Hindi Samlaingikh Stories समलिंगी कहानियाँ
07-26-2017, 11:03 AM,
#51
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
मस्त कर गया पार्ट --15
************ ********* ********* ********* ********* ********* ********* ********* *****
उस दिन शाम को काशिफ़ का रिसेप्शन था! मैं सुबह उठा और आकाश के जाने के बाद बिना नहाये ही सामने राशिद भैया के घर चला गया! मेरी नज़रें ज़ाइन को ही ढूँढ रहीं थी! उसने मुझे निराश नहीं किया और कुछ ही देर में अपने दो कजिन्स के साथ आया! मैने उसकी नमकीन जवानी के दर्शन से अपना दिन शुरु किया! उस दिन के बाद से ज़ाइन को वापस अकेले लाकर उस मूड में लाना मुश्किल हो रहा था! शादी के चक्‍कर में मौका ही नहीं मिल रहा था! ट्रेन पर मौका था तो आकाश मिल गया! इलाहबाद में मौका था तो वहाँ वसीम और आसिफ़ मिल गये! फ़िर मैने सोचा कि राशिद भाई के सिस्टम पर ही मेल चेक कर लूँ! उस दिन भी ज़ायैद की मेल आयी थी!

"आज मैं बहुत हॉर्नी फ़ील कर रहा हूँ... यू नो, मेरे होल में गुदगुदी हो रही है... जब उँगली से सहलाता हूँ तो बहुत अच्छा लगता है! माई फ़्रैंड्स जस्ट टॉक अबाउट गर्ल्स, बट आई कीप लुकिंग एट माई फ़्रैंड्स... समटाइम्स आई वाँट टु हैव सैक्स विथ दैम ऑल्सो! अब तो पुराने पार्टनर्स से गाँड मरवाने में मज़ा भी नहीं आता है! अब तो आपसे मिलने का दिल भी करता है! आई वाँट टु होल्ड युअर कॉक एंड फ़ील इट! आई ऑल्सो वाँट टु सक इट एंड फ़ील इट डीप इन्साइड माई होल! आपका लँड अंदर जायेगा तो दर्द होगा... मे बी आई माइट इवन शिट बट आई स्टिल वाँट इट..."

ये और ऐसी और भी बातें उसने लिखी थी! मैने उसका जवाब दिया और लॉग ऑउट हो गया! ये एक एक्सिडेंट ही था कि ज़ायैद को एक दिन हिन्दी-गे-ग्रुप के बारे में पता चला, जहाँ उसने मेरी कहानियाँ पढीं और हमारे बीच ये एक तरह का अफ़ेअर सा शुरु हो गया! ज़ायैद धीरे धीरे डेस्परेट हो रहा था!
एक बार जब मैने उससे पूछा कि उसको क्या पसंद है तो उसने लिखा था!
"अआह... मैं किसी मच्योर आदमी की वाइफ़ की तरह बहाने करना चाहता हूँ... नयी नयी चीज़ें एक्सपेरिमेंट करना चाहता हूँ! मेरे फ़्रैंड्स सिर्फ़ सैक्स करते हैं बट आई वाँट टु डू मोर... मे बी गैट लिक्ड... मे बी ट्राई इवन पिस एंड थिंग्स लाइक दैट... यु नो ना? लडका था तो गर्म, मगर था मेरी पहुँच से बहुत दूर... ना जाने कहाँ था ज़ायैद...

उस दिन मैने एक नया लडका भी देखा! उसका नाम शफ़ात था और वो मेरे एक दोस्त का छोटा भाई था जो राशिद भाई के यहाँ भी आता जाता था! उसकी काशिफ़ से दोस्ती थी! उस समय में बी.एच.यू. में एम.बी.बी.एस. सैकँड ईअर में था! पहले उसको देखा तो था मगर अब देखा तो पाया कि वो अच्छा चिकना और जवान हो गया है! मैने उससे हाथ मिलाया! वो कुछ ज़्यादा ही लम्बा था, करीब ६ फ़ीट ३ इँच का जिस कारण से उसकी मस्क्युलर बॉडी सैक्सी लग रही थी! मैने उसको देखते ही ये अन्दाज़ लगाया कि ना जाने वो बिस्तर में कैसा होगा! ये बात मैं हर लडके से मिल कर करता हूँ! मैने नोटिस किया कि ज़ाइन शफ़ात से फ़्रैंक था! मुझे कम्प्यूटर मिला हुआ था इसलिये मैं अपनी गे-स्टोरीज़ की मेल्स चेक करता रहा! कुछ इमजेज़ भी देखीं, दो विडीओज़ देखे और गर्म हो गया! फ़िर बाहर सबके साथ बैठ गया! मैने देखा कि शफ़ात की नज़रें घर की लडकियों पर खूब दौड रहीं थी... खास तौर से राशिद भाई की भतीजी गुडिया पर! वैसे स्ट्रेट लडको के लिये १२वीँ में पढने वाली गुडिया अच्छा माल थी! वो बिल्कुल वैसी थी जैसे लडके मैं ढूँढता हूँ! नमकीन, गोरी, पतली, चिकनी! शफ़ात के चिकने जवान लँड के लिये उसकी गुलाबी कामुक चूत सही रहती! गुडिया मुझसे भी ठीक ठाक फ़्रैंक थी! बस ज़ाइन मेरे हाथ नहीं आ रहा था... किसी ना किसी बहाने से बच जाता था!

उस दिन बैठे बैठे ही सबका राजधरी जाने का प्रोग्राम बन गया! क्योंकि राशिद भैया के काफ़ी रिश्तेदार थे, सबने सोचा, अच्छी पिकनिक हो जायेगी! राजधरी बनारस से करीब दो घंटे का रास्ता है और मिर्ज़ापुर के पास पडता है! वहाँ एक झरना और ताल है जिसमें लोग पिकनिक के लिये जाते हैं! उसके पास छोटे छोटे पहाड भी हैं! जब मुझे ऑफ़र मिला तो मैं भी तैयार हो गया! अगली सुबह रिसेप्शन के बाद जाने का प्रोग्राम बना! सब मिला कर करीब ३० लोग हो गये थे!

शाम के रिसेप्शन में भीड भाड थी, घर के पास ही पन्डाल लगा था, लाइट्स थी, गाने बज रहे थे, सब इधर उधर चल फ़िर रहे थे! वहाँ के घर पुराने ज़माने के बने हुये हैं... हैपज़ार्ड! जिस कारण कहीं एक दम से चार मन्ज़िलीं हो गईं थी, कहीं एक ही थी! मेरे और राशिद भैया के घर में एक जगह बडी छत कहलाती थी, जो एक्चुअली फ़िफ़्थ फ़्लोर की छत थी, फ़िफ़्थ फ़्लोर पर सिर्फ़ एक छोटी सी कोठरी थी... ये उसकी छत थी जिसके एक साइड मेरा घर था और एक साइड उनका! मैं अक्सर वहाँ जाकर सोया करता था! उसकी एक छोटी सी मुंडेर थी ताकि कोई करवट लेकर नीचे ना आ जाये! ज़्यादा बडी नहीं थी! वहाँ से पूरा मोहल्ला दिखता था!

फ़िल्हाल मैं चिकने चिकने जवान नमकीन लौंडे ताड रहा था! साफ़ सुथरे कपडों में नहाये धोये लौंडे बडे सुंदर लग रहे थे! मगर वो शाम सिर्फ़ ताडने में ही गुज़री! कोई फ़ँसा नहीं! क्योंकि अगली सुबह जल्दी उठना था मैं तो जल्दी सोने भी चला गया!

दूसरे दिन काफ़िले में पाँच गाडियाँ थीं और कुल मिलकर करीब आठ चिकने लौंडे जिसमें ज़ाइन और शफ़ात भी थे और उनके अलावा कजिन्स वगैरह थे! राजधारा पर पहुँच के पानी का झरना देख के सभी पागल हो गये! सभी पानी में चलने लगे! कुछ पत्थरों पर चढ गये! कुछ कूदने लगे! कुछ दौडने लगे! मैने पास के बडे से पत्थर पर जगह बना ली क्योंकि वो उस जगह के बहुत पास थी जहाँ सब लडके अठखेलियाँ कर रहे थे... खास तौर से ज़ाइन! उस जगह की ये भी खासियत थी कि वो उस जगह से थोडी हट के थी जहाँ बाकी लोग चादर बिछा कर बैठे थे! यानि पहाडों के कारण एक पर्दा सा था! इसलिये लडके बिना रोक टोक मस्ती कर रहे थे! मेरी नज़र पर ज़ाइन था! वो उस समय किनारे पर बैठा सिर्फ़ अपने पैरों को भिगा रहा था!
"ज़ाइन... ज़ाइन..." मैने उसे पुकारा!
"नहा लो ना... तुम भी पानी में जाओ..." मैने कहा!
"नहीं चाचा, कपडे नहीं हैं..."
"अच्छा, इधर आ जाओ.. मेरे पास... यहाँ अच्छी जगह है..."
"आता हूँ..." उसने कहा मगर उसकी अटेंशन उसके सामने पानी में होते धमाल पर थी! सबसे पहले शफ़ात ने शुरुआत की! उसने अपनी शर्ट और बनियान उतारते हुए जब अपनी जीन्स उतारी तो मैं उसका जिस्म देख के दँग रह गया! वो अच्छा मुस्च्लुलर और चिकना था, साथ में लम्बा और गोरा! उसने अंदर ब्राउन कलर की फ़्रैंची पहन रखी थी! मैने अपना फ़ोन निकाल के उस सीन का क्लिप बनाना शुरु कर दिया! शफ़ात ने जब झुक के अपने कपडे साइड में रखे तो उसकी गाँड और जाँघ का बहुत अच्छा, लँड खडा करने वाला, व्यू मिला! मेरा लौडा ठनक गया! उसको देख के सभी ने बारी बारी कपडे उतार दिये... और फ़ाइनली ज़ाइन ने भी!

मैने ज़ाइन के जिस्म पर अपना कैमरा ज़ूम कर लिया! वो किसी हिरनी की तरह सुंदर था! उसके गोरे बदन पर एक भी निशान नहीं था! व्हाइट चड्‍डी में उसकी गाँड क़यामत थी! गाँड की मस्क्युलर गोल गोल गदरायी फ़ाकें और फ़ाँकों के बीच की दिलकश दरार! पतली चिकनी गोरी कमर पर अँडरवीअर के इलास्टिक... फ़्लैट पेट... छोटी सी नाभि... तराशा हुआ जिस्म... छाती पर मसल्स के कटाव... सुडौल जाँघें और मस्त बाज़ू... वो खिलखिला के हँस रहा था और हँसता हुआ पानी की तरफ़ बढा! मेरा लँड तो जैसे झडने को हो गया! उसको उस हालत में देख कर मेरा लौडा उफ़न गया! फ़िर सब मुझे भी पानी में बुलाने लगे! जब देखा कि बच नहीं पाऊँगा तो मैं तैयार हो गया!

जब मैं किनारे पर खडा होकर अपने कपडे उतर रहा था तो मैने देखा कि ज़ाइन मेरी तरफ़ गौर से देख रहा था! उसने मेरे कपडे उतरने के एक एक एक्ट को देखा और फ़िर मेरी चड्‍डी में लँड के उभार की तरफ़ जाकर उसकी आँखें टिक गयी! मैं सबके साथ कमर कमर पानी में उतर गया! पानी में घुसते ही मेरे बदन में इसलिये सिहरन दौड गयी कि ये वही पानी था जो ज़ाइन और शफ़ात दोनो के नँगे बदनों को छू कर मुझे छू रहा था! एक तरफ़ वॉटरफ़ॉल था! मैने शफ़ात से उधर चलने को कहा! हम सीधे पानी के नीचे खडे हो गये! वो भी खूब मस्ती में था, मैं भी और बाकी सब भी...
"आपने इसके पीछे देखा है?" शफ़ात ने कहा!
वो मुझे गिरते पानी के पीछे पत्थर की गुफ़ा के बारे में बता रहा था... जहाँ चले जाओ तो सामने पानी की चादर सी रहती है!
"नहीं" मैने वो देखा हुआ तो था मगर फ़िर भी नहीं कह दिया !
"आइये, आपको दिखाता हूँ... बहुत बढिया जगह है..."
पानी में भीगा हुआ, स्लिम सा गोरा शफ़ात अपनी गीली होकर बदन से चिपकी हुई चड्‍डी में बहुत सुंदर लग रहा था... बिल्कुल शबनम में भीगे हुये किसी फ़ूल की तरह! उसके चेहरे पर भी पानी की बून्दें थमी हुई थी! जब हम वहाँ पहुँचे तो मैने झूठे एक्साइटमेंट में कहा!
"अरे ये तो बहुत बढिया है यार..."
"जी... ये जगह मैने अपने दोस्तों के साथ ढूँढी है..." मैने जगह की तारीफ़ करते हुये उसके कंधे पर हाथ रखते हुये उसकी पीठ पर हाथ फ़ेरता हुआ अपने हाथ को उसकी कमर तक ले गया तो ऐसा लगा कि ना जाने क्या हुलिया हो! उसका जिस्म चिकना तो था ही, साथ में गर्म और गदराया हुआ था!
"तुम्हारी बॉडी तो अच्छी है... लगता नहीं डॉक्टर हो..."
"हा हा हा... क्यों भैया, डॉक्टर्स की बॉडी अच्छी नहीं हो सकती क्या? हम तो बॉडी के बारे में पढते हैं..."
"ये जगह तो गर्ल फ़्रैंड लाने वाली है..."
"हाँ है तो... मगर अब सबके साथ थोडी ला पाता..."
"मतलब है कोई गर्ल फ़्रैंड?"
"हाँ है तो..." मेरा दिल टूट गया!
"मगर हर जगह उसको थोडी ला सकता हूँ... उसकी अपनी जगह होती है..."
मैने सोचा कि ये लौंडा तो फ़ँसेगा नहीं, इसलिये एक बार दिल बहलाने के लिये फ़िर उसकी पीठ सहलायी!
"तो बाकी जगह पर क्या होगा?"
"हर जगह का अपना पपलू होता है... पपलू जानते हैं ना?"
"हाँ, मगर तुम्हारा मतलब नहीं जानता... हा हा हा..."
"कभी बता दूँगा..."
"अच्छा, तुमने ऊपर देखा है? जहाँ से पानी आता है..."
"हाँ... चलियेगा क्या?"
"हाँ, चलो..."
"वो तो इससे भी ज़्यादा बढिया जगह है... आप तो यहाँ ही कमर सहलाने लगे थे... वहाँ तो ना जाने क्या मूड हो जाये आपका..."
"चलो देखते हैं..." लौंडे ने मेरा इरादा ताड लिया था... आखिर था हरामी...
ऊपर एक और गहरा सा तलाब था और उसके आसपास घनी झाडियाँ और पेड... और वहाँ का उस तरफ़ से रास्ता पत्थरों के ऊपर से था!
"कहाँ जा रहे है... मैं भी आऊँ क्या?" हमको ऊपर चढता देख ज़ाइन ने पुकारा!
"तुम नहीं आ पाओगे..." शफ़ात ने उससे कहा!
"आ जाऊँगा..."
"अबे गिर जाओगे..."
शायद ज़ाइन डर गया! हम अभी ऊपर पहुँचे ही थे कि हमें पास की झाडी में हलचल सी दिखी!
"अबे यहाँ क्या है... कोई जानवर है क्या?"
"पता नहीं..." मगर तभी हमे जवाब मिल गया! हमें उसमें गुडिया दिखी!
"ये यहाँ क्या कर रही है?" शफ़ात ने चड्‍डी के ऊपर से लँड रगडते हुए कहा!
"कुछ 'करने' आयी होगी..."
"'करने' के लिये इतनी ऊपर क्यों आयी?"
"इसको ऊपर चढ के 'करने' में मज़ा आता होगा..." मैने कहा!
"चुप रहिये... आईये ना देखते हैं..." उसने मुझे चुप रहने का इशारा करते हुये कहा!
उसके ये कहने पर और गुडिया को शायद पिशाब करता हुआ देखने के ख्याल से ही ना सिर्फ़ मेरा बल्कि शफ़ात का भी लँड ठनक गया! अब हम दोनो की चड्‍डियों के आगे एक अजगर का उभार था! हम चुपचाप उधर गये! गुडिया की गाँड हमारी तरफ़ थी और वो शायद अपनी जीन्स उतार रही थी! उसने अपनी जीन्स अपनी जाँघों तक सरकायी तो उसकी गुलाबी गोल गाँड दिखी... बिल्कुल किसी चिकने लौंडे की तरह... बस उसकी कमर बहुत पतली थी और जाँघें थोडी चौडी थी! उसकी दरार में एक भी बाल नहीं था! फ़िर वो बैठ गयी और शायद मूतने लगी!
-
Reply
07-26-2017, 11:03 AM,
#52
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
"हाय... क्या गाँड है भैया.." शफ़ात ने मेरा हाथ पकड के दबाते हुए हलके से कहा!
"बडी चिकनी है..." मैने कहा!
"बुर कितनी मुलायम होगी... मेरा तो खडा हो गया..." उसने अब मेरा हाथ पकड ही लिया था!
मुझे गुडिया की गाँड देखने से ज़्यादा इस बात में मज़ा आ रहा था कि मेरे साथ एक जवान लडका भी वो नज़ारा देख के ठरक रहा था! देखते देखते मैने शफ़ात की कमर में हाथ डाल दिया और हम अगल बगल कमर से कमर, जाँघ से जाँघ चिपका के खडे थे!

