Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
12-24-2018, 12:03 AM,
#1
Star  Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
जुनून (प्यार या हवस)

मित्रो आरएसएस अब किसी नाम का मोहताज नही है इस पर एक से बढ़ कर एक लेखक हैं और सभी की कहानियाँ भी अनमोल नगीने हैं जिन्हे पढ़ कर हम सभी रीडर्स एंजाय करते हैं . 

दोस्तो मैं भी एक कहानी स्टार्ट कर रहा हूँ आप सब के सहयोग का मुन्तिजर रहूँगा
Reply
12-24-2018, 12:04 AM,
#2
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
शांत माहोल इतना भयावक की डर ही लग जाये,मानसून की हलकी फुहारे,भीगे हुए लोगो की भीड़ और भीगे हुए नयन,शमसान की सी शांति में कुछ सिसकते बच्चे और बिच में पड़ी हुई दो लाशे,ये वीर ठाकुर और उनकी पत्नी की लाश थी जो एक सडक हादसे का शिकार हो गये थे,वीर ठाकुर पुरे इलाके के सबसे ताकतवर और रुशुखदार व्यति थे,आज पूरा गाव अपने देवता के लिए आंसू बहा रहा था..लेकिन एक शख्स वहा मोजूद नहि था,बाली ठाकर,वीर ठाकुर का छोटा भाई,वीर और बाली की जोड़ी की मिशाले दी जाती थी,दोनों भाइयो कि सांडो सी ताकत वीर का तेज दिमाग और दयालुता न्याय प्रियता और बाली का भाई के लिए कुछ भी कर गुजरने का जूनून इन दोनों को खास बनाता था,
इनके माँ बाप की जमीदार तिवारीओ से खानदानी दुश्मनी थी तिवारीयो ने उन्हें मरवा दिया,लेकिन बिन माँ बाप भी ये बच्चे शेरो जैसे बड़े हुए और जमीदारो के समानातर अपना वजूद खड़ा कर दिया...आज उनका सिक्का पुरे इलाके में चलता था,
वीर की शादी तिवारीयो के परिवार में हुआ था एक बड़े ही तामझाम के साथ और खून की नदियों की बाड में उनकी शादी हुई थी..सुलेखा रामचंद्र तिवारी की बेटी थी,दोनों में प्यार पनपा और वीर ने शादी के मंडप से ही सुलेखा को उठा लिया,इस बात पर खूब खून खराबा हुआ जिसका नतीजा हुआ सुलेखा के सबसे छोटे भाई वीरेंदर की मौत, आखिर कार मुख्यमंत्री के बीच बचाव और रामचंद्र की समझदारी से मामला शांत हो गया,समय के साथ मामला तो शांत हो गया पर दुश्मनी बरकरार रही...बाली लंगोट का कच्चा था जिसका सहारा लेकर तिवारियो अपने गाव की ही चंपा को बाली से जिस्मानी सम्बन्ध बनवाया और आखीर चंपा बाली के बच्चे की माँ बन गयी और उसके माँ बाप ने वीर के आगे गुहार लगायी आखीरकार मजबूरन वीर ने अपने वसूलो का सम्मान करते हुए बाली की शादी चंपा से करा दिया,चंपा ने आते ही अपना रंग दिखाना सुरु किया और बाली को घर से अलग होने के लिए मजबूर करने लगी,बाली ने उसे मारा पिटा और प्यार से समझाने की कोसिस की पर सब बेकार बाली मजबूर था की उसके भाई की इज्जत का सवाल था वरना उसे कव का मर के फेक दिया होता,
वीर ने बाली को परेसान देख उसे अपने से ही लगा हुआ अलग घर बनवा दे दिया और चंपा से वादा किया की वो और बाली अलग अलग काम करेंगे...इस फिसले से किसी को कोई फर्क ना पड़ा क्योकि सभी जानते थे बाली और वीर अलग दिखे पर अलग नहीं हो सकते....
वीर और सुलेखा के 4 बच्चे थे जो इनके प्यार की निसानी थे सबसे बड़ा था अजय फिर सोनल और विजय जुड़वाँ थे फिर निधि ,बाली और चंपा के 2 बच्चे थे पहला उनकी हवास की निशानी किशन और दूसरी मजबूरी की निशानी रानी...तो क्रम कुछ ऐसा था की=अजय फिर 2 साल छोटे सोनल विजय फिर एक साल बाद किशन फिर एक साल बाद रानी फिर 2 साल बाद निधि...
अजय में पूरी तरह से वीर के गुण थे अपने भाई बहनों पे अपनी जान छिडकता था वही विजय और किशन बाली जैसे थे अपने भाई की हर बात को सर आँखों पर रखते थे,विजय तो पूरा ही बाली जैसा था अपने चाचा की तरह ही भाई भक्त और ऐयाश और बलशाली...
