक घंटे और ये लास्ट है "
"हा ऐसे तूने पिछली बार भी यही कहा था "और दोनों हस पड़े 
"क्या करू आपकी डील होती ही इतनी अच्छी है "दोनों फिर से हसे मैं उन्हें बस एक प्रश्नवाचक भाव से देख रहा था ...........डॉ ने मुझे इशारा किया और हम दोनों उसकी केबिन के अंदर एक और दरवाजे में चले गए ,पता नहीं साला कितना दरवाजा था यहाँ .............
Reply
12-21-2018, 09:42 PM,
#9
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
डॉ और मैं जैसे ही कमरे के अंदर गए कमरा बंद कर दिया गया ,वहा इतना अंधेला था की मैं डॉ को भी नहीं देख पा रह था डॉ ने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे आगे खीचा थोड़ी देर में ही आँखे कुछ कुछ समझाने लगी थी पर अभी भी मुझे कुछ जादा नहीं दिख रहा था ,दिखा रखा तो बस दीवाल से लगा हुआ कुछ चमकीला सा नंबर ,मैंने ध्यान दिया की डॉ नंबर को देखता हुआ आगे बड रहा है ,उसने मेरा हाथ अब भी थामे हुए था ,हर नंबर के निचे मुझे एक परदे का आभास हो रहा था ,मुझे समझ में आ चूका था की डॉ मुझे क्या दिखने ले जा रहा है पर ये नहीं समझ पा रहा था की आखिर क्यों ,.
आख़िरकार वो नंबर आ ही गया जिसपर 15 लिखा था और डॉ वहा पर रुक गया ,डॉ ने पर्दा हटाया परदे के अंदर एक बड़ा सा झरोखे जैसा काच लगा हुआ था ,पर्दा हटते ही कुछ रोशनी वहा फ़ैल गयी जिससे मुझे डॉ का चहरा दिखने लगा डॉ ने मुझे चुप रहने का इशारा किया और कानो में कहा 
"हम इससे अंदर देख सकते है पर अंदर से हमें कोई नहीं देख सकता"और अपनी जेब से दो हेडफोन निकाले "इससे हम अंदर चल रही बात सुन पायेंगे "उसने उन हेडफोन को पास के कुछ प्लगो में लगाया कुछ बटन दबाये और एक मुझे दे दिया मैंने उसे अपने कानो में डाला और अंदर देखने गया ,
अंदर कमरे में अच्छी रोशनी थी और अंदर का नजारा बिलकुल साफ़ था और ये भी की डॉ मुझे क्या दिखने लाया था ,साला कमीना डॉ ...................अंदर वही महिला थी जिसे मैंने उसके पति के साथ देखा था ,यहाँ भी वो अपने पति के साथ दोनों बिलकुल निर्वस्त्र थे जिसे देखकर मेरे चहरे में एक मुस्कान आ गयी ,वो बिस्तर में टंगे फैलाये बैठी थी और उसका पति उसके योनी को बड़े प्यार से चूस रहा था वो बहुत ही आनद से अपनी आँखे बंद किये हुए इसका मजा ले रही थी ,मुझे उस लड़की को देखकर फिर से काजल की याद आ गयी ,मैं भी कभी कभी उसकी योनी का रस ऐसे ही पिता हु और वो इसी तरह से मेरे बालो को अपने हाथो से सहलाती है ,और आनंद के दरिया में गोते लगाती है ,वाह कितना प्रेम था दोनों में कैसे दोनों एक दूजे का ख्याल रख रहे थे ,मुझे ग्लानी हुई की मैं इनके बिलकुल ही निजी क्षणों को देख रहा हु,मैंने अपना हेडफोन निकला और डॉ के कानो में कहा ,
"साले यहाँ मुझे दूसरो की चुदाई देखने लाया है कमीने "डॉ के चहरे में मुस्कान आ गयी 