फ़िर गुडिया खडी हुई, खडे होने में कुछ गिरा तो वो ऐसे मुडी कि हमें उसकी चूत और भूरी रेशमी झाँटें दिखीं! उसका फ़ोन गिरा था! उसने अपनी जीन्स ऊपर नहीं की! वो फ़ोन में कुछ कर रही थी... शायद एस.एम.एस. भेज रही थी!

"तनतना गया है क्या?" मैने मौके का फ़ायदा देखा और सीधा शफ़ात के खन्जर पर हाथ रख दिया!
"और क्या? अब भी नहीं ठनकेगा क्या?" उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की, बस हल्की सी सिसकारी भर के बोला!

तभी शायद गुडिया के एस.एम.एस. का जवाब सामने की झाडी में हलचल से आया, जिस तरफ़ वो देख रही थी! उधर झाडी से मेरे बाप का ड्राइवर शिवेन्द्र निकला! गुडिया ने उसको देख के अपनी नँगी चूत उसको दिखाई! उसने आते ही एक झपट्‍टे में उसको पकड लिया और पास के एक पत्थर पर टिका के उसका बदन मसलने लगा!
"इसकी माँ की बुर... यार साली... ड्राइवर से फ़ँसी है..." शफ़ात ने अपना लँड मुझसे सहलवाते हुये कहा!
"चुप-चाप देख यार.. चुप-चाप..."
देखते देखते जब शिवेन्द्र ने अपनी चुस्त पैंट खोल के चड्‍डी उतारी तो मैने उसका लँड देखा! शिवेन्द्र साँवला तो था ही, उसका जिस्म गठीला था और लँड करीब १२ इँच का था और नीचे की तरफ़ लटकता हुआ मगर अजगर की तरह फ़ुँकार मारता हुआ था... शायद वो अपने साइज़ के कारण नीचे के डायरेक्शन में था और उसके नीचे उसकी झाँटों से भरे काले आँडूए लटक रहे थे! गुडिया ने उसके लँड को अपने हाथ में ले लिया और शिवेन्द्र उसकी टी-शर्ट में नीचे से हाथ डाल कर उसकी चूचियाँ मसलने लगा! देखते देखते उसने अपना लँड खडे खडे ही गुडिया की जाँघों के बीच फ़ँसा के रगडना शुरु किया तो हमें अब सिर्फ़ उसकी पीठ पर गुडिया के गोरे हाथ और शिवेन्द्र की काली मगर गदरायी गाँड, कभी ढीली कभी भिंचती, दिखाई देने लगी!

इस सब में एक्साइटमेंट इतना बढ गया कि मैने शफ़ात का खडा लँड उसकी चड्‍डी के साइड से बाहर निकाल के थाम लिया और उसने ना तो ध्यान दिया और ना ही मना किया! बल्कि और उसने अपनी उँगलियाँ मेरी चड्‍डी की इलास्टिक में फ़ँसा कर मेरी कमर रगडना शुरु कर दिया! वो गर्म हो गया था!
फ़िर शिवेन्द्र गुडिया के सामने से हल्का सा साइड हुआ और अपनी पैंट की पैकेट से एक कॉन्डोम निकाल के अपने लँड पर लगाने लगा तो हमें उसके लँड का पूरा साइज़ दिखा! जब वो कॉन्डोम लगा रहा था, गुडिया उसका लँड सहला रही थी!
"बडा भयँकर लौडा है साले का..." शफ़ात बोला!
"हाँ... और चूत देख, कितनी गुलाबी है..."
"हाँ, बहनचोद... इतना भीमकाय हथौडा खायेगी तो मुलायम ही होई ना..."
शिवेन्द्र ने गुडिया की जीन्स उतार दी और फ़िर खडे खडे अपने घुटने मोड और सुपाडे को जगह में फ़िट कर के शायद गुडिया की चूत में लौडा दिया तो वो उससे लिपट गयी! कुछ देर में गुडिया की टाँगें शिवेन्द्र की कमर में लिपट गयी! वो पूरी तरह शिवेन्द्र की गोद में आ गयी! शिवेन्द्र अपनी गाँड हिला हिला के उसकी चूत में लँड डालता रहा! उसने अपने हाथों से गुडिया की गाँड दबोच रखी थी!

"भैया... कहाँ हो??? भैया... चाचा... चाचा..." तभी नीचे से आवाज़ आयी! ज़ाइन था, जिसकी आवाज़ शायद गुडिया और शिवेन्द्र ने भी सुनी! शिवेन्द्र हडबडाने लगा! जब आवाज़ नज़दीक आने लगी तो दोनो अलग हो गये और जल्दी जल्दी कपडे पहनने लगे!
-
Reply
07-26-2017, 11:04 AM,
#53
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
मस्त कर गया पार्ट --16

शिवेन्द्र पहले भाग गया, गुडिया ने भागते भागते मुझे देख लिया! शफ़ात ने अपना लँड चड्‍डी में कर लिया! तभी ज़ाइन आ गया मगर जब ज़ाइन आया तो उसने मेरे और शफ़ात की चड्‍डियों में सामने उभरे हुये लँड देखे!

"क्या हुआ? साले, इतनी गलत टाइम में आ गया..." शफ़ात बोला!
"क्यों, क्या हुआ?"
"कुछ नहीं..."

मगर ज़ाइन की नज़र हमारे लँडों से हटी नहीं क्योंकि उस समय हम दोनो के ही लौडे पूरी तरह से उफ़न रहे थे! मेरा लँड चड्‍डी में नीचे आँडूओं की तरफ़ था इसलिये उसका तना मुड के सामने से बहुत बडा उभार बना रहा था, जब्कि शफ़ात का लँड उसकी राइट जाँघ की तरफ़ सीधा कमर के डायरेक्शन में खडा था जिस कारण उसकी पूरी लेंथ पता चल रही थी! बदन की गर्मी से हमारे बदन तो सूख गये थे मगर चड्‍डियाँ हल्की गीली थी!

"साले टाइम देख के आता ना..."
"किसका टाइम?"
"भोसडी के... लौडे का टाइम..." शफ़ात ने खिसिया के कहा!
"देख क्या रहा है?" उसने जब ज़ाइन को कई बार अपने लँड की तरफ़ देखता हुआ देखा तो पूछा!
"कुछ नहीं..."
"कुछ नहीं देखा तो बेहतर होगा... वरना चल नहीं पायेगा..."
मैं चाह रहा था, या तो शफ़ात ज़ाइन को रगडना शुरु कर दे या वहाँ से भगा दे! मगर वैसा कुछ नहीं हुआ!
"चलो भैया नीचे चलते हैं... देखें तो कि फ़ूल मसलने के बाद कितना खिल रहा है..." शायद शफ़ात के दिमाग पर गुडिया का नशा चढ गया था!
"चलो" मैने भारी मन से कहा मगर मैने फ़िर भी ज़ाइन हाथ पकड लिया!
"हाथ पकड के चलो वरना गिर जाओगे..."
हम जिस रास्ते से आये थे वो चढने के टाइम तो आसान था मगर उतरने में ध्यान रखना पड रहा था क्योंकि पानी का बहाव तेज़ था! फ़िर एक जगह काफ़ी स्टीप उतार था! शफ़ात तो जवानी के जोश में उतर गया मगर ज़ाइन को मेरी मदद की ज़रूरत पडी! पहले मैं नीचे कूदा फ़िर ज़ाइन को उतारा और उतरने में पहले तो उसकी कमर पकडनी पडी जिसमें एक बार तो उसके पैर का तलवा मेरे होंठों से छू गया, और फ़िर जब उसको नीचे उतारा तो जान-बूझ के उसकी कमर में ऐसे हाथ डाला कि आराम से काफ़ी देर उसकी गदरायी गाँड की गुलाबी गोल फ़ाँकों पर हथेली रख रख के दबाया! मुझे तो उसकी चिकनी गाँड दबा के फ़िर मज़ा आ गया और छोडते छोडते भी मैने अपनी हथेली उसकी पूरी दरार में फ़िरा दी! ज़ाइन हल्का सा चिँहुक गया और उसने आगे चलते शफ़ात की तरफ़ देखा! शफ़ात भी मेरे सामने चड्‍डी पहने पत्थरों पर उतरता हुआ बडा मादक लग रहा था! उसकी गाँड कभी मटकती, कभी टाँगें फैलती, कभी पैर की माँसपेशियाँ तनाव में हो जातीं, कभी गाँड भिंचती! मैने बाकी की उतराई में ज़ाइन की कमर में हाथ डाले रखा!
"हटाइये ना..." उसने कहा!
"अबे गिर जायेगा.. पकड के रखने दे..." मैने कहा!
नीचे तलाब में समाँ अभी भी मस्ती वाला था, सब जोश में थे! खेल-कूद चल रहा था!
"आओ ना, ज़ाइन को गुफ़ा दिखाते हैं..." मैने कहा!
"आप दिखा दीजिये, मुझे कुछ और देखना है ज़रा..." शफ़ात ने जल्दबाज़ी से उतरते हुये कहा!
"कैसी गुफ़ा?" ज़ाइन ने पूछा!
"अभी दिखता हूँ... बहुत सैक्सी जगह है..." मैने जानबूझ के उस शब्द का प्रयोग किया था! मैने ज़ाइन का हाथ पकडा और पहले उसको पानी के नीचे ले गया क्योंकि उसके पीछे जाने का रास्ता उसके नीचे से ही था! फ़िर मैने जब मुड के देखा तो शफ़ात अपनी गीली चड्‍डी पर ही कपडे पहन रहा था! फ़िर मैं और ज़ाइन जब पानी की चादर के पीछे पहुँचे तो वो खुश हो गया!
"सच, कितनी अच्छी जगह है..."
"अच्छी लगी ना तुम्हें?" मैने उसकी कमर में अपना हाथ कसते हुये कहा!

उसको अपने बदन पर मेरे बदन की करीबी का भी आभास हो चला था! उसको लग गया था कि जिस तरह मैने अब उसकी कमर में हाथ डाला हुआ है वो कुछ और ही है!
"उंहू... चाचा क्या..." वो हल्के से इठलाया मगर मैने उसको और इठलाने का मौका ना देते हुये सीधा उसकी गाँड पर हथेली रख कर उसकी गाँड की एक गदरायी फ़ाँक को दबोच लिया और उसको कस के अपने जिस्म के पास खींच लिया!
"उस दिन की किसिंग अधूरी रह गयी थी ना... आज पूरी करते हैं..." मैने कहा!
"मगर चाचा यहाँ? यहाँ नहीं, कोई भी आ सकता है..."
"जल्दी करेंगे, कोई नहीं आयेगा..." मैने उसको और बोलने का मौका ही नहीं दिया और कसके उसको अपने सामने खींचते हुये सीधा उसके गुलाबी नाज़ुक होंठों पर अपने होंठ रख कर ताबडतोड चुसायी शुरु कर दी और उसके लँड पर अपना खडा हुआ लँड दबा दिया! वो शुरु में थोडा सँकोच में था, फ़िर जैसे जैसे उसका लँड खडा हुआ, उसको मज़ा आने लगा! उसने भी मुझे पकड लिया! उसके होंठों का रस किसी शराब से कम नहीं था! उसके होंठों चूसने में उसकी आँखें बन्द हो गयी थी! मैने अपने एक हाथ को उसकी गाँड पर रखते हुये दूसरे को सामने उसके लँड पर रख दिया और देखा कि उसका लँड भी खडा है! मैने उसको मसल दिया तो उसने किसिंग के दरमियाँ ही सिसकारी भरी! मैने फ़िर आव देखा ना ताव और उसकी चड्‍डी नीचे सरका दी!

शुरु में उसने हल्का सा रोका, मेरा हाथ पकडने की कोशिश भी की मगर जब मैने उसके नमकीन ठनके हुये लँड को हाथ में पकड के दबाना शुरु किया तो वो मस्त हो गया! इस बीच मैने उसकी गाँड फ़ैला के उसकी दरार में अपना हाथ घुसाया और फ़ाइनली अपनी उँगली से उसके छेद को महसूस किया!
"उफ़्फ़... साला क्या सुराख है..." मैने कहा और उसका एक हाथ लेकर अपने लँड पर रख दिया तो उसने जल्द ही मेरे लँड को चड्‍डी के साइड से बाहर कर के थाम लिया और जैसे उसकी मुठ मारने लगा!
"चाचा.. अआह... कोई आ ना जाये..."
"नहीं आयेगा कोई... एक चुम्मा पीछे का दे दो..."
"ले लीजिये..."
मैने झट नीचे झुकाते हुये उसको पलटा और पहले तो उसकी कमर में ही मुह घुसा के उसके पेट में एक बाँह डाल दी और दूसरे से उसकी गाँड दबाई! फ़िर रहा ना गया तो मैं और नीचे झुका और पहली बार उसके गुलाबी छेद को देखा तो तुरन्त ही उस पर अपनी ज़बान रख दी! उसने सिसकारी भरी!
"अआह... हाय... ज़ाइन हाय..." मैने भी सिसकारी भरी! जब मैं उसकी गाँड पर होंठ, मुह और ज़बान से बेतहाशा चाटने औए चूमने लगा तो वो खुद ही अपनी गाँड पीछे कर कर के हल्का सा आगे की तरफ़ झुकने लगा!
"सही से झुक जाओ..." मैने कहा!
"कोई आयेगा तो नहीं?"
"नहीं आयेगा.. झुक जाओ..."
उसने सामने के पत्थर की दीवार पर अपने दोनो हाथ टेक दिये और ऑल्मोस्ट आधा झुक गया! अब उसकी जाँघें भी फैली हुई थी! मैने उसके गाँड की चटायी जारी रखी, जिसमें उसको भी मज़ा आ रहा था!
पहले दादा! फ़िर बाप... और अब पोता...
तीनों अपनी अपनी तरह से गर्म और सैन्सुअल थे! तीनों ने ही मुझे मज़ा दिया और मेरा मज़ा लिया! ये मेरे जीवन में एक स्पेशल अनुभव था... शायद पहला और आखरी...

मेरे चाटने से उसकी गाँड खुलने लगी थी और उसका छेद और उसके आसपास का एरिया मेरे थूक में पूरी तरह से भीगा था! मैं ठरक चुका था... और वो भी! मैने उसकी गाँड के छल्ले पर उँगली रखी तो वो आराम से आधी अंदर घुस गयी! उसके अंदर बहुत गर्मी थी! मैने उँगली निकाली और उसको चाटा तो मुझे उसका टेस्ट मिला... उसकी नमकीन जवानी का टेस्ट! फ़िर मैं खडा हुआ और उसको कस के भींच लिया और अपना मुह खोल के उसके खुले मुह पर रख दिया तो हम एक दूसरे को जैसे खाने लगे! मैं अब साथ साथ उसकी गाँड में उँगली भी दिये जा रहा था! वो उचक उचक के मेरे अंदर घुसा जा रहा था! हमारे लँड आपस में दो तलवारों की तरह टकरा रहे थे! मैने उसको फ़िर झुकाया और अपनी उँगलियों पर थूक के अपने लँड पर रगड दिया! इस बार मैने उसके छेद को अपने सुपाडे से सहलाया! वो हल्का सा भिंच गया, मगर फ़िर खुल भी गया! जैसे ही सुपाडा थोडा दबा वो खुल भी गया, देखते देखते मैने अपना सुपाडा उसकी गाँड में दे दिया! उसकी गर्म गाँड ने मेरे सुपाडे को भींच लिया! मैने और धक्‍का दिया, फ़िर मेरा काफ़ी लँड उसके अंदर हो गया तो मैने धक्‍के देना शुरु कर दिये क्योंकि मुझे पता था कि उसकी बाकी की गाँड धक्‍कों से ढीली पड के खुल जायेगी! उसको मज़ा देने के लिये मैने उसका लँड थाम के उसकी मुठ मारना शुरु कर दी और फ़िर मेरा लँड उसकी गाँड में पूरा घुसने और निकलने लगा!