इस सन्नाटे में ये सब बच्चे ही थे किनके सिसकियो की आवाजे आ रही थी,बाली बदहवास सा आया और अपने भाई भाभी की लाश देख मुर्दों सा वही बैठ गया जैसे उसे समझ ही ना आ रहा हो क्या हो गया,अचानक से ही किशन और रानी अपने पापा को देख रो पड़े और बाली की और दौड़ पड़े की चंपा ने उन्हें पकड़ लिया और खीचते हुए ले जाने लगी,"अरे इतने काम पड़ा है घर का तुम लोग यहाँ तमाशा लगा रहे हो जो मर गया वो मर गया अब चलो यहाँ से "
चंपा के ये बोल बाली को जैसे जगा गए उसकी आँखों में अंगारे थे,वो गरजा जैसे शेर को गुस्सा आ गया हो सारा गाव बार डर से कपने लगा,"मदेरचोद तेरे ही कारन मैं अपने भाई भईया से अलग रहा ,मेरे भाई ने तुझ जैसी दो कौड़ी की लड़की को इस घर की बहु बना दिया नहीं तो तुझ जैसी के ऊपर तो मैं थूकता भी नहीं,तेरे कारन मैं अपने भातिजो से नहीं मिल पता आज तक तुझे मेरे भाई ने बचाया था देखता हु आज तुझे मुझसे कोन बचाता है," बाली ने पास पड़ी कुल्हाड़ी उठाई,और चंपा की तरफ दौड़ गया,उसको रोकने की हिम्मत तो किसी में नहीं थी...उसने पुरे ताकत से वार किया.लेकिन ये क्या,,एक हाथ कुल्हाड़ी की धार को पकड़ के रोके है बाली ने जैसे ही उस शख्स को देखा उसका गुस्सा जाता रहा,वो अजय था,
बाली को उसकी आँखों में वही धैर्य वही तेज दिखा जैसा उसे वीर की आँखों में दिखता था,आज अचानक ही जैसे अजय जवान हो गया हो,
'चाचा,चाची मेरा परिवार है,मेरे भाई बहन मेरे परिवार है ,इनपे कोई भी हाथ नहीं उठा सकता ,आप भी नहीं ,अब मेरे पापा के जाने के बाद मैं इनकी जिम्मेदारी लेता हु 'अजय का इतना बोलना था की बाली उसके पैरो को पकड कर रोने लगा,
'मेरे भईया ,मेरे भईया वापस आ गए ....'सारे गाव के आँखों में चमक आ गयी सभी बच्चे दौड़ते हुए अजय से लिपट कर रोने लगे चंपा स्तब्ध सी अपने जगह पर खड़ी थी ,उसने मौत को इतने करीब से छूकर जाते देखा की उसकी रूह अब भी काप रही थी ,और अजय ,अजय एक शून्य आकाश में देखता लाल आँखों से अब आंसू सुख चुके थे ,मन बिक्लुत शांत था और चहरे पर दृढ़ता के भाव उसके द्वारा ली जिम्मेदारी का अभाश दिला रहे थे ,.....

वक़्त को गुजरते देर नहीं लगी अजय अब *** का हो चला था ,उनका पालन पोषण उनकी माँ समान सीता मौसी ने किया बच्चो और पति से चंपा की दूरी बरकरार थी पर वो किसी से कुछ नही कहा करती ,उसने अजय से माफ़ी मांगने की कोसिस की पर हिम्मत ही नही जुटा पाई,बाली और अजय ने पूरा काम मिला लिया था ,पर अजय बाली को कुछ करने नहीं देता बस सलाह लेता था ,घर का कोई लड़का पढ़ नहीं पाया इसलिए अजय अपनी बहनों को ही पढ़ना चाहता था ,सोनल और रानी को उसने कॉलेज की पढाई के लिए बड़े शहर भेज दिया था ,वहा एक घर भी खरीद दिया था ताकि उन्हें कोई भी तकलीफे ना हो ,और एक काम करने वाली भी साथ में भेजी गयी थी ,वही निधि अभी स्कूल में थी ,निधि अजय के सबसे करीब थी ,अजय के साथ ही सोना ,खाना यहाँ तक की नहाना तक अजय के साथ ही करने की जिद करती थी,अजय की वो जान थी इसलिए सबसे जिद्दी और नकचड़ी भी थी ,शरीर तो जवान हो चूका था पर उसका बचपना अभी भी बाकि था ,और वही अजय को भी पसंद था ,सभी भाई बहन उसे बहुत जादा चाहते थे और पूरे घर की लाडली निधि ने अजय से शहर जाने से साफ इंकार कर दिया ,वो अजय को किसी भी हाल में नहीं छोड़ना चाहती थी ,इसलिये अजय ने रूलिंग पार्टी को फंड देकर अपने गाव में ही कॉलेज खुलवाने का फैसला किया ,पर सरकार तिवारियो के भी दबाव में थी इसलिए फैसला हुआ की कॉलेज दोनों गांवो में ना खोलकर पास के कस्बे में खोला जाय....