"बस तू देखता जा साले जो तू देख रहा है वो पूरा सच नहीं नहीं है "मैंने उसे आश्चर्य से देखा और अंदर देखने लगा वो दोनो अब एक दूजे को बहुत ही प्यार से किस कर रहे थे वो अपनी पत्नी के जिस्म से बड़े ही प्यार से खेल रहा था और उसकी पत्नी भी उसे उतने ही प्यार से सहला रही थी ,मुझे ये देखकर बहुत ही अच्छा लग रहा था की ये पति पत्नी आपस में कितना प्यार करते है ,मेरे कानो में लड़की के द्वारा कहे गए जान ,जानू ,बेटू ,,सोना जैसे शब्द आ रहे थे ,वो बार बार उसे जान कहकर पुकार रही थी ,मुझे समझ नहीं आया की आखिर डॉ को इसमे क्या अजीब लग गया ,क्या वो उसका पति नहीं है ,हो सकता है शायद ये सब देखने के बाद वो मुझे ये बताएगा की वो उसका पति नहीं था और एक इतनी प्यारी और घरेलु लगाने वाली महिला कैसे अपने पति के अलावा दुसरे से चुदवा रही थी वो भी इतने प्यार से ,,,,साला डॉ मेरे जख्मो को कम करने के बजाय इसपर नमक छिड़क रहा है ,मुझे थोडा गुस्सा तो आया पर डॉ के इतने प्रयास पर मुझे उसपर प्यार भी आया .......चलो अपने दोस्त के लिए साला कुछ तो कर रहा है ,....लेकिन मैं ये नहीं देखना चाहता था और मैंने वहा से जाने की सोची पर जैसे ही मैं अपने हेडफोन निकलने को था मैंने उनके बाथरूम के खुलने की आवाज सुनी ,.............यानि यानि वहा कोई भी है ,मैं थोडा सजग हो गया और अंदर देखने लगा .और जो देखा उससे मेरा खून सूखने लगा ...
बाथरूम से एक सांड सा शख्स बहार निकलता है ,वो बहुत ही लम्बा चौड़ा था और पूरी तरह से नग्न था ,
"कितना समय लगा दिए तुम "लड़की की कोमल आवाज मेरे कानो में गूंज गयी उसका पति उसे देखकर मुस्कुराता है और लड़की को छोड़कर फिर से नीछे बैठ जाता है ,
"बस अपने को साफ़ कर रहा था ,तुमने अभी तक कुछ शुरुवात नही की क्या ,"वो शख्स रोबदार आवाज में उसके पति से कहता है 
"अरे आज तो तुम दोनों का दिन है ,तुम ही ऐश करो मेरी तो बीवी है मुझे तो रोज ही करना है ,"उसका पति हस्ते हुए कहा ,मुझे अपने कानो पर विस्वास नहीं हो रहा था की ये क्या हो गया .....नहीं एक पति ऐसे कैसे कह सकता है ,
उस शख्स ने बिस्तर में चड़कर उस कोमल सी फूल को अपने बांहों में ले लिया और उसके नाजुक होठो को अपने होठो में भरकर चूसने लगा ,वो नाजुक सी घरेलु कलि उस सांड की बांहों में ऐसे समागई जैसे वो कभी थी ही नहीं ,उसके मासपेशिया देखकर मुझे किसी पहलवान की याद आ रही थी वो उसे हलके से ही पकडे था ,अगर वो थोड़ी ताकत लगा दे तो शायद वो लड़की वही मर जाय ....उसका पति ये सब आँख फाडे देख रहा था ,वो निचे बैठकर लड़की के जन्घो को फैलता है और उसके योनी से रिसते हुए पानी को चूसने लगता है ,लड़की की सिस्कारिया बढ़ने लगती है और वो उस शख्स को और भी जोरो से पकड़ लेती है और अपने होठो को उसके होठो को हवाले कर देती है ,वो शख्स उसके कमर को उठता है ,जैसे वो लड़की कुछ समझ चुकी थी वो उठकर उसके गोद में अपने कमर को रख देती है और साथ ही उसके ताने हुए विशाल और भयानक दिखने वाले लिंग को अपने गुलाबी और प्यारे से योनी में घुसाने की कोसिस करती है ,अब भी दोनों के होठ मिले हुए थे और इसलिए लिंग शायद उसकी योनी में सही तरह से नहीं जा पा रहा था ,उसका पति ये देखकर हसता है और अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए उसके लिंग को अपनी प्यारी सी पत्नी के योनी में रगड़ता है लड़की की योनी रस से भरी हुई थी और इतने लसदार पानी से गीली थी की लिंग को भी भीगा देती है ,वो उसके होठो को छोड़कर एक आह भारती है और अपने पति की आँखों में देखती हुई धीरे धीरे उस विशाल लिंग को अपनी योनी में तब तक अंदर करती है जब तक की वो वहा जाकर गायब नहीं हो जाता ,एक जोरदार आह उसके मुह से निकल कमरे में गूंजने लगती है ,.....