वो कभी सीधा खडा हो जाता कभी झुक जाता और उसका लँड मेरे हाथ में हुल्लाड मारने लगा!
"चाचा, अब झड जायेगा... मेरा झड जायेगा... माल गिरने वाला है..." कुछ देर में वो बोला!
मैं भी काँड खत्म करके नीचे जाना चाहता था, इसलिये मैने ना सिर्फ़ अपने धक्‍के गहरे और तेज़ कर दिये बल्कि उसका लँड भी तेज़ी से मुठियाने लगा! फ़िर उसकी गाँड इतनी कस के भिंची कि मेरा लँड ऑल्मोस्ट लॉक हो गया! फ़िर उसका लँड उछला! जब लँड उछलता, उसकी गाँड का छेद टाइट हो जाता! फ़िर उसके लँड से वीर्य की धार निकली तो मैने अपने हाथ को ऐसे रखा कि उसका पूरा वीर्य मेरी हथेली पर आ गया! मैने उसके वीर्य को उसके लँड पर रगड रगड के उसकी मुठ मारना जारी रखा! फ़िर उसकी एक एक बून्द निचोड ली और अपने धक्‍के तेज़ कर दिये! मैने अपनी वो हथेली, जो उसके वीर्य में पूरी सन चुकी थी, पहले तो अपने होंठों पर लगाई! उसका वीर्य नमकीन और गर्म था! फ़िर मैने उसको ज़बान से चाटा और फ़ाइनली जब मैं उसको अपने मुह पर क्रीम की तरह रगड रहा था तो मैं बहुत एक्साइटेड हो गया और मेरा लँड भी हिचकोले खाने लगा!
"आह... मेरा भी... मेरा भी झडने वाला है..." मैं सिसकारी भर उठा! और इसके पहले वो समझ पाता, मैने लँड बाहर खींचा और उसको खींच के अपने नीचे करते हुये उसके मुह में लँड डालने की कोशिश की! मगर इसके पहले वो मुह खोलता, मेरे लँड से वीर्य की गर्म मोटी धार निकली और सीधा उसके मुह, चिन, गालों और नाक पर टकरा गयी! वो हडबडाया और इस हडबडाहट में उसका मुह खुला तो मैने अपना झडता हुआ लँड उसके मुह में अंदर तक घुसा के बाकी का माल उसके मुह में झाड दिया!
वो शायद हटना चाहता था, मगर मैने उसको ज़ोर से पकड लिया था... आखिर उसने साँस लेने के लिये जब थूक निगला तो साथ में मेरा वीर्य भी पीने लगा! फ़िर अल्टीमेटली उसने मेरे झडे हुये लौडे को चाटना शुरु कर दिया! मुझे तो मज़ा आ गया! मैने अपने गे जीवन में एक खानदानी अध्याय लिख दिया था!

इस सब के दरमियाँ मैने ये ताड लिया था कि ज़ाइन ने जिस आराम से मेरे जैसे लौडे को घुसवा लिया था और चाटने के टाइम जो उसका रिएक्शन था और जिस तरह उसकी गाँड का सुराख ढीला हुआ था, उसको गाँड मरवाने का काफ़ी एक्स्पीरिएंस था और वो उस तरह का नया नहीं था जिस तरह का मैं शुरु में समझ रहा था! लडका खिलाडी था, काफ़ी खेल चुका था! मगर मुझे ये पता नहीं था कि उसने ये खेल किस किस के साथ खेला था! अब खाने का इन्तज़ाम हो चुका था और शफ़ात वहाँ पहले से बैठा था! गुडिया की रँगत चुदने के बाद उडी उडी सी थी! वो अक्सर शिवेन्द्र से नज़रें मिला रही थी! जब उसने मुझे देखा तो शरमा गयी और कुछ परेशान भी लगी! उसने मुझे देखते हुये देख लिया था! शफ़ात अब सिर्फ़ गुडिया की चूत के सपने संजो रहा था! शिवेन्द्र मस्त था! घर में बीवी थी जिससे दो बच्चे थे और यहाँ उसने ये कॉन्वेंट में पढने वाली चिकनी सी चुलबुली ख़रगोशनी पाल रखी थी! उसका लँड तो हर प्रकार से तर था! अब मुझे ज़ाइन को भी आराम से देखने में मज़ा आ रहा था! चोदने के बाद अब उसकी गाँड जीन्स पर से और भी सैक्सी लग रही थी... वैसे मेरी नज़र शफ़ात के लँड की तरफ़ भी जा रही थी और बीच बीच में मैं शिवेन्द्र को भी देख रहा था जो मुझे मर्दानगी का अल्टीमेट सिम्बल लग रहा था!

खाना खाने के बाद सब इधर उधर हुये तो मैं और शफ़ात फ़िर एक साथ टहलने लगे!
"आओ ना, कहीं सिगरेट पीते हैं..." नॉर्मल सर्कमस्टान्सेज में शायद वो मेरे साथ सिगरेट नहीं पीता मगर उस दिन इतना सब कुछ हो जाने के बाद फ़ौरन तैयार हो गया!
"चलिये, उधर चलते हैं..." उसने उस तरफ़ इशारा किया जिस तरफ़ से शायद गुडिया सुबह ऊपर गयी थी!
"चलो... लगता है, वो रास्ता तुम्हें पसंद आ गया है..."
"हाँ, अब वो रास्ता किसको नहीं पसंद होगा... सभी उसी रास्ते पर तो जाना चाहते हैं..."
"हाँ, वो भी अंदर तक..."
"अंदर बोलते हैं... मैं तो साला हाथ पाँव, सब अंदर घुसा दूँ... भैया, आपने देखा नहीं था, क्या हाल था..."
"हाँ, देखा तो था..."
हम जल्दी ही काफ़ी अंदर तन्हा से एरीआ में पहुँच कर एक पत्थर पर बैठ गये! वो अपनी टाँगें फ़ैला के बैठा था, जिस कारण उसकी टाँगों के बीच का हिस्सा खुला सामने दिख रहा था! उसकी पैंट की सिलाई दोनो टाँगों से दौडती हुई उसके आँडूए के ऊपर, उसकी ज़िप के पास एक जंक्शन बना रही थी!

"यार भैया, क्या सीन देखने को मिला... बता नहीं सकता, अभी तक क्या हाल है..."
"तो मुठ मार ली होती..."
"मुठ मार के मज़ा नहीं खराब करना चाहता था... साली, जब दिखती है ना वो, बस वही सीन याद आता है..."
"तो क्या करोगे? उससे माँगोगे क्या?"
"हाँ, सोच तो रहा हूँ... वरना साली का उठा के रेप कर दूँगा..."
"अच्छा? बडा खतरनाक इरादा है..."
"वैसे भैया, साली ने उसका पूरा का पूरा ले लिया था... मतलब साला बडा भयँकर लँड था..."
"हाँ, था तो बहुत बडा साले का..."
"बिल्कुल शायद घुटने तक आ जाता..."
"हाँ, नीचे झुका हुआ भी तो था..."
"आपने देखा था ना... कॉन्डोम भी बस एक तिहाई लँड ही कवर कर पाया था..."
"हाँ" मैने नोटिस किया कि शफ़ात भी शिवेन्द्र के लँड से बहुत प्रभावित था और रह रह कर उसके साइज़ की तारीफ़ कर रहा था!
"बिल्कुल देसी लौडा था..."
"हाँ, देसी तो होगा ना... साला फ़नफ़ना फ़नफ़ना कर बुर को डस रहा था..." उसने फ़िर कहा!
"हाँ, कैसे उठा उठा के सवारी करवा रहा था लौडे की..." मैने भी कहना जारी रखा!
"आप भी मस्त हो गये थे ना.. क्यों?"
"हाँ यार, सीन ही ऐसा था..."
"आपने तो मेरा ही थाम लिया था... अगर थोडी और देर होती तो शायद चूसने लगते..."
"हाँ यार, हो सकता है..."
"क्या?"
"हाँ यार, अगर थोडी देर और होता तो शायद चूस भी लेता..."
"हाँ, जिस तरह से आपने मेरा लँड थाम के हिलाना शुरु कर दिया था, मुझे यही लगा..."
"तुमने मना भी तो नहीं किया था ना यार..." मैने सिगरेट अपने पैर से बुझाते हुये कहा!
"क्यों मना करता? मज़ा भी आ रहा था ना.. आप ऐसे हिला रहे थे... पकड अच्छा रखा था आपने..."
"तुम भी सीन देखने में मस्त थे..."
"मतलब, ज़ाइन नहीं आता तो आप चूस लेते मेरा लौडा??? मेरा तो घाटा हो गया..." वो हँसते हुये बोला!
"हाँ यार" मैने उसकी जाँघ पर हाथ रखते हुये कहा!
"तुम चुसवाना चाह रहे थे क्या?"
"तब तो चुसवाना चाह रहा था..."
"और अब?"
"अब क्या बोलूँ... अब तो आपके ऊपर है..."
"अगर मैं बोलूँ कि ठीक है, तो?"
"तो चुसवा दूँगा..."
"अब यहाँ ठीक नहीं रहेगा ये सब... आराम से फ़ुर्सत से ज़्यादा सही लगता है..."
"कैसे यार, अब यहाँ फ़ुर्सत कैसे मिलेगी?" मैने उसकी पीठ पर हाथ फ़ेरा और दूसरा हाथ उसके लँड की तरफ़ ले जाने लगा!
"वापस चलिये, वापस चल के देखा जायेगा... कुछ छोटा छोटा पेग लगाया जायेगा... ज़्यादा मज़ा आयेगा..."
"वाह, तुम पेग भी लगा लेते हो?"
"और क्या, अब इसमें क्या है... जब मूड हल्का करना होता हो तो लगा लेता हूँ..."
"तब तो तुम्हारे साथ महफ़िल सही जमेगी..."
"और क्या भैया... बहुत सही जमेगी..."
-
Reply
07-26-2017, 11:04 AM,
#54
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
हम थोडी देर और वहीं बैठ के बातें करते रहे और फ़िर वापस चलने का शोर होने लगा! वापसी में मैं आराम से अपने मर्दाने ड्राइवर को ही देखता रहा! मेरे बगल में ज़ाइन था! जिसको मैं आराम से रगड भी रहा था... दो और लोग भी थे! बनारस पहुँचते पहुँचते ७ बज गये थे! सब थके हुये थे! मैं जब अपने घर जाने लगा तो शफ़ात दिखा!
"आओ, थोडा आराम कर लेते हैं..."
"बस १० मिनिट में आता हूँ, थोडा सा काम है... बस आता हूँ, आप चाय बनवाइये..." वो अपने शोल्डर पर एक बैग टाँगें हुये था! वापस आया तो मैं अपने कमरे में था! मेरा रूम सैकँड फ़्लोर पे था! थर्ड फ़्लोर पर बस दो कमरे थे और फ़ोर्थ पर, जैसा मैने बताया था, सिर्फ़ एक ही था! उसने अपना बैग उतार के बगल में रख दिया!
"कहाँ भाग के गये थे??? गुडिया को देखने गये थे क्या?"
"अरे नहीं... आप भूल गये क्या? कुछ बात हुई थी... या आपने इरादा बदल दिया?"
"क्या?"
"पेग वाली बात..."
"अच्छा... अरे तो पूछ तो लेते... मेरे पास स्टॉक है..."
"मैं अपनी ब्राँड लाने गया था..." कहकर उसने व्हाइट मिस्चीफ़ की बॉटल निकाल के दिखाई और वापस बैग में रख दी! मैं बेड पर टेक लगा के लेटा हुआ था! वो भी बेड पर ही बैठ गया!
"ग्लास-व्लास का इन्तज़ाम कर लीजिये ना..."
"हाँ... हो जायेगा..." मैं अब एक्साइटेड हो रहा था! लौंडा जिस आसानी से मेरे जाल में फ़ँसा था मुझे खुद ताज्जुब था! नमकीन सा चिकना लौंडा, जिसके बडे भाई को फ़ँसाने के लिये मैने बहुत कोशिश की थी मगर फ़ँसा नहीं पाया था! पहले पैग में ही उसने मेरा दिल तोड दिया!

"वैसे, आज मैं जल्दी चला जाऊँगा... मेरे रूम मेट की बर्थ-डे है..."
"तो??? अच्छा, ठीक है... चले जाना..."
"आओ ना, छत पर चलते हैं..." फ़िर मैने माहौल चेंज करने की कोशिश की!
"चलिये, खुली हवा में बैठेंगे..."
हम सबसे ऊपर वाली चत पर बैठे, चारों तरफ़ का नज़ारा देख रहे थे!

"आप बहुत चुप हैं..." तीसरे पेग के बाद वो बोला!
"यार, तूने दिल जो तोड दिया..."
"क्यों?"
"जाने की बात करके..."
"अरे ठीक है... देखा जायेगा... अभी तो हूँ, अभी तो बात-चीत करिये... आज दिन में तो बहुत बातें कर रहे थे, अब इतना चुप हैं..."
हम ज़मीन पर एक गद्‍दा डाल के मुंडेर से टेक लगा के बैठे थे!
"सच बताइये ना, आज कैसा लगा?"
"आज का दिन तो बहुत ही अच्छा निकला यार..."
"हाँ लाइव ब्लू फ़िल्म देखने को मिली... मगर साले का लौडा था बडा भयँकर..." उसने फ़िर शिवेन्द्र के लँड की तारीफ़ की!
"उसको देख के लगा नहीं था कभी की इतना लँड मोटा होगा..."
"हाँ यार, देख के नहीं लगता..."
"देसी आदमी है ना... देसी लौंडों के लँड बडे होते हैं..."
"अब बडा तो किसी का भी हो सकता है..."
"किसी गे को मिल जाये तो वो तो उसके लँड को छोडे ही नहीं..." शफ़ात ने कहा और अचानक ये कह कर उसने मेरी तरफ़ देखा!
"हाँ, वो तो है..."
"अगर मेरी जगह वो होता आज तो?"
"क्या मतलब... अच्छा अच्छा... तब तो मुझे दोनो हाथों से पकडना पडता... हा हा हा..."
"मगर उसका चूस नहीं पाते आप..." कहते कहते उसने मेरे कंधों पर अपना एक हाथ डाल दिया तो उसके हाथ की गर्मी से मैं मचलने सा लगा और मेरी ठरक जग उठी!
"तुम्हें कैसे पता कि नहीं चूस पाता?"
"मुह में ही नहीं ले पाते... साँस रुक जाती..."
"बडे लँड चूसने का अपना तरीका होता है..." मुझे नशा भी था और ठरक भी... इसलिये मैं हल्के हल्के खुल के ही बात करने लगा था!
"तुम्हारा कितना बडा है?"
"उतना बडा तो नहीं है... फ़िर भी काम लगाने लायक सही है..."
"अब सबका उतना बडा तो होता नहीं है... वो तो एक्सेप्शन था..." मैने कहा और उसकी जाँघ पर हाथ रख के हल्के हल्के सहलाने लगा!
"सोच रहा हूँ... अब ना जाऊँ, वरना पीने का सारा मज़ा खत्म हो जायेगा..." उसने कहा तो मैं खुश हो गया!
"हाँ, नहीं जाओ... यहीं रह जाओ आज..."
"मगर कपडे नहीं है..."
"मेरे ले लो ना... क्या पहन के सोते हो?"
"कुछ भी चलता है... वैसे आज लुँगी सही रहेगी और यहीं छत पर सोते हैं... कुछ ओढने के लिये ले आयेंगे!"
"चलो, अभी ही ले आते हैं..."

उसने एक लुँगी पहन ली और मैने एक शॉर्ट्स! वो ऊपर बनियान पहने हुये था और मैं अपनी एक टी-शर्ट! अब लुँगी के अंदर उसका लँड फ़िर उभर के हिलता हुआ दिखने लगा था और मैने भी शॉर्ट्स में अपना लँड खडा कर लिया था!
इस बार जब हम छत पर बैठे तो उसने लुँगी मोड के घुटनों पर कर ली और अपनी चिकनी जाँघें दिखाने लगा!