विजय और किशन दोनों बिलकुल देहाती और एयियाश हो चले थे पुरे के पुरे बाली पर गए थे ,पर किशन बाकि दोनों भाइयो की अपेक्षा थोडा कमजोर था,और अपने माँ के थोडा करीब भी था ,पर दोनों अजय के भक्त थे जो अजय कहे बिना सोचे करना ही उनका काम था ,चाहे किसी को मारना हो या मार ही देना हो ,
इधर तिवारियो का मुखिया रामचन्द्र अभी भी जिन्दा था पर कभी अपने नाती नातिन की सकल भी देखने नहीं गया ,गजेन्द्र उसका बड़ा बेटा था जिसने उसके पुरे कारोबार को सम्हाल लिया था ,गजेन्द्र के दो बच्चे थे और और उसके छोटे भाई महेंद्र के तीन इंट्रो बाद में होगा सबका ,गजेन्द्र अपने भाई अविनाश की मौत का बदला लेबा चाहता था और ठाकुरों को पुर्री तरह तबाह कर देना चाहता था ,जिसने उनकी छोटी बहन और भाई को छीन लिया ,पर रामचंद की सोच ऐसी नहीं थी इसलिए दोनों में जादा बनती नहीं थी ,
कहानी शुरू करते है आम के बगीचे से ,ये आम का बगीचा ठाकुरों का था और एक बड़े इलाके में फैला हुआ था ,और उनके खेतो से लगा हुआ था ,सुखी पत्तियों पर किसी के दौड़ाने की आवाजे और साथ में घुंघरू की आवाजे उस शांत माहोल में दूर तक फ़ैल रही थी ,वही किसी लड़की के जोर से हसने की आवाजे आई और ,
'हाय से दयिया ,ठाकुर जी आज इतने बेताब काहे है ,'रेणुका ने एक पेड़ पर खुदको छुपाते हुए कहा ,
'आजा मेरी रानी कल रात को भी तेरी माँ उठ गयी थी साला अब सबर नहीं होता ,'विजय ने दौड़ के उसे पकड़ने की कोसिस की पर ना कामियाब रहा ,
'अब कोई दूसरी ढून्ढ लो ,आज मुझे देखने लड़के वाले आ रहे है ,मेरी शादी हो गयी फिर क्या करोगे ,और इतना खोल दिया है आपने अपने पति को क्या दूंगी ,'विजय ने उसे पीछे से दबोच ही लिया ,और उसके चोली को फेक कर उसके उजोरो को मसालने लगा ,रेणुका भी मतवाली हो गयी वो विजय के ही हम उम्र थी और उस सांड को अपने चौदहवे सावन से झेल रही थी,विजय के सम्बन्ध ऐसे तो कई लडकियों से थे पर रेणुका उसकी खास थी ,और घर में काम करने वाले नौकर की बेटी थी ,
'अरे मेरी जान तू चली जाएगी तो मेरा क्या होगा ,तू ही तो है जो मुझे सही तरीके से झेल लेती है,'विजय अब अपने हाथ से घाघरे का नाडा खोल रहा था ,गाव की लडकिया कोई अन्तःवस्त्र नहीं पहनती थी,तो घाघरा खुलना यानि काम हो जाना ,
Reply
12-24-2018, 12:04 AM,
#3
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
'अरे छोडो छोटे ठाकुर मेरी शादी तो अजय भईया करा के रहेंगे ,ये मछली तो आप के हाथ से गयी ,आह कितना बड़ा है ,पता नहीं शादी के बाद मैं क्या करुँगी ,आःह आअह्ह्ह्ह ठाकुर ,विजय अपना लिंग उसकी बालो से भरी योनी में रगड़ रहा था पर अन्दर नहीं डाल रहा था,वो लडकियों को गरम करने के बाद ही अपना काम करता था,उसने अपने हाथो से उसके ऊपर का कपडा भी खोल दिया ,और उसके शारीर को पीछे से चुमते हुए निचे उस करधन तक आया जो उसने ही रेणुका हो दिया था ,
'आआअह्ह्ह मार डाआआअ लोगे क्या 'विजय अपनी जिब से उसके भारी निताम्भो को चाटने लगा,और मुह आगे बड़ा कर उसके योनी में जीभ घुसा दि ,