वो अपने पति को अपनी और खिचती है और उसके होठो में अपने होठो को मिला देती है दोनों ही बहुत ही उमंग और उत्तेजना से एक दूजे के होठो को चूसने लगते है ,तभी पीछे बैठा हुआ शख्स हलके से उसकी कमर उठता है ,मुझे उस शख्स का लिंग उसकी योनी से बहार आता दिखता है लेकिन थोडा बहार लाकर वो उसकी कमर को छोड़ देता है ,वो अपने भरी निताम्भो से गिरती है और फिर से उसकी योनी उसके लिंग अपने में समां लेती है पर इसबार आया हुआ दर्द या मजा उसकी आँखों में पानी बनकर दिखाई देता है......वो शख्स बार बार ऐसा कर रहा था और हर बार लड़की के मुह से एक भारी सी चीख निकल जाती थी ....आख़िरकार उसने अपने पति को छोड़ा और अपना सर घुमा कर उस शख्स के होठो को चूसने लगी और खुद उसके जन्घो में अपना हाथ रख उसके ऊपर कूदने लगी कभी धीरे धीरे कभी जोर जोर से ,उसका पति लिंग और योनी के जोड़ पर अपनी जीभ टीकाकार उसका पानी चूसने की कोसिस कर रहा था ,लेकिन उसका सर भी उसकी पत्नी के कमर के ऊपर नीचे होने के साथ साथ ऊपर निचे हो रही थी ,उसकी पत्नी जैसे उसे भूल ही चुकी थी और उसके पुरे शारीर पर उस सांड से शख्स का अधिकार हो चूका था ,वो उसके निताम्भो को अपने हाथो से मरता उसके वक्षो को अपने हाथो से दबाता सहलाता ,और उसके होठो को तो छोड़ ही नहीं रहा था ,उसकी आहे उसके होठो में घुल रही थी ,पर मजे की चीत्कार दबकर भी बहार तक आ रही थी ....
Reply
12-21-2018, 09:43 PM,
#10
RE: Porn Sex Kahani रंगीली बीवी की मस्तियाँ
इधर मेरे लिंग में हरकत तो होने लगी थी पर साथ ही मैं उस लड़की की जगह काजल को देखने लगा था,मैंने अभी तक उस लड़की में काजल को ही देखा था और उसका नाक नक्श और अदाए भी काजल की तरह ही थी ,और शायद उसकी ये हरकत भी ,......मैं अजीब से कश्मकस में था एक ओर मुझे लग रहा था की मैं यहाँ से भाग जाऊ ,क्योकि मेरे आँखों में ये देखकर आंसू थे ,वही मेरा लिंग पूरी तरह से अकड़ चूका था और मेरा हाथ वहा जाकर उसे मसल रहा था,इशार काम लीला पुरे सबाब में थी इधर मेरी उत्तेजना भी बहुत बड रही थी ,साथ ही मेरा गुस्सा और ग्लानी और ना जाने क्या क्या ..........आखिर उनके इस खेल का अंत दोनों के एक चीख से हुआ लड़की चीख कर उस शख्स के ऊपर निढाल हो गयी ,एक संतुष्टि का भाव उसके चहरे पर था ,मेरी नजर जब निचे गयी तो मैंने देखा की उस शख्स का गढ़ा वीर्य उसकी योनी से रिस रहा है वो अभी भी हलके हलके धक्के लगा रहा था ...और उस लड़की वो बड़े जोरो से पकड़ कर उसे चूमे जा रहा था ,वही उसका पति अब खड़ा हो चूका था और उस लड़की से लिपट कर उसके उजोरो पर अपने मुह को टीकाकार उसे चूसने की कोशिस कर रहा था ,थोड़ीदेर में लड़की ने आँखे खोली अपने पति को देखा और उसके होठो को चुमते हुए उसे थैंक्स कहा ,.....लड़के ने उसे मुस्काते हुए देखा 