"बताइये... कभी सोचा भी नहीं था कि आपके साथ बैठ कर ऐसे दारू पियूँगा..."
"जब होता है ना तो ऐसा ही लगता है... क्यों अच्छा नहीं लग रहा है क्या?"
"अच्छा तो बहुत लग रहा है..."
"एक बात पूछूँ? बुरा तो नहीं मानेंगे आप..."
"पूछो यार..."
"आपने कभी ऐसा सीन पहले कहीं देखा था?"
"नहीं यार..."
"आपने मेरा पकड क्यों लिया था?"
"अब तुम्हारा इतना खडा था और खूबसूरत लग रहा था..."
"खूबसूरत?"
"हाँ खडा हुआ उछलता हुआ लँड खूबसूरत ही होता है..."
"पहले कभी... मतलब..."
"हाँ, एक दो बार..."
"कहाँ?"
"यहाँ भी... दिल्ली में भी..."
"आपके पकडने के स्टाइल से समझ गया था..."
"और तुमने किया कभी?"
"अभी तक तो नहीं... मगर एक बात बताऊँ? सच सच..."
"बताओ ना..."
"आज जब शिवेन्द्र उसकी ले रहा था, और जो उसकी गाँड दिख रही थी, मेरा दिल हुआ कि जब वो चूत ले रहा था, मैं उसकी गाँड में लँड डाल दूँ..."
"वाह यार, क्या सीन बताया... अगर ऐसा होता तो देख के मज़ा आ गया होता..."
"मैं उसकी गाँड के अंदर धक्‍के देता और वो चूत में धक्‍के देता..." अब उसका नशा बोल रहा था और उसने अपना लँड पकड लिया था!
"तो दे देते ना..."
"कहाँ हो पता है ऐसा... आप का क्या मन हुआ था?"
"मैं तो उसकी गाँड में मुह दे देता... उसकी बालों से भरी गाँड में..."
"वाह भैया वाह.. और... और..."
"और चूत से लँड निकलवा के चूस डालता..."
"अआह... चूत के पानी में डूबा हुआ लँड... मज़ा आ गया होता..."
"साले ने आपके मुह में मूत दिया होता तो?"
"उसको भी पी जाता..."
"हाँ... दारू का पेग बना के पी जाते हम... मतलब आप..."
"हाँ, यार हाँ... तुमको भी पिला देता..."
"मैने कभी पिया नहीं है..."
"तो आज पी लेते... वैसे तुम भी गे हो क्या?" मेरे अचानक पूछने पर वो चुप हो गया!
"पता नहीं... कभी हुआ ही नहीं तो क्या बताऊँ... वैसे दोनो का ही दिल करता है... चूत और गाँड दोनो का..."

मैने अब उसका लँड थाम लिया! वो सुबह की तरह फ़िर हुल्लाड मार रहा था!
"तुम्हारा लँड बहुत प्यासा है..."
"हाँ साले की प्यास आज तक बुझी ही नहीं है ना..."
"मैं बुझा दूँगा..." कहकर मैं झुका और मैने उसके लँड को मुह में लेकर चूसना शुरु कर दिया और देखते देखते हम नँगे हो गये! उस रात शफ़ात ने मुझे अपनी जवानी से हिला दिया! ऐसे ऐसे धक्‍के दिये कि मैं मस्त हो गया! उसने मुझे उस रात पहले दो बार चोदा, फ़िर भोर में जब हम नीचे कमरे में आ गये तो तीसरी बार फ़िर अपना लँड चुसवाया! उसमें बहुत भूख थी! वही भूख जिसकी मुझे प्यास रहती है!
-
Reply
07-26-2017, 11:04 AM,
#55
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
मस्त कर गया पार्ट --17

फ़िर सुबह हुई और शफ़ात अपने हॉस्टल के लिये निकल गया! जाते जाते मैने उससे उसका मोबाइल नम्बर ले लिया! उसने भी "हाँ ले लीजिये, कभी काम आयेगा" कहते हुए, खुशी खुशी अपना नम्बर दिया और मेरा दिल्ली वाला नम्बर ले लिया!

पूरी रात सोया नहीं था, इसलिये उसके जाते ही मैं वापिस सो गया! आधा घंटा ही हुआ था, कि दरवाजे पर खट खट हुई! मैं सिर्फ़ शॉर्ट्स मे था, फ़िर भी उठा और दरवाजा खोला! देखा, शिवेन्द्र था!
सुबह के ८ ही बजे थे और वो ज्यादातर ९ बजे तक आता था! इस टाइम उसे घर मे देख कर मुझे सर्प्राइज़ हुआ! मैने उसे कमरे मे बुलाया!
"इतनी जल्दी? और मुझ से क्या काम आ गया?" मैने पूछा!
"वो... कुछ का..म था... आपके पिताजी से आपके बारे मे पूछा तो उन्होने आपके रूम मे ही आने को कह दिया..." शिवेन्द्र कुछ सकपकाया हुआ था!
"ऐसा क्या काम आ गया, कि तुम सुबह सुबह, टाइम से पहले ही..." मैने अंगडाई लेते हुए कहा!

अंगडाई लेने से मेरी बॉडी खिंची और मेरी शॉर्ट्स, जिसमे मेरा लौडा सुबह सुबह की ठनक मे खडा हुआ था, थोडी नीचे सरक गयी और शॉर्ट्स का इलास्टिक बैंड लगभग मेरी झाँटों वाले हिस्से को दिखाने लगा!
"वो.. कल रात... जब घर लौटे... तो... वो..."
"तो क्या?"
"वो गुडिया..."
ये सुनते ही मेरा माथा ठनका!
"गुडिया क्या?"
"वो गुडिया... ने मुझे..."
"साफ़ साफ़ बोलो ना... गुडिया ने क्या... ठीक है, बेझिझक बोलो..."
"वो गुडिया ने बताया, कि कल दोपहर मे रजधारा मे, झरने के ऊपर... आप ने मुझे और गुडिया को..."
"ओह... हाँ... देखा तो था.."
"भैया जी... मैं यही कहने आया था..."
"क्या?"
"पेट का सवाल है... किसी से कुछ कहियेगा नहीं..."
"क्यों?"
"किसी को पता चल गया तो मैं कहीं का नहीं रहूँगा... आप के पिताजी तो मुझे नौकरी से निकाल ही देंगे... कोई और भी मुझे नौकरी पर नहीं रखेगा... बीवी है, २ बच्चे हैं... उनका पेट कैसे पालूँगा..."
"ये बात तो मेरे दिमाग मे आयी ही नहीं थी... मुझे कल ही इस बात का फ़ायदा उठा लेना चाहिये था..." मैने अपने आप से कहा! फ़िर मेरी आखों के सामने कल दोपहर का पहाडी वाला सीन दुबारा नाच गया! बस फ़र्क ये था, कि इस इमेजिनरी सीन मे, शिवेन्द्र का १२इँच का अजगर, चट्‍टान पर टिकी गुडिया की चुत की बजाय मेरी गाँड मे अन्दर बाहर हो रहा था!

"क्या सोचने लगे भैया जी? मेरी खातिर, मेरे बच्चो की खातिर... क्षमा कर दीजिये... भूल जाइये कि आपने कुछ देखा था... और मैं कोई जबर्दस्ती थोडी कर रहा था... गुडिया को भी तो मजा लेना था... वो तो दोनो की रजामन्दी से हो रहा था..."
"ह्म्म्म..." मैने जान बूझ के सीरिअस होते हुए कहा!
"आप चाहे, तो मैं आपके लिये कुछ भी कर जाऊँगा..."
"कुछ भी?" मैने उसकी गरज को टटोलने के लिये पूछा!
"हाँ भैया जी.. कुछ भी..."
"ठीक है, शाम को काम खत्म कब करते हो?"
"जी.. जब बाबूजी घर आ जाते हैं, मैं कार गैराज मे रख के अपने रूम पर चला जाता हूँ..."
"रूम पर और कौन कौन रहता है?" मैं प्लान बनाने लगा!
"२ ३ और ड्राइवर्स रहते हैं..."
"ठीक है... आज शाम को, काम खत्म करके, रूम पर जाकर, खाना वाना खा कर, ११ बजे तक वापिस आ जाना..."
"यहीं?"
"हाँ यहीं... घर वाले सब सो चुके होंगे... मैं चुप चाप गेट खोल के तुम्हे अन्दर ले लूँगा!"
"पर करना क्या है?"
"तुमसे मतलब? तुम चाहते हो ना कि मैं कल वाली बात किसी को ना कहूँ?"
"जी..." उसने घिघियाते हुए कहा!
"तो ठीक है... मैं किसी को नहीं कहूँगा... लेकिन अगर तुम रात को ११ बजे नहीं आये तो कल से नौकरी पर मत आना..." मैने थोडा टाइट होते हुए कहा!
"और हाँ, लुंगी कुर्ते मे आना..."
"जी भैया जी... आ जाऊँगा..." कह कर वो दबे पाँव मेरे रूम से निकल गया!
अब मुझे कुछ कुछ आइडिया लग रहा था, कि आज रात क्या होने वाला है... या यूँ कहिये कि मैं आज रात के प्लान बनाने मे जुट गया था!

तभी मुझे शफ़ात के कहे लफ़्ज़ याद आ गये... "...आज जब शिवेन्द्र उसकी ले रहा था, और जो उसकी गाँड दिख रही थी..."
मैने झट से शफ़ात को कॉल कर दिया!
"क्या बात है भैया... रात का नशा अभी उतरा नहीं और आपने कॉल भी कर दिया..." शफ़ात ने अल्साई आवाज़ मे कहा!
"तुझे अपनी कल वाली ख्वाहिश पूरी करवानी है क्या?" मैने उसको डायरेक्टली पूछा!
"कौनसी ख्वाहिश?" उसकी अल्साई आवाज़ एक दम से चौकन्नी हो गयी!
"वही... शिवेन्द्र की गाँड मे डालने की..." मैने उसे ललचाते हुआ कहा!
"क्या बोल रहे हो भैया... कल तो मैं कुछ और भी माँग लेता तो शायद वो भी मिल जाता..." वो खुशी से उछल पडा!
"ठीक है, तो फ़िर आज रात ठीक १२ बजे मेरे घर आ जाना, मैं मेन डोर खुला छोड दूँगा! तू चुप चाप सीधे मेरे रूम मे आ जाना... लेकिन कोई शोर मत करना... बाकी तू समझदार है..."
मैने जान बूझ कर शफ़ात को १ घंटे देर का टाइम दिया था! मेरे दिमाग मे कई आइडियाज़ आ और जा रहे थे!
मैने इसके पहले कभी किसी की मजबूरी का ऐसे फ़ायदा नहीं उठाया था... लेकिन आज तो फ़ायदा खुद चल के मेरे लौडे पर दस्तक दे रहा था! थोडी ही देर मे मेरे प्लान के सारे स्टैप्स साफ़ साफ़ सेट हो गये थे! और मैं निश्‍चिन्त हो कर वापिस सो गया!

शाम हुई तो मैं बेसब्री से ११ बजने का इन्तेज़ार करने लगा! १० बजते बजते सब सो चुके थे! मैं छत पर चहल कदमी करने लगा! तभी गली मे घुसता हुआ शिवेन्द्र दिखा! मैं फ़टाफ़ट नीचे आया और मेन डोर खोल कर उसे अन्दर ले लिया और शफ़ात के लिये डोर खुला छोड के शिवेन्द्र को लेकर अपने रूम मे आ गया!

"जी भैया जी... बोलिये... क्या करना है?"
मुझे लगा कि शायद उसे भी आइडिया हो गया था, कि मैने उसे किस काम के लिये इतनी रात मे स्पेशिअली लुंगी मे बुलवाया था! क्योंकि जब वो रूम मे घुसा तो मैने नोटिस किया कि उसने लुंगी के नीचे कुछ नहीं पहना था और उसका १२इँची अजगर बार बार हिल हिल कर लुंगी के कपडे को झटके दे रहा था! शायद, शिवेन्द्र जिस 'काम' की कल्पना कर रहा था, उस की वजह से उसके अजगर की नींद टूट चुकी थी!
होता भी यही है, बडे लँड के मालिकों को अपने लँड पर इतना गुरूर होता है, कि सोचते हैं की सब उनके लँड के पीछे हैं! ऐसा ही कुछ शिवेन्द्र ने भी सोचा था, कि मैने उसको अपनी गाँड मरवाने के लिये बुलवाया है! कुछ हद तक वो सही सोच भी रहा था, लेकिन मेरे प्लान्स कुछ और थे!

"चल मेरे कपडे खोल... पहले मेरी शर्ट के बटन्स खोल..." मैने उसको हुकुम दिया!
"जी भैया जी..." अभी सब उसके मुताबिक ही चल रहा था! उसने बडे मन से मेरी शर्ट के बटन्स खोलने शुरु किये! उसकी उंगलियाँ बटन्स खोलते हुए, बार बार मेरे निप्प्लस से खेल रही थी! लग रहा था, कि वो ख्यालो मे किसी लडकी के ब्लाउज़ के बटन्स खोल रहा था!
"जितना कहा जाये, उतना ही कर" मैने उसको डाँटते हुए कहा!
"जी भैया जी..."
"चल अब मेरी बनियार उतार..."
उसने धीरे धीरे मेरी बनियान उतारी... लेकिन इस बार उसके हाथों मे कम्पन था, शायद मेरी डाँट का असर था!
"चल, अब मेरी बगलो मे मुह घुसा, और याद रखना... जब तक मैं ना कहूँ, मुह हटाना नहीं..."
"जी... जी.. भैया जी..."
शिवेन्द्र ने मेरी बगल मे अपनी नाक रखी और कुछ देर बाद, जब वो साँस रोक नहीं पाया तो उसे मेरी बगलों की स्मेल लेनी ही पडी!
"अब राइट साइड वाली... और इस बार नाक नहीं... जीभ... समझा?"
"जी???" शिवेन्द्र ने करीब करीब पूछा!
"हाँ..." मेरे पास ज्यादा टाइम नहीं था!
उसने हिचकिचाते हुए, मेरी राइट अन्डर-आर्म को जीभ से चाटना शुरु कर दिया!
"ऐसे चाट, जैसे अपनी बीवी के मम्मे चूसता है और जैसे गुडिया की चूचियाँ खा रहा था..."
अब वो अपने होंठ और दाँत मेरी बगलों पर यूज़ कर रहा था! यह अनुभव मुझे बहुत ही बढिया लग रहा था!
"चल, अब अपना कुर्ता उतार दे..."
मेरे गुलाम ने मेरा आदेश सुनते ही अपना कुर्ता उतार दिया! उसकी छाती पर सही वाले घुँघराले बाल थे! वो फ़िर से मेरी अन्डर-आर्म्स पर लग गया! जब वो मेरी बगलें चूस रहा था, मैं उसके बडे बडे निप्प्लस से खेल रहा था! बीच बीच मे मैं उसके निप्प्लस को मरोड भी देता... और उसकी चीख सी निकल जाती!
"चल अब अपनी लुंगी खोल दे..."
"जी भैया जी.."
उसने बेधडक अपनी लुंगी खोल दी.. उस जैसे मर्दो को अपने लँड की वजह से कपडे खोलने मे कोई शरम तो होती ही नहीं है!
"चल अब घूम जा और अपनी गाँड की फ़ाँके खोल कर मुझे अपना छेद दिखा..."
एक आज्ञाकारी नौकर की तरह वो घूमा और गाँड फ़ैला का झुक गया!
"थोडा करीब आ..."
वो पीछे हुआ और मेरी ओर बढ गया!
"और करीब..."
अब उसका छेद बिल्कुल मेरी नजरों के आगे, मुझ से एक फ़ीट की दूरी पर था!
"ध्यान रखना... आवाज़ की तो..." कहते हुए, मैने अपनी सीधे हाथ की पहली उंगली, सूखी की सूखी, उसके छेद मे घुसा दी! उसका छेद बहुत ही टाइट था! अगर मैने ऑर्डर ना दिया होता तो वो चीख चुका होता! मैने अपनी उंगली वही रखी! उसकी मर्दानी चूत की मसल्स सिकुड खुल सिकुड खुल कर मेरी उंगली पर दबाव डाल रही थी! लेकिन जल्दी ही मेरी उंगली पर दबाव कम हो गया! मैने अपनी उंगली बाहर निकाल ली...
वो अभी भी वैसे ही झुका हुआ था! मैने अपनी पैन्ट खोली और अन्डरवीअर समेत नीचे गिरा दी!
पैन्ट गिरते ही उसे पता चल गया! वो घबरा कर उठा और मेरी ओर घूम कर बोला!
"भैया जी... ये सब हम से नहीं होगा... हम तो कुछ और समझे थे..."
"अभी तो कुछ हुआ ही कहाँ है... अभी तो बहुत कुछ होगा... चल घुटनो के बल बैठ जा और मेरे अजगर को नहला... देख ले... मेरा अजगर भी तेरे से ज्यादा फ़रक नहीं है..."
"नहलाऊँ? मतलब???"
"नहला मतलब... अपना मुह खोल... और अपने थूक से मेरे लँड को इतना चूस, इतना चूस... कि वो बिल्कुल साफ़ हो जाये, जैसे नहा के होता है..."
"भैया जी... मैने... पहले कभी लौडा नहीं चूसा है..."
"तो आज चूस... सोच ले..."
"जी..."
उसने अपना मुह खोला और मेरे खडे लँड का सुपाडा अपने मुह मे लिया... लेकिन बस उसके होंठ ही मेरे लँड को छू रहे थे! इस वजह से कुछ मजा नहीं आ रहा था!
"जैसे लॉलीपॉप चूसते हैं ना... वैसे.... तेरी जीभ, तेरा तालवा, तेरा हलक... सब कुछ मेरे लँड पर रगडना चाहिये... दाँतो के अलावा सब कुछ..."
अब उसे समझ आ गया था कि लँड कैसे चूसा जाता था... अब वो धीरे धीरे अपना मुह ऊपर नीचे करके मेरे लँड की चुसाई कर रहा था!
"चल, अब मेरा लँड छोड और मेरे गाँड के होल की चाट चाट के पूजा कर..."
शायद उसने इस बार रेज़िस्ट करना सही नहीं समझा क्योंकि उसे पता था कि रेज़िस्ट करने से कुछ होना तो था नहीं! पर गाँड चटवाने के लिये मुझे उसे बताना नहीं पडा! शायद उसे चूत मे जीभ देने का अच्छा अनुभव था! मेरी गाँडू गाँड का छेद तो उसकी जीभ लगते ही चौडा हो गया... और वो भी मेरे छेद को किसी लडकी की चूत का छेद समझ के खाने सा लगा! वो दाँतो से मेरे छेद की चुन्‍नटों को हल्के हल्के चबा भी रहा था! अब मेरा लँड और गाँड का छेद इतने गीले थे कि मैं उसके कुँवारे छेद की सवारी भी कर सकता था और उसके अजगर को अपनी मरदानी चूत के बिल मे भी पूरा का पूरा ले लेता! पर मेरा प्लान अभी एक चौथाई ही पूरा हुआ था!

"चल अब घूम जा... और बिस्तर पर उलटा हो कर लेट जा... और हाँ, अपना मुह तकिये मे कस के दबा लेना.. क्योंकि घर मे सब सो रहे हैं..."
"जी भैया जी.... जी???? क्या मतलब???"
"मतलब ये... कि अब मैं मेरे इस ९इँच के लँड से तेरी गाँड की सील तोडूँगा... और तेरे जैसे चोदूओं को तो पता होगा कि जब सील टूटती है तो कैसे चीखती है लौंडिया.... वैसे ही आज तू भी चीखेगा..." लेकिन मैं सिर्फ़ उसे डरा रहा था! मेरा इरादा उसे दर्द देने का नहीं था!
अगले पल मेरे बिस्तर मे, वो गबरु जवान, औंधे मुह, गाँड उठाये मेरे लँड का बेसब्री से इन्तज़ार करते हुए लेटा था! उस पोज़ मे उसका होल इतना टेम्प्टिंग था कि मैं ना चाहते हुए भी उसकी गाँड पर भूखे शेर की तरह टूट पडा और जीभ से उसके कुँवारे छेद को चाट चाट के इतना गीला कर दिया कि थूक बह बह कर बिस्तर पर गिरने लगा!
शायद ये मेरी चटाई का असर था कि जो छेद अभी कुछ देर पहले मेरी एक उंगली नहीं ले पा रहा था, वो अब खुला हुआ था... फ़िर भी मैने सावधानी बरतते हुए, धीरे धीरे अपना लँड, इँच दर इँच अन्दर देना शुरु किया!

मुश्किल से सुपाडा ही अन्दर गया था कि मुझे तकिये में से उसके गौं गौं की आवाज़े सुनाई देने लगी! मैं हँसने लगा! अभी तो ८ इँच तो बाहर ही थे... मैने हल्का सा धक्‍का दिया और मेरे लँड का १ और इँच उसकी ताजी ताजी गीली गाँड की सुरंग मे घुस गया! अब मैने उसे कुछ टाइम दिया और अपने लँड को वैसे ही उसकी गाँड मे अटकाये रखा... जैसे ही उसकी गाँड ने मेरे लँड की मोटाई को अड्जस्ट किया, उसके छेद की मसल्स मेरे लँड पर ढीली पड गई! मौका देखते ही मैने अगले ही झटके मे अपना लँड के २ इँच और अन्दर सरका दिये! इस बार थोडा आसान लगा! अगले झटके का इन्तजार करते करते मैं उसके ऊपर ही लेट गया और उसकी पीठ पर काटने लगा! शिवेन्द्र अब सही मुसीबत मे था... एक ओर गाँड मे लँड का दर्द और दूसरी ओर पीठ पर मेरे दाँत...
थोडी देर तक प्यार से उसकी पीठ पर काटने के बाद अचानक मैने उसके कँधे पर इतने जोर से काटा कि अगर उसका मुह तकिये मे ना होता तो उसकी चीख पूरे मोहल्ले को जगा देती! इस बेहिसाब दर्द ने उसका ध्यान गाँड के दर्द से हटा दिया और मैने उसी मौके का फ़ायदा उठा कर बाकी के ५ इँच भी एक झटके मे उसकी गाँड मे डाल दिये! अब वो बिस्तर पर चारो खाने चित्त था, और मैं उसके ऊपर...
अब उस से दर्द सहन नहीं हो रहा था! उसने तकिये से मुह निकाल से साइड किया और लम्बी लम्बी साँसें लेने लगा! मैने साइड से ही, वैसे ही लेटे लेटे, उसके होंठों को अपने मुह मे लिया और उन्हे चूसने लगा! उसके मोटे मोटे होंठों का स्वाद अलग ही था! अब उसके चेहरे से लग रहा था, कि उसे गाँड मे मेरे लँड से उतना दर्द नहीं हो रहा था! मैने उसके होंठों को छोडा और उसको उठाते हुए खुद भी थोडा उठ गया!
अब वो घोडा बन चुका था और मैं घुडसवार! मैने अपना लँड आधा उसकी गाँड से बाहर निकाला और धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा! सच मे, किसी टाइट छेद का मजा ही अलग होता है... उसकी गाँड के सुरंग की दीवारो का एक एक इँच मेरे लँड की सही से मालिश कर रहा था! अब उसके मुह से भी, जो आवाजें निकल रही थी, उनमे कुछ कुछ मजा पाने वाली सिसकारियाँ भी थी! मैने अपनी स्पीड बढा दी... और उसकी आवाज़ें भी मस्त होने लगी... लग रहा था कि किसी स्ट्रेट को गे सैक्स मे लाना इतना डिफ़िकल्ट भी नहीं है!
-
Reply
07-26-2017, 11:04 AM,
#56
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
घडी देखी... १२ मे २० कम थे! शफ़ात आने ही वाला था... मुझे प्लान का अगला स्टैप शुरू करना था! मैने अपना लँड बाहर निकाला और साइड मे लेट गया!
"तू भी आराम कर ले थोडा..."
इतना ज्यादा हो चुका था कि हमारे दिलों की रफ़्तार नॉर्मल होने का नाम ही नहीं ले रही थी! ५ मिनिट बाद जब थोडा नॉर्मल हुआ तो मैं उठा और उसके अजगर पर टूट पडा! वो अभी गाँड मरवाने के दर्द और मजे के मिले जुले अनुभव से उबरा भी नहीं था कि उसके लँड की चुसाई शुरू हो गयी थी! इस बार उसकी आवाजों मे सिर्फ़ मजा ही मजा था! लगता था, उसे चुसवाने का एक्सपीरिएंस तो था! लेकिन शायद लौंडिया इतना ढंग से नहीं चूसती!

"क्या भैया जी... आप इसमे भी एक्स्पर्ट हो??? मेरा तो सर घूम रहा है..."
"देखता जा..."
"मेरा लँड इतना तो कभी खडा ही नहीं हुआ..."
"सही से चूसो तो लँड अपनी सही लम्बाई ले लेता है..."
"हाँ... कर दो... चूस डालो... मैं भी तो देखूँ, क्या लिमिट है मेरी... हाँ भैया जी.. खा जाओ... इसे निगल डालो... पूरा का पूरा... चिंता मत करो... जब तक नहीं कहोगे, नहीं झडूँगा... यही तो हुनर है मेरा... जिसकी वजह से कॉन्वेंट की सारी लडकियाँ मेरी दिवानी हैं..."
"देखते हैं..."
वाकई मे... मैं करीब १० मिनिट तक लगातर उसके १२ इँची लँड के सुपाडे को अपने हलक की दिवारों पर रगडता रहा और उसके आधे से ज्यादा लँड को निगलता रहा लेकिन उस के चेहरे पर क्लाइमेक्स के कोई हाव भाव नहीं थे! हाँ, वो मजे जरूर लेता दिख रहा था!
और सच मे... आज उसका लँड, कल के पहाडी वाले सीन से भी बडा दिख रहा था! या तो सच में ये चुसाई का असर था या कल और आज मे देखने मे फ़र्क था!

शफ़ात के आने का टाइम हो रहा था! मैने पिछले १० मिनिट मे पहली बार उसके लँड को मुह से निकाला!
"मुझे भी तो दिखा... क्या पसन्द आता है, कॉन्वेंट की लडकियों को तेरे मे..." मैने कहा!
"सच मे??? आपको ये भी शौक है?"
"हाँ..."
"मतलब, आपको... मेरा ये लँड... अपनी गाँड मे..."
"हाँ..."
"ले लोगे???"
"हाँ..."
"पूरा???"
"हाँ..."
"अच्छा, अगर दुखे तो बोल देना..."
"ठीक है... वैसे नहीं दुखेगा..." अब मैं अपने असली रूप मे वापिस आ गया था! जिस रूप मे मैं ऐसे मर्दों, ऐसे जिस्मों और ऐसे लौडों पर सब कुछ कुर्बान कर दूँ और इन्हे पाने के लिये कुछ भी कर जाऊँ! लेकिन अभी भी मैने ये सब उस पर जाहिर नहीं होने दिया!

मेरा छेद अभी भी, थोडी देर पहले हुई चटवाई से भीगा हुआ था और पूरी तरह खुला हुआ था! फ़िर भी... उसका लँड सबसे जुदा था! मुश्किल तो होनी ही थी! पहले सुपाडा और फ़िर अगले २ इँच तो आराम से अन्दर चले गये! लेकिन जब उसने प्रैशर बढाना शुरु किया तो मैने अपने होंठ काटने शुरु कर दिये! वो हल्के हल्के हँस रहा था! लेकिन उसने अपने लँड पर दबाव कम नहीं किया! वो अपने हाथो पर अपना वजन लिये था और उसकी टाँगे सीधी थी! फ़िर उसने अपने घुटने मोडे, अपनी टाँगे फ़ैलाई और मेरे ऊपर लेट सा गया! इस बीच वो अपने लँड के करीब ८ इँच मेरी गाँड की गहराईयों मे डुबो चुका था!

तभी कुछ हुआ और बाकी के ४ इँच एक दम से मेरी गाँड मे घुस गये! मेरी तो चीख ही निकल जाती लेकिन...
"अआह... कौन है???" शिवेन्द्र हडबडाते हुए बोला... वो करीब करीब चीखा ही था! मैने भी आँखे खोली! देखा तो मेरे प्लान का तीसरा पात्र, यानी शफ़ात, शिवेन्द्र के पीछे, उसकी पीठ से अपनी छाती चिपकाये, उसके ऊपर पडा था! अब समझ आया कि मुझे धक्‍का कैसे लगा था और कैसे एक दम से शिवेन्द्र का बाकी का लँड मेरे अन्दर घुस गया था!

शफ़ात टाइम पर आ गया था और जब मेरे कमरे तक पहुँचा तो देखा कि शिवेन्द्र मेरे ऊपर था और मेरी गाँड मे अपना हथियार डालने के लिये तैयार था! जब तक शिवेन्द्र ने मेरी गाँड मे अपने ८ इँच डाले, तक तक शफ़ात मूड में आकर नंगा हो कर, बैड पर चढ चुका था! इधर मैं और शिवेन्द्र इतने मगन थे कि पता भी नहीं चला कि शफ़ात कब आया, कब नंगा हुआ और कब बैड पर आया! और जैसे ही शिवेन्द्र ने पोज़िशन बदल के अपनी टाँगे फ़ैलाई, शफ़ात ने मौका देख कर, मेरे लँड से चौडे हुए शिवेन्द्र के छेद मे अपना खम्बा रोप दिया!

"ओह... ये... ये मेरा दोस्त है... तुमने कल इसे पिकनिक मे देखा होगा! लेकिन, अब और कोई सर्प्राइज़ नहीं आयेगा! मैं चाहता था कि जब तुम मेरी मारो, तो ये तुम्हारी गाँड मे अपना लँड डाले..." मैने शिवेन्द्र को समझाया!
"अब मैं तुम्हारी गाँड मे धक्‍के दूंगा और धक्‍के लगेंगे अम्बर भैया को..." शफ़ात ने शिवेन्द्र से कहा!
"ठीक है..." शिवेन्द्र ने भी कोई और चारा ना देख, बात मानते हुए कहा! शिवेन्द्र ने अपने लँड को आधा बाहर निकाला और उसी तरह शफ़ात ने भी अपने लँड के करीब ४ इँच शिवेन्द्र की गाँड से बाहर खींचे!
"रैडी?" शफ़ात ने शिवेन्द्र से पूछा!
"हाँ..."
फ़िर शफ़ात ने शिवेन्द्र की गाँड मे हौले से धक्‍का दिया और उससे शिवेन्द्र के लँड को धक्‍का लगा और वो फ़िर से मेरी खुली गाँड मे खो गया! अब शिवेन्द्र की बारी थी! उसने फ़िर से मेरी गाँड से अपना लँड बाहर खींचा और शफ़ात ने अपना! यही सब दोहराते दोहराते, २ ही मिनिट मे हमारी 'रेलगाडी' के दोनो 'इंजन' लय मे आ गये थे! शफ़ात का 'इंजन', शिवेन्द्र के 'इंजन' को धकेलता और लौटते मे शिवेन्द्र जब 'अपना' बाहर खीँचता तो शफ़ात भी...
इस लय और मस्ती के कारण हमारी आवाजें भी लय मे ऊपर नीचे हो रही थी! लग रहा था कि तीनो मिल कर किसी नाव को खे रहे थे, और हमारे हुँकारे एक साथ उठने और गिरने लगे! कब १२ से १ बज गये, पता ही नहीं चला!
इन सब के बीच मजे के साथ साथ, मेरे बदन की एक एक मसल ढीली हो गयी थी... मैं निढाल हो चुका था! उधर शफ़ात के लँड ने भी जवाब देना शुरू कर दिया था! उसकी आवाजें बता रही थी कि वो किसी भी वक़्त झड सकता है...
"अब बस करो..." मैने शिवेन्द्र को कहा!
"बस??? हो गया? मेरा तो अभी ही शुरु हुआ है भैया जी..." शिवेन्द्र ने डिस-अपॉइंट होते हुए कहा! उसके लिये तो सही वाली के.एल.पी.डी. थी! कल भी जाइन की वजह से उसे गुडिया की चूत बीच मे ही छोडनी पडी थी...
"ठीक है... तुम करते रहो... शफ़ात, तुम वहाँ से हटो.. और मेरी छाती पर आ जाओ..." मैने शिवेन्द्र को और टाइम देते हुए, शफ़ात से कहा!
शफ़ात उठा और मेरी छाती पर आ गया और अपने लँड को मेरे मुह मे दे कर चोदने लगा! लेकिन उन दोनो की लय अभी भी नहीं टूटी थी! मेरे दोनो छेदों में लँड एक साथ जाते और एक साथ बाहर निकलते! अगले २ ही मिनिट मे शफ़ात का लँड मेरे हलक मे हिचकोले खाने लगा! और उसने सीधे मेरे हलक मे धडाधड ७-८ धारें मार दी! धार मार कर वो मुझ पर से ऐसे हटा, जैसे जनमों से थका हुआ हो!