"जान अभी तो पार्टी शुरू हुई है ,"तीनो हसने लगे और लड़की फिर से अपने पति के होठो को चूसने लगी ,मैंने अपने बाजु में खड़े डॉ को देखा वो वहा नहीं दिखाई दिया मैंने इधर उधर देखा ,वो अँधेरे में खो गया था ,मुझे समझ आ गया की वो मुझे यहाँ छोड़ कर चला गया है ताकि मैं उसके कारन असमंजस की स्थिति महसूस ना करू ,..........मैंने अपने लिंग को छोड़ा अंदर फिर से शायद कुछ होने वाला था पर मैं अब देखने की हालत में नहीं था...मेरे लिंग की उत्तेजना भी अब खत्म हो चुकी थी और एक ग्लानी,शर्म,जलन और क्रोध का मिला जुला भाव मेरे अंदर समां चूका था ................मैंने परदे खिचे और हेडफोन को वही लटकता छोड़ा और वहा से निकलने लगा ..........

मैं उन नम्बरो को ढूंढता हुआ उस दरवाजे तक आया और केबिन के अंदर प्रवेश किया ,वहां मौजूद तीनो शख्स मुझे घूरने लगे पर मेरी नजर बस डॉ पर थी वो मुझे घूरे जा रहा था ,उसके चहरे पर कोई भी भाव नही थे ,बस मुझे देख रहा था जैसे मेरे किसी प्रतिक्रिया की कामना कर रहा हो ,,मेरी आँखे जल रही थी शायद वो अभी सुर्ख लाल रंग की होंगी ,मैं कोई भी प्रतिक्रिया किये बिन ही वहां से जाने लगा ,डॉ शायद मुझे कुछ कहने को खड़ा हुआ था पर मैं उसके किसी भी बात का इंतजार किये बिना ही वहां से बड़ी ही तेजी से निकल गया ,मेरे तन मन में एक आग सी लगी थी ,मैं सीधे क्लब के बार में पहुचा और 3 लार्ज पैक विस्की के पी गया,चौथा पैक भी मेरे सामने था की मुझे पीछे से किसी की आवाज सुनाई दी…..
“जो तुमने देखा उसे cuckold कहते है “
ये उस मादरचोद डॉ की ही आवाज थी ,मेरे गुस्से का बांध जैसे टूट गया था,मैंने पीछे पलटकर सीधे डॉ का कालर पकड़ लिया,
“मुझे पता है मादरचोद की उसे क्या कहते है ,और तू चाहता क्या है ,की मैं भी उस नामर्द की तरह ही अपनी बीबी को यहां लेकर चुदवाऊ उस टाइगर से ,”मैन ऐसे तो ये बड़े ही आवेग में आकर कहा था पर मेरे लिंग में ये सोचकर भी एक झुनझुनाहट सी हो गयी की टाइगर काजल को चोद रहा है ……..है भगवान ये मैं क्या होते जा रहा हु…….मुझे फिर से गुस्सा आ गया ,मैं अब भी डॉ का कालर पकड़े हुए था,पर अब मेरी आंखों में गुस्से के साथ साथ आंसू भी थे ,
“ये क्या बना रहा है डॉ मुझे तू ,क्यो कर रहा है तू मेरे साथ ऐसा ,मैन तेरा क्या बिगाड़ा है ,मैंने तो तुझे अपना दोस्त मानकर ही तुझे ये सब बताया था ,और तू मुझे क्या बना रहा है ,और क्या सौदा किया है तूने टाइगर के साथ की तू काजल को उससे या उसके किसी ग्राहक से चुदवायेगा,....क्यो कर रहा है तू ऐसा ,क्या हो रहा है मुझे ,मत खेल मेरे साथ ऐसा घिनौना खेल मत खेल……….”मेरी आंखे अब सचमे भर गयी थी ,गुस्से की जगह एक भारी दुख ने ले ली थी...डर का चहरा अब थोड़ा मुरझाया से दिखा वो मेरे चौथे पैक को खुद ही पी गया और मेरे गले से लग गया ,जब वो मुझसे अलग हुआ उसके आंखों में जैसे खून था ….मुझे उसका ये बदला हुआ रूप समझ नही आ रहा था,