अब शिवेन्द्र को पूरी जगह मिल गयी थी और उसके मूवमेंट्स को भी! वो करीब करीब अपना पूरा का पूरा लँड बाहर निकालता और फ़िर अगले ही धक्‍के मे उसे वापिस मेरी गुफ़ा मे घुसेड देता! मुझे लग रहा था कि मेरी गाँडु गुफ़ा की दीवारो का कोई कोना ऐसा नहीं बचा होगा, जहाँ उसके अजगर की फ़ुँकार से सफ़ाई ना हुई हो!

अगले १० मिनिट मैने जैसे तैसे निकाले! दर्द तो नहीं हो रहा था, लेकिन मैं थक चुका था! मेरे बदन को शिवेन्द्र इतना धकेल चुका था कि रोम रोम थक के चूर हो गया था!
"शिवेन्द्र, अब तुम भी बस करो... लाओ मैं चूस दूँ तुमको..."
"ठीक है..." कहते हुए शिवेन्द्र ने अपने १२ इँच फ़क्‍क की आवाज़ के साथ मेरी गाँड से निकाले और मेरे मुह की ओर बढा दिये... मैं किसी भी तरह शिवेन्द्र को सैटिसफ़ाई करके झडवाना चाहता था, ताकि मैं उसके चेहरे पर क्लाइमेक्स के हाव भाव देख सकूँ और मुझे ये भी देखना था कि ये अजगर सिर्फ़ साइज़ का ही बडा है या थूकता भी उतना ही ज्यादा है!
मैने अपना असली तरीका इस्तेमाल किया और उसका लँड चूसते हुए, उसके आँडूओं और उसके 'छेद' के बीच की एक नस को ऐसे दबाया कि अगले ही पल उसका लँड मेरे मुह मे झटके खा रहा था! शिवेन्द्र ने अपना लँड मेरे मुह मे और गहरा देना शुरु किया! लेकिन मुझे उसके माल की क्वांटिटी देखनी थी, इसलिये मैने जबर्दस्ती उसका लँड अपने मुह से निकलवाया और अपना मुह जितना हो सकता था, उतना चौडा खोल लिया!
शिवेन्द्र ने नहीं नहीं करते हुए भी १० लम्बी लम्बी धारें मेरे चेहरे पर, मेरे मुह मे, मेरे गले पर, मेरी चेस्ट पर छोद दी! फ़िर उसकी धारें हल्की पड गयी तो मैं ऊपर उठा और उसके सुपाडे को मुह मे भर कर उसकी अगली ५-६ छोटी धारो को पीने लगा!
शिवेन्द्र के मुह से जोर जोर से हुँकारे निकल रहे थे! उसकी आखें जोर से भींची हुई थी और मुह खुला हुआ था! जैसे ही मैने उसका लँड छोडा, शफ़ात ने मेरे फ़ेस पर पडी उसकी पहली धारों को चाटना शुरु कर दिया! फ़िर उसने शिवेन्द्र का कुछ वीर्य मेरे चेस्ट पर से जीभ पर उठाया और जीभ से ही शिवेन्द्र के खुले मुह मे पास कर दिया!
शिवेन्द्र के लिये शायद ये पहली बार था! लेकिन अपना ही वीर्य था तो शायद उसे कोई आपत्ति नहीं हुई!

मैने नजर घुमा कर देखा, घडी में डेढ बज चुके थे! मैं, उस रात दोनों को अपने घर पर नहीं रखना चाहता था! दोनो ही सबके सोने के बाद आये थे इसलिये उन दोनो को एक एक कर के मैने रात मे ही अपने घर से विदा कर दिया! और मैं वैसे ही, उनके प्रेम पसीने मे, उनके वीर्य मे भीगा हुआ फ़िर से सो गया!
-
Reply
07-26-2017, 11:04 AM,
#57
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
मस्त कर गया पार्ट --18 लास्ट


मैं जब बनारस से वापस आया तो लगातार आकाश के कॉन्टैक्ट में रहने लगा! वो इस बीच एक बार देहली भी आया, उस रात का हमने पूरा फ़ायदा उठाया और इस दौरान वो मुझसे फ़िर थ्रीसम या फ़ोरसम की रिक्वेस्ट करता रहा! ऑफ़िस में मैने आशित पर पूरा ध्यान केन्द्रित किया हुआ था! उसके जिस्म का एक एक अँग ताड लिया था! उसकी झाँट और गाँड का एक एक बाल तक ऊपर से ही जैसे गिन सा लिया था! उसकी गाँड के सुराख की एक एक चुन्‍नट देख ली थी और लँड की लम्बाई नाप ली थी! उसके साथ ही लंच करता, उसके साथ ही चाय के लिये जाता! मैं और वो शाम में बैठ कर अपनी अपनी चैट करते! फ़िर एक दिन के लिये ऑफ़िस से जयपुर जाना पडा!

"यार, जब जा ही रहे हैं तो एक दिन घूम के भी आयेंगे..."
"आप रहेंगे तो ठीक है..." उसने कहा!
"चलो, तब मैं अपना और तुम्हारा दो दिन का ट्रिप रखता हूँ... जिसको जल्दी आना है, आ जायेगा..."
"हाँ, मैं आपके साथ हूँ..."

सुबह से लेकर करीब चार बजे तक तो हम जयपुर की मीटिंग में बिज़ी रहे! शाम में ऑफ़िस वालों ने साइट सीईंग का इन्तज़ाम किया और रात के १० बजे हम होटल की बार मैं बैठ गये!
"बहुत थक गये यार..." उसने बीअर पीते हुये कहा!
"हाँ यार..." मैं अब आने वाले समय के लिये एक्साइटेड था... क्या कुछ हो पायेगा या नहीं? मैने उसकी हर बात में इशारे ढूँढ रहा था, मगर कुछ मिल नहीं रहा था!
उसकी दारू की कैपेसिटी अच्छी थी! पहले दो बॉटल बीअर फ़िर तीन व्हिस्की! उसके बाद उसने खींच के चिकन खाया!
'चलो बढिया है... जवान लौंडों को ज़्यादा ताक़त चाहिये होती है... सब उनके आँडूओं में वीर्य बनकर स्टोर हो जाती है, जिससे वो अपना वंश चलाते हैं... और मुझ जैसों का भी भला हो जाता है...' मैने सोचा!

हम रूम पर गये तो वो सोया नहीं... बस अपने बेड पर बैठ गया और शूज़ उतार दिये! उसके सॉक्स से दिन भर के पसीने की बदबू आ रही थी, जो मुझे किसी परफ़्यूम की खुश्बू से कम नहीं लग रही थी! उसकी काली टाइट पैंट बडी सैक्सी लग रही थी! वो नशे में चूर था! देखते देखते उसने पीछे टेक लगायी और वैसे ही बैठे बैठे सो गया... मेरे सारे सपने तोड के...

मैने रूम की लाइट्स ऑफ़ करके नाइट लाइट्स ऑन कर दी और कुछ देर टी.वी. देखते देखते मेरी भी आँख लगने लगी! कुछ देर में रूम में आहट हुई! "अम्बर भाई... अम्बर भाई..." जब उसने पुकारा तो मैने सोचा, देखूँ ये क्या करता है!
फ़िर बाथरूम का दरवाज़ा खुला! उसने दरवाज़ा बन्द नहीं किया! कुछ देर शायद उसके कपडे बदलने की आवाज़ आयी उसके बाद सन्‍नाटा... मगर फ़िर लगा जैसे वो उल्टी कर रहा था! मैने उसको पुकारा तो उसने जवाब नहीं दिया! अब मैं उठा और मैने बाथरूम का दरवाज़ा खोला तो पाया वो कमोड पर झुका उल्टी कर रहा था... मैने देखा वो उस समय बिल्कुल पूरा का पूरा नँगा था! मैने सोचा वापस आ जाऊँ, मगर उसका नँगा जिस्म ऐसा था कि बस... मैं उसकी पीठ सहलाने लगा और नशे के कारण उसने इस बात का ध्यान नहीं दिया कि उसने अपने कपडे नहीं पहन रखे थे! उसका साँवला सा जिस्म गठीला और मस्क्युलर था! गाँड भरी भरी थी और मज़बूत मसल्स वाली जाँघें और बाकी का बदन... कपडों से पता नहीं चलता था मगर नँगा दिखने में काफ़ी गठीला था... और बाल नहीं थे! बस गाँड की दरार में छेद के पास कुछ बाल दिखे! उसका मुरझाया हुआ लँड सुंदर था और उसके नीचे गोल गोल आँडूए थे! मैने उसकी पीठ सहलाते हुये भी मौका देख कर उसकी गाँड को अच्छी तरह से झुक के देखा और कमर भी सहला दी!

अब तक मेरा लँड खडा हो गया था! फ़िर मैने उसको कुल्ली करवाई! उसने सहारे के लिये एक हाथ मेरे कंधे पर रख लिया था!
"लो, मुह धो लो..." कहकर मैने खुद ही हाथ में पानी लेकर उसका मुह धुलाया तो उसका चेहरा छूकर मस्ती आ गयी! मैने अपनी उँगलियों से उसके होंठ सहलाये!
"पिशाब करोगे क्या?" मैने उससे पूछा!
"हुँ? हाँ..."

मैने उसको कमोड के पास खडा किया और एक हाथ कमर में डाल कर दूसरे से उसका लँड थाम लिया! फ़िर मुझे ठरक लग गयी! तो मैने एक दो बार उसका लँड मसल भी दिया!
"नहीं हो रहा है..." उसने कहा तो मैं उसको वापस रूम में ले आया!
"चलो लेट जाओ..." मैने उसको बेड में लिटा दिया और उसका नँगा जिस्म देखा, फ़िर खुद भी उसके बगल में लेट कर कम्बल ओढ लिया! कुछ देर तो मैने कुछ भी नहीं किया, बस वहाँ लेट कर उसका रिएक्शन देखता रहा! मैने एक हाथ सीधा उसके सर के ऊपर से बेड के दूसरी तरफ़ सीधा किया हुआ था! मेरा दिल तेज़ी से धडक रहा था, साँसें बहक बहक के चल रही थी! उसके बगल में लेटा तो मुझे उसके जिस्म की खुश्बू आयी! उसकी गर्म साँसें सूंघने को मिलीं और उसके बदन की गर्मी महसूस हुई! ये सब ही इतना मादक, मनमोहक और दिलकश था कि मेरे लँड में हलचल हुई और वो खडा होने लगा!

फ़िर वो हिला! उसने अपना मुह मेरी छाती की साइड में घुसाते हुए मेरी तरफ़ करवट ले ली और अपना एक हाथ मेरे पेट के पार डाल दिया! उसका एक पैर भी मेरे पैर पर हल्का टच हो गया! अब मुझे उसके बदन का दबाव भी महसूस होने लगा! उसका मुह ऑल्मोस्ट मेरी बाज़ू के पास था, जहाँ से शायद वो मेरा पसीना सूँघ रहा था... कुछ देर में मुझे लगा कि उसने जो हाथ मेरे ऊपर डाला हुआ था वो सिर्फ़ डाला हुआ नहीं था बल्कि उसकी हथेली में दबाव भी था! उसकी उँगलियाँ कभी कभी हल्के से मूव कर रही थी और उसका पैर भी जो मेरे पैर पर था, धीरे धीरे कुछ और चढ गया था और उसमें भी कुछ कुछ मूवमेंट था, हल्की सी रगड थी! मेरा जो हाथ सीधा था, वैसे रखे रखे दुखने लगा! मैने उसको मोड लिया तो मेरी हथेली भी उसकी पीठ पर पहुँच गयी! करीब पन्द्रह मिनिट गुज़र गये! फ़िर उसका हाथ मेरे पेट पर हिला और उसने मेरी छाती को सहलाया! मैं लेटा रहा मगर जब उसकी हथेली और उँगलियाँ मेरी चूचियों को रगड देने लगीं तो मेरी भी उत्तेजना बढी... और लँड भी पूरा ताव में आ गया!

फ़िर वो सिमट के थोडा मेरे और करीब आया और उसने अपनी जाँघ, मेरी जाँघ पर चढा के अपना घुटना मेरे लँड पर रख दिया! उसने मेरे खडे लँड को महसूस किया और अपना मुह मेरी बगल में डाल दिया, जहाँ मुझे अब उसके होंठ महसूस हुये, और गर्म गर्म साँसें महसूस हुई! मैं जानता था कि वो अब जगा हुआ है... नशे में है, मगर जगा हुआ है और शायद कॉन्फ़िडेंस बटोर रहा है... इसलिये मैं हिला नहीं, उसी को सब करने दिया! मैं हिल कर उसको डराना नहीं चाहता था! मैं चाहता था कि वो खुद ही बात आगे बढाये! उसने अपना हाथ मेरी छाती से फ़िर नीचे करना शुरु किया! कुछ देर उसने फ़िर मेरा पेट सहलाया! उसकी उँगलियों ने मेरी नाभि को सहलाया और उसके बाद वो और नीचे हुआ और मेरी ट्रैक पैंट की इलास्टिक पर आया! उसने अपनी चढी हुई जाँघ को थोडा खींचा ताकि मेरा लँड उसके घुटने के नीचे से फ़्री हो जाये! फ़िर उसका हाथ गायब हो गया! कुछ पलों के बाद मुझे पता चला कि उसने अपना हाथ अपने घुटने पर रख लिया था और इस बार उसने वहाँ से ऊपर मेरे लँड की तरफ़ अपनी उँगलियाँ धीरे धीरे बढाई! अपनी जाँघ पर उसकी रेंगती उँगलियों के अहसास से मेरा लौडा उछल गया जिसका शायद उसको भी अहसास हुआ! उसकी उँगलियाँ मेरे आँडूओं के पास आईं और फ़िर मुझे अपने लँड पर उँगली की हल्की हल्की गर्मी महसूस हुई! उसने एकदम से लौडा थामा नहीं बल्कि पहले सिर्फ़ उँगलियों से सहलाया! फ़िर जैसे वो मेरे लँड को पुचकारने लगा! उसकी उँगलियाँ मेरे सुपाडे के पास से होकर आँडूओं तक जातीं! कभी वो मेरी कमर को भी अपनी हथेली से महसूस करता!

अब वैसे तो कुछ छिपा हुआ नहीं था मगर मैं सिर्फ़ उस समय का मज़ा लेने के लिये चुप रहा! उसने अपनी उँगलियों को मेरे लँड पर कस लिया... शायद वो मेरे लँड को नाप रहा था! मुझे उसकी साँसों में एक एक सिसकारी सी सुनाई दी! फ़िर मैने अपना हाथ, जो उसकी पीठ पर था, नीचे उसकी कमर तक रगड दिया... बिल्कुल उसकी फ़ाँकों की चढाई तक! उसका जिस्म मस्क्युलर और चिकना था और मेरे बगल में इतनी देर लेटने के बाद गर्म भी हो गया था! मेरे ऐसे करते ही उसने अपना सर मेरी छाती पर रख लिया और अपने हाथ से मेरा बदन सहलाता रहा! वो मुझे रह रह कर कस कर पकड लेता था और अपना सर मेरी छाती पर घुसा लेता था! फ़िर मैने करवट ली और उसको ज़ोर से अपनी बाहों में जकड लिया! मैने अपनी एक जाँघ उसकी जाँघों के बीच घुसा दी, अपना लँड उसके पेट पर घुसेड दिया और उसको पकड लिया तो उसने अपना मुह मेरी गर्दन के आसपास घुसा लिया और मेरा लँड थाम के दबाना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से मेरी कमर सहलाने लगा! उसकी साँसें मेरी गर्दन पर थी!