“तुझे क्या लग रहा है की मैं तुझे फस रहा हु,अबे मादरचोद तू है ही चूतिया लोग मुझे चूतिया कहते है पर असली चूतिया तो तू है ,तू आज मुझे बोल उस काजल को मैं आज ठिकाने लगा दु ,बोल क्या करना है उसके साथ ,मार के फेक दे कही ,किसी को हवा भी नही लगेगा,या उस प्यारे को मार दे……..क्या करे तू बता तू क्या चाहता है...तू बस बोल दे और हो जाएगा ………”डॉ थोड़ी देर तक चुप ही रहा मैं यही सोच रहा था की हा असल में मैं क्या चाहता हु डॉ ने फिर से बोलना शुरू किया 
“जानता है तू क्या चाहता है ,तू चाहता है की काजल तुझे उतना ही प्यार करे जितना वो अभी तुझसे करती है ,तू काजल को छोड़ना नही चाहता ,और उसे इस रूप में अपनाना भी नही चाहता,तू चाहता है की उसे ये ना पता चले की तुझे कुछ पता है ,लेकिन तू उससे वो सब छुड़ाना चाहता है जो वो कर रही है ,,,तू उसे सच बता दे की तुझे सब कुछ पता है ,पर तू डरता है की इससे या तो तेरी इज्जत उसके नजर में कम हो जाएगी या वो पहले की तरह नही रहेगी ,तू मुझे कुछ कहने से पहले मुझे ये बता की तू क्या चाहता है …….और रही टाइगर से डील की बात तो मैंने उसे कहा था की तुझमे सेक्स की इच्छा की कमी है और तेरे इलाज के लिए तुझे के दिखाना है ,क्योकि दवाइयों का असर गलत हो सकता है और दवाइयों की कोई जरूरत तुझे नही है तुझे बस कुछ मोटिवेशन चाहिए…..और इसके बदले में मैं उसे कुछ ऐसी दवाइया लाकर दूंगा जो की इस देश में ग़ैरकानूनी है ,वो मुझे बड़े दिनों से ऐसे दवाईया लेन की जिद कर रहा था पर मैंने उसे मना कर रखा था,तेरे कारण आज मैं अपना जमीर तक बेचने को तैयार हो गया,मुझे लगा की शायद इससे तुझमे कुछ ऐसी भावना जाग जाय की जो काजल कर रही है वो गलत नही है और तू उसका मजा लेने लगे ,जिससे कम से कम कुछ वक्त को ही सही तुझे इस जलन से आजादी मिल जाय ………..पर तुझे ऐसा नही हुआ तो मैं क्या करू …...मैं भी यही चाहता हु की तू अपनी जिंदगी उसी प्यार से और फक्र से जी सके जैसा तू पहले जीता था,पर यार क्या अब ये संभव है तू ही बता की मैं क्या करू ….मैं बस इतना चाहता था की तुझे कुछ आराम मिले लेकिन तूने तो मुझे ही गलत बना दिया …..अब तू ही बता की आगे क्या करना है …”डॉ ने बार टेंडर से एक पैक मांग और एक ही घुट में उसे पी गया .मैं और वो दोनो ही खामोश थे क्योकि किसी को नही पता था की क्या करना है ……….मैंने उसके कंधे पर हाथ रखा 
“सॉरी यार पर तू तो मेरी कन्डीशन समझ रहा है ना ,परेशान हु यार और तू ही मेरी आखरी उम्मीद है ,काश मैं भी उस पति की तरह अपनी काजल को किसी और के साथ देखकर खुश हो जाता तो मुझे ये जलन नही सहना पड़ता ,या काश मैं काजल से प्यार ही ना करता और उसके खुशियो की मुझे कोई परवाह नही होती...उसके चहरे पर मैं दुख भी नही देख सकता और ना ही उसकी इसतरह आयी हुई हसी को ही बर्दास्त कर सकता हु “
मैन फिर से अपना पैक एक ही घुट में खत्म कर दिया ,,मेरी आंखे अब थोड़ी भारी होने लगी थी ,शायद आज मुझे अच्छी नींद आने वाली थी…..