उसने अब मेरी ट्रैक नीचे खिसकाना शुरु कर दिया और खिसका के मेरी कमर सहलाने लगा! मेरा लँड अभी भी अंदर था, बस झाँटों का क्लीन शेव्ड एरीआ बाहर हुआ, जिसे उसने सहलाया! वो कुछ नीचे हुआ, मेरी गर्दन से अब वो छाती तक आया, उसने मेरे सीने को अपने होंठों से रगडा, मेरी चूचियों को एक एक करके अपने होंठों से चूसा, अपने हाथ से मेरी छाती को मसला! हाथ से चूचियों को दबा के उनको मुह में भर के चूसने लगा! पहले एक फ़िर दूसरी... मैने उसका सर पकडा हुआ था और उसके बालों को सहलाता रहा, फ़िर उसने मेरी ट्रैक का लोअर उतार दिया और सीधा मेरे पैरों के पास बैठ गया! मैने थोडा उचक के उसको देखा और अपनी टाँगें फ़ैलायी तो एक पैर उससे टकराया! फ़िर वो झुका और झुक के उसने अपना सर मेरे एक पैर पर रख दिया, वो मेरे पैर से लिपटने लगा, कभी अपने गालों और कभी अपने होंठों को मेरे पैर पर रगडने लगा! उसने फ़िर मेरे पैर की उँगलियों पर अपने होंठ रखे! फ़िर उसने मेरे पैर के अंगूठे को अपने मुह में ले लिया तो मैने मस्ती में आकर अपना दूसरा पैर भी उसके सर पर रख के उससे उसको दबाने लगा! लौंडे के शौक़ अच्छे थे!
-
Reply
07-26-2017, 11:04 AM,
#58
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
उसने एक एक कर के मेरे दोनो पैरों को जैसे चाट के साफ़ कर दिया! मैने अपने दोनो पैर हल्के हल्के घुटने उठा के मोड हुये थे! वो मेरी जाँघों के बीच आ गया, वहाँ कुतिया की तरह बैठ गया और अपने होंठों से ही मेरा पैर सहलाते हुये ऊपर की तरफ़ चढा! उसके होंठ और ज़बान लगातार मेरा जिस्म, मेरी जाँघें, मेरे पैर सहलाते जा रहे थे! मैं पूरी तरह उत्तेजित हो चुका था! मैने अपना हाथ अपने लँड पर रख कर उसको दबाया, मगर उसने फ़ौरन मेरा हाथ पकड के वहा से हटा दिया! उसने घुटने पर पहुँच कर मेरे घुटने को किस किया और दूसरे घुटने को हाथ से दबाया! फ़िर वो मेरी थाइज़ पर अंदर की तरफ़ से होंठों से सहलाता हुआ और ऊपर बढा! "उउउहहह..." मैने सिसकारी भरी! वो मेरे आँडूओं पर आ गया था! उसने मेरे आँडूओं को नाक से छुआ! फ़िर नाक से ही उनको दबाया! मेरा लँड मचल उठा! फ़िर उसने नाक मेरे आँडूओं के नीचे ले जाकर एक गहरी साँस ली और छोडी तो मुझे वहाँ गर्म गर्म लगा और मैने टाँगें और फ़ैला दी! उसने अपने होंठों से मेरे छेद और आँडूओं के बीच एक किस किया और हल्के से ज़बान से चाटा! फ़िर उसने मेरे आँडूओ को अपने होंठों से पकड के उनको दबाना शुरु किया और कुछ देर में वो मेरे आँडूओं पर अपनी ज़बान फ़ेरने लगा! उसके बाद उसने मेरे आँडूओं के ऊपर अपनी ज़बान फ़िरायी और मेरे लँड की जड को किस किया तो मेरा लँड हुल्लाड मार के उछल गया! उसने उसको अपनी ज़बान से चाटा और अपने होंठों से सहलाया! वो अब मेरी जाँघों के बीच घोडा बन के मेरे लँड पर पूरा झुका हुआ था, उसने अपने हाथों से मेरी कमर को दोनो तरफ़ से सहलाना शुरु कर दिया था! वो मेरे लँड को चाटता हुआ मेरे सुपाडे तक पहुँचा और सुपाडे की जड पर ज़बान से सहलाया, फ़िर अपने होंठों को मेरे सुपाडे पर रख कर उसको अपने होंठों में पकड लिया! फ़िर उसके होंठ खुले तो मुझे अपने सुपाडे पर उसके मुह की गर्मी और गीलापन महसूस हुआ! उसने मेरे सुपाडे को मुह में लिया तो मैने ज़ोर से गाँड ऊपर उठा कर अपना पूरा लँड उसके मुह में घुसा दिया और उसका सर अपनी जाँघों के बीच दबा के पकड के उसके बालों को अपने हाथ से पकड लिया और दूसरे हाथ से अपना लँड पकड के सीधा उसके मुह की गहरायी तक अपना लौडा ऐसा घुसाया कि शायद उसकी साँस रुक गयी! मगर मैने लँड और अंदर घुसा दिया, मुझे सुपाडे पर उसकी हलक कसती हुई महसूस हुई! उसकी साँस रुकी हुई थी, उसने हडबडा के उठने की कोशिश की मगर वो मेरी जाँघों के बीच क़ैद था, सो हिल भी नहीं पाया! मैने उसका मुह अपने लँड पर पूरा चिपका रखा था! फ़ाइनली मैने अपना लँड बाहर खींचा तो वो डूबते हुये तिनके की तरह तेज़ साँसें लेने लगा!

फ़िर मैने उसकी तरफ़ करवट लेकर उसके मुह पर एक जाँघ चढा के फ़िर अपना लँड उसके मुह में डाल दिया जिसको वो प्यार से चूसने लगा! अब वो अपना सर आगे पीछे करके लँड चूस रहा था, उसका एक हाथ मेरी गाँड पर आगे की तरफ़ से मेरी जाँघों के बीच से आ गया और वो मेरी दरार सहला सहला के मेरे छेद पर अपनी उँगलियों से सहलाने लगा! उसने अपनी उँगली मेरी गाँड में घुसाने के प्रयास भी शुरु कर दिये तो मेरी गाँड का छेद खुलने लगा और उसकी उँगली की टिप मेरी गाँड को कुरेदने लगी! वो जब भी अपनी उँगली मेरी गाँड में दबाता, मैं एक तेज़ धक्‍का उसके मुह में देता! उसकी उँगली जल्द ही पूरी की पूरी मेरी गाँड में घुस गयी! कुछ देर चूसने के बाद उसने मेरा लँड छोड दिया और मैने देखा कि वो मेरी गाँड से उँगली निकाल कर चाट रहा था और उसको सूंघ रहा था! मैने उसको बाज़ू से पकड के ऊपर खींचा और अपनी बाहों में लिटाकर उससे चिपकते हुये पास के स्विच को ऑन कर दिया तो रूम ट्यूबलाइट की रोशनी से भर गया और मैने पहली बार जब उसकी आँखों में आँखें डालकर देखा तो वो बस एक पल को हल्के से शरमाया, उसने नज़रें बचाईं, मगर मैने उसको खींच के उसके मुह पर अपना मुह रख कर अपनी गाँड का टेस्ट उसके होंठों से महसूस करते हुए उसको किस करने लगा! मेरे मुह में ढेर सा थूक जमा हो गया था, जिसको मैने उसके मुह में डाला तो वो सिसकारी भर के उसको चूस गया! मैने अपनी छाती उसकी छाती पर चढा के उसके ऊपर हो गया और चुसायी जारी रखी! उसने मुझे कंधों से पकड लिया! फ़िर मैने किस तोडा और उसे देखा! उसका चेहरा कामुकता की तपिश से जल रहा था, उसके होंठ थर्रा रहे थे, आँखें नशीली थीं और बदन दहक रहा था! मैने अपना एक हाथ उसकी गाँड पर रखा! उसकी गाँड की मसल्स कसी हुई थी, मैने ज़ोर से उनको दबोचा और उसके छेद को छुआ, जहाँ रेशम की तरह हल्के से बाल थे और उसके छेद को फ़ैलाया तो उसने सिसकारी भरते हुये अपना हाथ मेरे हाथ पर रख के उसको दबाया! हमने तब तक एक भी शब्द नहीं बोला था... वैसे अब बोलना क्या था... बोल के जो होता, वो बिना बोले ही शुरु हो गया था! फ़िर मैने उसकी गाँड को ज़ोर से दबाते हुये कहा!

"ऑफ़िस ट्रिप का हनीमून हो गया... क्यों?"
"हाँ यार... तू बहुत गर्म है..."
"गर्म तो राजा हम हमेशा रहते हैं..."
"उफ़्फ़्फ़्फ़ हुह्ह्ह्ह... सिउउउह... इतनी गर्मी क्या करोगे?"
"तेरी गाँड में घुसा के तेरी गर्मी बाहर निकलूँगा..."
"तुम्हारी बातें बहुत सैक्सी हैं..."

मुझे बडी देर से पिशाब आ रहा था, मैने उठने लगा तो उसने पूछा!
"क्या हुआ?"
"मूतने जा रहा हूँ!"
"उन्हू..." उसने मेरा लँड पकड लिया...
"यहीं रहो..."
"अमॄत धारा चाहिये क्या?" मैं उसका इशारा समझ गया!
"हाँ..."
"चलो दे दूँगा... वैसे यार, सब उतर गयी... तेरे पास और स्टॉक है? कोई बॉटल है?"
"हाँ है..."
"तो निकाल..."
उसने उठ के अपने बैग से 'रॉयल चैलेंज़' की बॉटल निकाली!
"ला..." कहकर मैने उससे बॉटल लेकर एक पेग नीट डायरेक्टली बॉटल से लगा लिया मगर जब वो भी नीट पीने लगा तो मैने उसका हाथ पकड लिया!
"रुक रुक... तुझे तो मैं अमॄत पिलाऊँगा... रुक, ग्लास उठा..." मैने उससे ग्लास लिया और उसमें व्हिस्की डाल दी, फ़िर मैं अपनी जाँघें फ़ैला के एक घुटना उसकी एक तरफ़ और दूसरा कमर की दूसरी तरफ़ करके उसके बदन के अक्रॉस नील हो गया! उसने सर उठा के अपनी कोहनियों के सहारे उठते हुये ग्लास थामना चाहा!
"रुक ना, इतनी जल्दी क्यों है... तेरे लिये गर्मागर्म पेग बनाता हूँ ना..." कहकर मैने एक हाथ से अपने लँड को पकड के ग्लास पर टिकाया!
"आह, क्या कर रहे हो... बहुत सैक्सी हो यार... वाह..." वो जैसे ही मेरा इरादा समझा, बहुत उत्तेजित हो गया और तकरीबन तभी मैने ग्लास में पिशाब की धार मारी तो मेरा पिशाब शराब के साथ मिलने लगा!
"उफ़्फ़..." उसने ये समाँ देख के कहा! मेरी मोटी धार से ग्लास जल्दी भर गया!
"ले अब पी..." मेरे लँड से अब भी पिशाब टपक रहा था और सीधा उसके पेट पर गिर रहा था और वहाँ से गिर के नीचे उसकी कमर से सरकता हुआ बेड पर जा रहा था! उसने मेरे हाथ से ग्लास लेकर एक सिप लिया!
"उम्म्म्म्म..."
"कैसा लगा?" मैने पूछा!
"पूछो मत, मर्द की ताक़त है इस अमॄत में..." कहकर उसने पूरा ग्लास अगली कुछ घूँटों में खत्म कर दिया!
"इस शराब का नशा ऐसा चढेगा कि गाँड खुल जायेगी... ले और पियेगा क्या?"
""अभी नहीं... चढ जायेगी..."
"अबे, ये पीने को पूछ रहा हूँ..." कहकर मैने पिशाब की धार मारी, जो उसके सीने से टकरायी और उसने अपना मुह खोल दिया! मैने लँड हाथ से पकड के थोडा उठा के धार का डायरेक्शन अड्जस्ट किया और थोडा आगे होकर उसकी छाती के पास हो गया तो मेरा पिशाब सीधा उसके खुले मुह में आवाज़ के साथ जाने लगा! फ़िर मैने अपना लँड सीधा उसके मुह में डाल के उसमें ही मूतना शुरु कर दिया! वो तेज़ी से मेरा पिशाब पीता चला गया!

"कैसा रहा?"
"बहुत मज़ेदार... यही सब तो मुझे पसंद है..." मैने मूतने के बाद अपना लँड बाहर खींचते हुये पूछा तो वो बोला!
"तो शरमाता क्यों है, चालू हो जा... क्या करेगा?"
"तुम्हारी गाँड चाट लूँ?" उसने तडपते हुए कहा!
"आजा..." कहकर मैं घोडा बन गया और अपनी गाँड ऊपर उठा के अपना सर तकिये पर रख लिया! फ़िर उसकी ज़बान मुझे अपने छेद पर महसूस हुई, उसके चाटने से मेरा छेद खुलने लगा! वो कभी उसमें ज़बान डालता और कभी अपनी उँगली!
"कैसा टेस्ट है?" मैने पूछा!
"चॉकलेट की तरह यार... तू सही मर्द है, वरना लोग ये सब करने ही नहीं देते हैं यार... तू सही है..."
"चाट ले राजा, चाट ले... अब बस जितना चाटना है, चाट ले..."
उसने गहरायी से मेरी गाँड चाटना जारी रखा!
"तुम्हारी गाँड, चूत की तरह खुल गयी है... लगता है, बहुत हथौडे खा चुकी है..."
"हाँ राजा, मैं भी शौकीन हूँ तेरी तरह..."
"मर्द की गाँड चाटने का अपना मज़ा है..." कहकर उसने उँगली मेरी गाँड में डाल कर उसको अंदर घुमाया और फ़िर निकालकर चाटा!
"गू चाट रहा है क्या साले?" मैने पूछा!
"हाँ राजा, हाँ... तूने ही तो बोला, जो करना है कर लूँ..."
"लगा रह राजा, डायरेक्टली चाट ले ना... गाँड से सीधा चाट ले..." उसने अपना मुह मेरे छेद पर घुसा दिया और चाटने लगा... फ़िर कुछ देर बाद वो थक गया तो मैने उसको सीधा लेट कर अपने ऊपर खींच लिया और उसके बालों और गालों को सहला के उनसे खेलने लगा! फ़िर मैने हाथ नीचे किया तो मेरे हाथ में मेरा जूता आया, मैने जूते को उठा लिया और उसके तलवे से उसके गालों को सहलाने लगा!
"उउउउह्ह्ह्ह... तुम बडे सैक्सी हो... समझ गये हो मुझे क्या चाहिये..."
"हाँ राजा... हम तुरन्त पसंद-नापसन्द समझ लेते हैं... ले चाट..." कहकर मैने उससे जब अपना जूता चटवाना शुरु किया तो वो उसकी किसी लॉलीपॉप की तरह चाटने और चूसने लगा! फ़िर मैने उसके गाल पर जूते से 'चटाक' से मरा!
"उउह्ह्हुई...."
"चुप कर बे..." कहकर मैने फ़िर मारा!
"उउउह... मेरे मर्द, बहुत सही... बहुत सही, मेरे मर्द..." उसने सिसकारी भरी!
"बहन के लौडे, अगर इतनी चपास थी तो पहले बोल देता... गाँडू, इतने दिन से मूड क्यों खराब करवा रहा था?"
"अब ऑफ़िस में कैसे कहता?"
"अपनी गाँड खोल देता, मैं समझ लेता..." फ़िर मैने उसको सीधा लिटाया और उसके घुटने मोड के उसकी गाँड सामने खुलवा दी और अपना लँड उसके छेद पर रखा!
"आयिइइ..." जैसे ही मैने अपना लँड उसके अंदर घुसेडना शुरु किया वो मस्त होने लगा! उसने टाँगें हवा में उठा के फ़ैला लीं और उनको मेरी कमर पर बाँध लिया और फ़िर मस्त होकर मेरे धक्‍के खाने लगा!
"बोल, गाँडू बोल... कैसा लगा लौडा?"
"बहुत मस्त... मूड फ़्रेश हो गया! अंदर तक जा रहा है... साला अंदर तक हिला रहा है..." 


समाप्त
-
Reply
07-26-2017, 11:06 AM,
#59
RE: Hindi Lesbian Stories समलिंगी कहानियाँ
गे कहानियाँ--
प्रतापगढ़ का लण्ड
इस कहानी के पात्र व घटनाएँ काल्पनिक हैं.


मैं एक शाम घर में बैठा-बैठा बोर हो रहा था कि मुझे योगेश का एस सम एस आया
"क्या कर रहा है बे?"
मैंने जवाब दिया कि मैं घर में खाली बैठा ऊब रहा हूँ। फिर उसका मैसेज आता है , "यार मेरा लण्ड चुसवाने का बहुत मन कर रहा है … क्या करूँ ?"