“कुछ तो करना पड़ेगा मेरे दोस्त पर क्या नही पता,और जब तक ये क्या नही पता चल जाता तक तुझे तो जलना ही है ………..या उस पति की तरह मजे ले ...हाहाहाहा “डॉ की हसी मेरे कानो में गुंजी पर इस बार मुझे उसपर कोई भी गुस्सा नही आया मैंने फिर एक पैक अंदर किया और बड़े ही प्यार से उसे कहा 
“साले मादरचोद “.............

जब मेरी नींद खुली तो मैं एक बड़े से बेड में सोया हुआ था,पता नही साला किसका घर था,डॉ का हो सकता है ,पर इतना शानदार घर ,मैं उठकर बाहर गया देखा तो घर नही बड़ा सा बंगला जैसी जगह थी,एक नोकर ने मुझे देखा और तुरंत मेरे लिए एक चाय ले आया …

“ये किसका घर है और मैं यहां कैसे आया “

“सर ये टाइगर साहब का घर है और आपको डॉ साहब यहां छोड़ के गए रात में कहा था की आप जब जागे तो उनसे मिल लीजियेगा “

मैंने डॉ को फोन लगाया उसने कहा की यार मेरा घर दूर था तो तुझे यहां ले के आ गया तू आजा मेरे पास पर मुझे आफिस में भी काम था मैं घर जाने की बोल वहां से निकल गया,
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर sexstories 207 65,629 11 hours ago
Last Post: rohit12321
Thumbs Up bahan sex kahani बहन की कुँवारी चूत का उद्घाटन sexstories 44 12,544 Yesterday, 11:07 AM
Last Post: sexstories
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) sexstories 59 56,736 04-20-2019, 07:43 PM
Last Post: girdhart
Star Kamukta Story परिवार की लाड़ली sexstories 96 40,858 04-20-2019, 01:30 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Sex Hindi Kahani गहरी चाल sexstories 89 79,873 04-15-2019, 09:31 PM
Last Post: girdhart
Lightbulb Bahu Ki Chudai बड़े घर की बहू sexstories 166 240,892 04-15-2019, 01:04 AM
Last Post: me2work4u
Thumbs Up Hindi Porn Story जवान रात की मदहोशियाँ sexstories 26 25,480 04-13-2019, 11:48 AM
Last Post: sexstories
Star Desi Sex Kahani गदरायी मदमस्त जवानियाँ sexstories 47 34,307 04-12-2019, 11:45 AM
Last Post: sexstories
Exclamation Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के संग sexstories 41 31,156 04-12-2019, 11:33 AM
Last Post: sexstories
Lightbulb bahan sex kahani दो भाई दो बहन sexstories 67 31,166 04-10-2019, 03:27 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


जबरदस्ती मम्मी की चुदाई ओपन सों ऑफ़ मामु साड़ी पहने वाली हिंदी ओपन सीरियल जैसा आवाज़ के साथमधु की चुदाई सेक्सबाबwww.hindisexystory.rajsarmahina khan sex babaवेलम्मा सासे काहानीxxx.coom.hot.indian.sekesesxe.Baba.NaT.H.K.lady housewife aur pagalaadmi ki sexy Hindi kahaniyaभाई और इनका ४ दोस्तों में मिल कर छोड़ै की कहानीricha.chada.bara.dudh.bur.nakd.