बहुत बेबस था बेचारा। उसका भाई उससे मिलने गांव से आया हुआ था। ऐसे में हम उसके कमरे पर कुछ नहीं कर सकते थे।

मेरे मम्मी पापा बाहर गए हुए थे , मैं घर में बिलकुल अकेला था। मैंने सोचा क्यूँ न योगेश को अपने घर बुला लिया जाये। मैंने उसे फ़ोन किया और वो फटाफट तैयार हो गया। मैं खुद ही अपनी बाइक से निकला उसे लेने के लिए।

मेरा भी बहुत मन कर रहा उसका रसीला लण्ड चूसने का और उससे चुदवाने का। योगेश अपने अपार्टमेंट के नीचे तैयार खड़ा था। मेरे पहुँचते ही वो लपक कर मेरे पीछे बैठ गया और अपना सर मेरे कन्धों टिका दिया और मुझे पीछे से दबोच लिया। मैंने उसका खड़ा लौड़ा अपनी गाण्ड पर महसूस किया। योगेश पीछे से मेरी छाती सहलाने लगा। उसका गाल मेरे गाल से सटा हुआ था।

हम दोनों सेक्स के लिए बेचैन थे। योगेश का कमरा मेरे घर से ज़यादा दूर नहीं था, और बिना हेलमेट ही गलियों से होते हुए मैं निकल पड़ा था। आप मेरी जल्दी को समझ सकते हैं

हम दोनों उसी तरह चिपके हुए बाइक पर चले जा रहे थे।
आपको एक बात और बता दूँ, हम दोनों शहर के छोर पर रहते थे, जिस रस्ते से जा रहे थे, वहाँ खेत और वीरान जंगल के अलावा कुछ नहीं था।
"सिद्धार्थ रुको। " अचानक योगेश बोला। मैंने तुरंत ब्रेक मारा।
"वहाँ - उस झुरमुट के पीछे चलो "
"क्यूँ? क्या हुआ?" मैंने हैरान होकर पूछा
"चलो यार … मुझसे रहा नहीं जा रहा है। "

मैं सड़क से हटकर एक झुरमुट के पीछे बाइक ले आया। आस-पास पेड़, ऊँची झाड़ियों के अलावा कुछ नहीं था।

योगेश गाड़ी से उतरता हुआ बोला
"आओ चूसो। " उसने झट से अपनी ज़िप खोल कर अपना लौड़ा बाहर निकला।
"लेकिन योगेश यहाँ ? घर चलो। मम्मी पापा बाहर गए हैं। आराम से करेंगे। "
"नहीं यार … मुझसे रहा नहीं जा रहा। चूस लो मेरा लौड़ा।

मैं बाइक से उतर गया। आसपास नज़र दौड़ा कर देखा- कोइ नहीं था सिवाय जंगल के। साँझ का झुटपुटा भी हो चुका था।
योगेश अपनी कमर बाइक पर टिका कर, टांगे फैला कर खड़ा हो गया। उसका मोटा रसीला लौड़ा वैसा का वैसा खड़ा था। योगेश का लौड़ा बहुत मोटा और लम्बा था।

अगले ही पल उसने मुझे कन्धों से पकड़ कर अपने सामने बैठा दिया। मेरी भी हवस अब बेकाबू हो चुकी थी। ऊपर से योगेश के मोटे लम्बे लण्ड को देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया था। अब से पहले , न जाने कितनी बार मैं उसके गदराये लौड़े को चूस चुका था, उसका माल पी चुका था लेकिन अभी भी उसका लण्ड देख कर मेरे मुँह पानी आ जाता था।
मैं घुटनो के बल बैठ गया और उसकी कमर पर हाथ टिका कर उसका लौड़ा चूसने में मस्त हो गया। जैसे ही मैंने उसका लण्ड अपने गरम-गरम, गीले, मुलायम मुँह में लिया उसकी आह निकल गयी:

"आह ह्ह्ह … !!"

योगेश हमेशा ज़ोर-ज़ोर से सिसकारियाँ लेता अपना लण्ड चुसवाता था। अपनी भावनाएँ बिलकुल नहीं दबाता था। आहें लेकर, मुझे और चूसने के लिए बोलता जाता। उसे कितना मज़ा आता था, आप उसकी आँहों से जान सकते थे।
मैं मज़ा लेकर चूसे जा रहा था। ऐसे जैसे कोई भूखी औरत आईस क्रीम खाती हो। मैंने उसका लौड़ा पूरा का पूरा अपने मुँह में ले लिया और खूब प्यार से चूसे जा रहा था। मैं उसके लौड़े के हर एक भाग के स्वाद का आनंद लेना चाहता था। मेरी जीभ उसके लण्ड का खूब दुलार कर रही थी।

योगेश भी मेरा सर दबोचे, मेरे बाल सहलाता , आंहे लेता चुसवाये जा रहा था :
"आह्ह्ह्ह .... ह्ह्ह्ह !!"
"सिद्धार्थ … मेरी जान .... चूसते जाओ ... !"
" उफ्फ … चूसो मेरा लौड़ा … आह्ह्ह .... !!"

उसका लंड मेरा गला चोक कर रहा था, लेकिन फिर भी मैं चूसने में लगा हुआ था। मैंने करीब दस मिनट और उसका लण्ड चूसा और फिर वो हमेशा कि तरह आँहें लेता मेरे गले में अपना वीर्य गिराने लगा :
"उह्ह्ह .... !!"
' स्स्स् … हहा ....!"
"उफ्फ … !!"

"मज़ा गया जानू .... क्या मस्त चूसते हो। लो और चूसो।" उसने अपना लौड़ा मेरे मुँह में घुसेड़े रखा , निकाला ही नहीं। जितना मज़ा योगेश को अपना लण्ड मुझसे चुसवाने में आता था, उतना ही मज़ा मुझे उसका लण्ड चूसने में आता था।

मैं उसका वीर्य गटकता हुआ फिर से लपर-लपर उसका लण्ड चूसने लगा। मैंने एक पल के लिए नज़रें उठा कर योगेश कि तरफ देखा। उसकी शकल ऐसी थी जैसे उसे कोइ यातना दे रहा हो। लेकिन वो आनंदातिरेक में ऐसा कर रहा था। उसकी आँखें आधी बंद थी जैसे किसी शराबी कि होती हैं। उसका मुंह खुला हुआ था और वो सिसकारियाँ लिए जा रहा था।

आम तौर पर लड़के और मर्द यौन क्रीड़ा में अपने आनंद को इस तरह नहीं दर्शाते। लेकिन योगेश अपने आनन्द कि अभिव्यक्ति खुल कर कर रहा था और मुझे उकसा भी रहा था :
" आह्ह्ह .... मेरी जान … चूसते जाओ मेरा लौड़ा … बहुत मज़ा आ रहा है …!"
" सिद्दार्थ … ऊओह … और चूसो … !"
चुसवाते-चुसवाते अचानक से उसने अपना लण्ड बाहर खींच लिया।
"आओ सिद्धार्थ तुम्हे चोदें … !"
"यहाँ ??! इस जगह ?" हलाकि वो जगह बिलकुल सुनसान थी और अब अँधेरा घिर चुका था लेकिन मैं झिजक रहा था। "हाँ। जब चुसाई हो सकती है तो चुदाई क्यूँ नहीं ? अपनी जींस उतारो। "
"लेकिन कैसे ?"
" अरे बताता हूँ … जल्दी करो, जींस उतारो , मुझसे रहा नहीं जा रहा। " उसने अपनी जींस का बटन खोल दिया और चड्ढी समेत अपनी जींस को नीचे घसीट दिया। अब उसका विकराल लण्ड पूरी तरह आज़ाद होकर ऐसे दिख रहा था जैसे कोइ दबंग गुंडा जेल से छूटा हो।

वो कामातुर सांड कि तरह अड़ा हुआ था। उसका लण्ड तोप कि तरह खड़ा, चुदाई के लिए तैयार था।
मैंने अपनी जीन्स और चड्ढी नीचे खसका दी।

"तुम मोटरसाइकिल पर हाथ टिका कर झुक जाओ, मैं पीछे से डालूँगा । "
मैं मुड़कर बाइक पर झुक कर खड़ा हो गया। अपने हाथ बाइक पर टिका दिए।
वैसे योगेश को लण्ड चुसवाने में ज्यादा मज़ा आता था, लेकिन कभी कभी वो मेरी गाण भी मारता था।
" गाण उचकाओ। " मैंने अपनी गाण ऊपर कर दी।

योगेश ने मेरी गाण के मुहाने पर थूका और उसको अपने लण्ड के सुपारे से मलने लगा। फिर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे मुलायम-मुलायम, गोरे -गोरे चूतड़ फैलाये और फिर अपने लौड़े का सुपारा टिका कर सट से शॉट मारा। उसका लौड़ा मेरी गाण में ऐसे घुसा जैसे कोइ हरामी थानेदार पुलिस चौकी में घुसता हो।

"आह्ह्ह .... !!!" ये आह मेरी थी जो योगेश का लण्ड घुसने से निकली थी। मैं अब तक कई बार योगेश से चुद चुका था, लेकिन अभी भी जब उसका लण्ड घुसता था, मेरी दर्द के मारे आह निकल जाती थी - वैसे उसका लण्ड था भी खूब मोटा और गदराया हुआ। योगेश ने अपना पूरा लण्ड मेरी गाण में पेल दिया था और हिलाने लगा था।

अब आहें लेने कि बारी मेरी थी :

"अह्ह्ह्ह .... ह्ह्ह ....!!"
" ऊऊह्ह् … !"

लेकिन अब मुझे दर्द होना बंद हो गया था, बस योगेश का मस्त लौड़ा मेरी गाण में मीठी-मीठी खुजली कर रहा था जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। मैं अब आनन्द में सिसकारियाँ ले रहा था:

"आअह्ह … आह्ह्ह आह्ह्ह .... !!"
"उफ्फ … ओओओहह् … !!"

योगेश अपने दोनों हाथों से मेरी कमर थामे मुझे सांड कि तरह चोद रहा था और मैं अपनी बाइक पर कोहनियाँ टिकाये, झुका हुआ, कुतिया कि तरह चिल्लाता, चुदवा रहा था। उसका रसीला गदराया लौड़ा मुझे जन्नत कि सैर करवा रहा था। मन कर रहा था कि बस योगेश मुझे यूँ ही चोदता ही चला जाए।
बीच बीच में योगेश मेरे चूतड़ों पर चपत भी जड़ देता था। ये उसने ब्लू फिल्मों से सीखा था।
योगेश मेरे ऊपर पूरा लद गया। कमर छोड़ कर उसने मुझे कंधों से पकड़ लिया और अपना गाल मेरे गाल से सटा दिया, और गपा-गप चोदे जा रहा था। कोइ प्रेमियों का जोड़ा इस तरह से यौन क्रीड़ा नहीं करता होगा जैसे मैं और योगेश कर रहे थे। उसके थपेड़ों से मेरी मोटरसाइकिल भी हिलने लगी थी।
मैंने पीछे मुड़ कर देखा , योगेश की जींस तलवों तक आ गयी थी और उसकी चड्ढी उसकी मोटी-मोटी माँसल जाँघों में अटकी थी। उसकी विशालकाय चौड़ी कमर मेरी कमर लदी हुई पिस्टन कि तरह हिल रही थी।
मेरे मुँह से सिस्कारियां निकले चली जा रहीं थी :
" आह्ह्ह .... योगी … ऊह्ह्ह .... !!"
"ऊह्ह … आह्ह्ह … उह्ह !"बीस मिनट तक योगेश का बदमाश लौड़ा मेरी गाण को मज़े देता रहा।
"जानू अब मैं झड़ने वाला हूँ … " योगेश चोदते हुए बोला और मुझे कस कर दबोच लिया। अगले ही पल अपना लौड़ा पूरा अंदर घुसेड़ कर रुक गया । स्थिर होकर वो भी सिस्कारियां लेने लगा।
"अहह … ह्ह्ह … !" वो मेरी गाण में स्लखित हो रहा था।
उसकी सिसकारियाँ' मेरी आहों के पलट बिलकुल मद्धिम और मर्दाना थीं। करीब दो तीन मिनट तक वो यूँ ही मेरे ऊपर लदा रहा, फिर हट गया।
हम दोनों ने झटपट अपनी जींस चढ़ाई और वहाँ से निकल लिए। मैं योगेश को अपने घर ले आया। उस हवस के मारे सांड ने सारी रात मुझसे अपना लौड़ा चुसवाया और मेरी गाण मारी।
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद sexstories 66 5,177 Today, 11:12 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Indian Porn Kahani पापा से शादी और हनीमून sexstories 29 6,564 Yesterday, 11:24 AM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani पापा की दुलारी जवान बेटियाँ sexstories 225 58,061 05-21-2019, 11:02 AM
Last Post: sexstories
Star Kamvasna मजा पहली होली का, ससुराल में sexstories 41 13,408 05-21-2019, 10:24 AM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna अमन विला-एक सेक्सी दुनियाँ sexstories 184 42,972 05-19-2019, 12:55 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Parivaar Mai Chudai हमारा छोटा सा परिवार sexstories 185 32,654 05-18-2019, 12:37 PM
Last Post: sexstories
Star non veg kahani नंदोई के साथ sexstories 21 15,346 05-18-2019, 12:01 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Hindi kahani कच्ची कली कचनार की sexstories 12 12,732 05-17-2019, 12:34 PM
Last Post: sexstories
Star Real Chudai Kahani रंगीन रातों की कहानियाँ sexstories 56 21,994 05-16-2019, 11:06 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Adult Kahani समलिंगी कहानियाँ sexstories 89 13,965 05-14-2019, 10:46 AM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Sister ki chodae dekh kar ham chodgaeHD yoni chatig tirupal xnxxxPorn actor apne guptang ko clean karte videoमेरी पत्नी मात्र kehne बराबर अपना ब्लाउज nikal ke dikhaya apne thode से chuchi komele ke rang saas bahufull hd lambi loki chut me full hd pornindian bhabhi says tuzse mujhe bahut maza ata hai pornxxxxx sexi dehati sari bali khetme chodbaya bhabi jiPriya Anand porn nude sex video Marathi.vaini.chi.gand.nagan.photo.sex.baba.Mastram.net antarvanna dasi saree woman xxxx video xbomboआओ जानू मुझे चोद कर मेरी चूत का भोसङा बना दोsex stori bhai ne bhane ko bra phana sikayagodime bitakar chut Mari hot sexrani,mukhrje,saxy,www,baba,net,potos55 की आंधी फिर भी चुदासीparinka chopra new xporn2019.comशबनम भुवा की गांड़ मारीगुडं चुदयाNangi sekx boor land ki chudai gali dekar ek anokha bandhanhina khan xxx pic sex baba.comgand mar na k tareoaHD mithila palkar XXX pictailor se petticoat ka naap ke liye chudai kahaniCarmi caur sex foto nude chuchiमाँ को चारपाई पर चढ़ते देखा सेक्स स्टोरीजpriyanka upendre puse big boobs imegesGame khelkr chachu aur unke dosto ne choda.antervasnaदेसी राज सेक्सी चुड़ै मोटा भोसडा क्सक्सक्सक्सक्सक्सये गलत है sexbabawww.ananaya pande ka sex xxxxxxx fock photoदेहाती चलाती बस मे लनड पकडाया विडियोमा रात को सोते समय मा बेटे कि सेक्स विडिवो इडियनरंडीला झवायला फोन नंबर पाहीजेbur se mut nikalta sxcy videoHindi sex kahani mera piyar soteli ma babasatisavitri se slut tak hot storiesकामतूरkaamini aur diyaa ki ajeeb daasta sexy story hindiनंगी सुंदर लड़की का नाच फॅकBahu ke gudaj armpiteasha rebba fucking fakeपंजाबी भाभी बरोबर सेक्स मराठी कथा jeans ki pant Utar Ke nangi Karte Rehte Hain XX videoपड़ोस की सब औरते मेरी मां को बोल, मुझसे चुद वति हैNahi bhaiya bus ak baar karaugi Behan ki kahanianita hassanandani xxx sax nahi photoasin bfhdsexbaba maa ki samuhik chudayitarak mehta ka ulta chasma hati behan hot picV6 savitri nudesexbaba tufani lundA jeremiahs nude phoWww.rasbhigi kahaniy fotoKatrina kaif nude sex baba picतिने खूप चोकलेMarathi serial Actresses baba GIF xossip nudeamma ta kudide sex hd phootesहिदि सेकसी बुर मे पानी गिराने वाला विडिये देखाओimg fy net Bollywood ectres porn photo hdSelh kese thodhe sexy xnxgaramburchudaiGodi Mein tang kar pela aur bur Mein Bijli Gira Dena Hindi sexy videowww.hindisexstory.rajsarmaबच्चे देखे जो वीडीयोबुर काsexybaba fuking saxy bhahiAbitha Fakespapa mamy ke suhagrat ke khani hdAdmin कि चुत के फोटोdidi boli sunny tum didi nangi thifak mi yes ohh aaa सेक्स स्टोरीsex desi shadi Shuda mangalsutrafti chut ko kse pehchamekutte ki choudai saxe storiessex k liye mota aur lamba lund ka potoChudai kahaniya Babaji ne choda nahele babane Www.xxxmoviebazar .comभाई का लन्ड अंधेरे में गलती से या बहाने से चुदवा लेने की कहानीयाँगाँवकीओरतनगीनहथीसेसीsoi hui chachi se jabrdasti fuckead xxx.com