देसी हिंदी राज शर्मा बड़े chuchi waali माँ बीटा हिंदी kaamuk सेक्स कहानीbuddhadesi.xxxमदरचोदी माँ रंडी की चोदाई कहानीKatrina Kaif ki BF batana sexy wali BFtrain me pyar se chudai ka majja videosusmeeta sayn sexy nude nangi cudae potobiwichudaikahnichut me ghus jao janu aaaaaaxossipy divyankamace.ki.chaddi.khol.kar.uske.damad.ne.chodachudai ki khani aurat ney choti umar laundey sey chudaiyaछोड़ो मुझे अच्छे लग रहा जल्दी छोडो जोर जोर से छोडो न जरा से दिखाओ फुल हद बफ चुड़ै वालीचोदो मुझे ओर जोर से चोदते रहो मेरी प्यासी चुत की फांकों को चौड़ा कर देने वाले चुदाई विडियोjethalal do babita xxx in train storieabade tankae ladake sex vjdeo hdmaa bati ki gand chudai kahani sexybaba .netBuabhiji xxxx sexdesiबुर में लंड घुसाकर पकापक पेलने लगाGokuldham ki aurte babita ke sath kothe pe gayi sex storiessaumya tandon sex babaBahen sexxxxx ful hindi vdowww.lund ko aunty ne kahada kara .comXossipc com madhu. balasex fakesbautay mammay or bata xxx videoXxxx mmmxxwife ko tour pe lejane ke bhane randi banaya antarvasna mumunn dutta nude photos hd babasaree uthte girte chutadon hindi porn storiessixbaba tamanaonline didi ke sath sex desiplay.net.intarak maheta ka olta chasma m tarak ne fudi m land kase dalaचूतजूहीbhai ne bhen ko peshab karte hue dekha or bhuri tarh choda bhi hindi storyroj nye Land se chudti huSexy parivar chudai stories maa bahn bua sexbabaSexbabanetcomsasor and baho xnxx porn video xbomboLadki.nahane.ka.bad.toval.ma.hati.xxx.khamibhan ko bhai nay 17inch ka land chut main dalahavas kacchi kali aur lala ka byaz xxx kahani antravasn story badanamiSexbaba. Net biwi our doodhwalaमेले में पापा को सिड्यूस कियाPooja sharm tv serial fake nudeHusband na wife ko suhagrat ma chuda storyपी आई सी एस साउथ ईडिया की भाभी कीसेक्सी हाँट फोटोxxxकहानी हिनदी सबदो मेलडकि ओर लडका झवाझावी पुद गांड लंट थाना किस aunty ki chudai loan ka bhugtangenelia has big boob is full naked sexbabasexbaba Urmila chut photobahan ki hindi sexi kahaniyathand papamogambo sex karna chahiye na jayeदेसी राज सेक्सी चुड़ै मोटा भोसडा क्सक्सक्सक्सक्सक्सबुर देहाती दीखाती वीडीओansha shyed ki possing boobs photosआह ओह आऊच फोटो Nxxxxxxbhen ko chudte dheka fir chodavsex strybaby / aur Badi sali teeno ki Jabardast chudai Sasural MeinXXXWWWTaarak Mehta Ka toilet sexy vidio muh me mutna.combuddhe naukar se janbujh kar chudavaya kahanivideo. Aur sunaoxxx.hdsaas ne pusy me ring lagai dirty kahanisuhasi dhami ki nude nahagi imagesbollywood actress shemale nude pics sexbaba.comLadki ke upar sarab patakar kapde utarekatrina kaif sex babaSex baba hindi siriyal gili all nude pic hd mbimar behen ne Lund ka pani face par lagaya ki sexy kahanimoulwi se chudayi ki Hindi sex storyanguri and laddu sex storyलडकिया चोदने नही देती उसपे जबरदस्ती करके चोदेUsa bchaadani dk choda sex storysexvidaomompooja bose xxx chut boor ka new photoदेसी फिलम बरा कचछा sax Priyanka Chopra ka chodne wali bf ladki ka pani nikalne wali bf XX full HDKutte se chudwake liye mazeboksi gral man videos saxysaheli ne mujhe mze lena sikha diyawww sexbaba net Thread maa ki chudai E0 A4 AE E0 A4 BE E0 A4 AC E0 A5 87 E0 A4 9F E0 A4 BE E0 A4 94