'आआह्ह्ह आअह्ह्ह्ह अआह्ह्ह हूमम्म विजय ,'योनी को भरपूर गिला करने के बाद रेणुका को उठा के एक पेड़ के निचे बिछे चादर में ले जा लिटा दिया ,और उसके पैरो को अपने कंधे में रखता हुआ अपना पूरा लिंग एक बार में ही उसके अंदर कर दिया ,
'ईईईईई माँआआअ 'एक चीख पुरे वातावरण में फ़ैल गयी और धक्को की आवाजे सिस्कारियो और चपचप की आवाजे एक लयबद्ध रूप से आने लगी ,ये तूफान तब तक चला जब तक की रेणुका कई बार अपने चरम को पा चुकी थी और विजय अपनी सांड सी ताकत से उस मांसल और बलशाली लड़की के आँखों से आंसू नहीं निकल दिया ,विजय अपने चरम पर उसके उजोरो को अपने दांतों से काट लिया और उसके अन्दर एक लम्बी और गाढ़ी धार छोड़कर उसके ऊपर ही सो गया ,रेणुका के आँखों में आंसू तो थे पर चहरे पर अपरिमित सुख झलक रहा था ,उसने अपने बांहों में विजय को ऐसे पकड़ा था जैसे वो उसे कभी नहीं छोड़ेगी,

विजय जब घर पहुचता है तो वह रेणुका की माँ और लड़के वाले बैठे होते है ,बड़े से कमरे में,बीचो बीच एक बड़े से सोफे पर अजय बैठा होता है,बाकि सब हाथ मोडे छोटी छोटी खुर्सियो में बैठे होते है ,तभी विजय वह पहुचता है,..
विजय लड़के को देखता है ,'साला चुतिया,ये मेरी रेणुका को क्या संतुस्ट करेगा,'विजय मन ही मन उस पतले दुबले से लड़के को देख कर बोलता है,
'तो आप बताइए लड़की आपको पसंद है ना,'अजय लड़के के पिता को देखते हुए कहते है,
'ठाकुर साहब ये आप क्या कह रहे है,आप तो हमारे लिए भगवान है,आपका हाथ जिस लड़की पर है उसे हम कैसे मना कर सकते है,'लड़के के पिता ने थोडा डरते हुए कहा ,
'हम्म्म ठीक है ,तो शादी की तारीख तय कर लो क्यों मौसी क्या कहती हो ,'अजय ने सीता मौसी की तरफ मुह कर पुचा जो उस समय पास के सोफे में बैठी सुपारी काट रही थी ,
'हा कर दो लेकिन एक शर्त है,रेणुका कही नहीं जाएगी ,इस लड़के को यही नौकरी पर रख लो ,अगर ये भी चली गयी तो इसकी माँ का क्या होगा ,बेचारी का पति भी नहीं है,अकेले हो जाएगी क्यों रे,और तेरे तो 3 बेटे है ,ये निकम्मा यहाँ काम भी कर लेगा ,'मौसी ने लड़के के बाप को देखते हुए कहा,
'और ऐसे भी (विजय को देखते हुए ) रेणुका जो काम करती ही वो कोई नहीं कर सकती ना ..' विजय के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी जिसे अजय ने भी देख लिया उसे और मौसी को उसके सभी करतूतों का पता होता था ,पर इसे वो जाहिर नहीं होने देते थे,
'जैसा आप कहे मौसी जी ,ये बनवारी आज से आपका हुआ ,आप जब कहे शादी कर देंगे ,'अजय ने पंडित से तारीख निकलने को कहा और वह से उठ कर चल दिया ,सभी हाथ जोड़े खड़े हो गए ,मौसी को छोड़ ...
'मौसी बहुत बहुत धन्यवाद आपका आपने मेरी बेटी का जीवन सवार दिया,'रेणुका के माँ के आँखों में पानी आ गए थे ,
'अरे तू भी ना रे विमला ,रेणुका मेरी भी तो बेटी है ना,और विजय सारी जिम्मेदारी तुझे ही उठानी है शादी की ,पूरी तयारी अच्छे से होनी चाहिए 'सभी चले जाते है बस विजय और मौसी वह रह जाते है,
विजय मौसी के गोद में जा कर लेट जाता है ,
'मौसी जी थैंक् आपने तो रेणुका को यही रख लिया ,'
'अरे मेरे छोटे ठाकुर ,क्या मुझे पता नहीं की वो तुम्हारी जरुरत है ,और मेरा तो काम ही है तुम्हारी जरूरतों को पूरा करना ,बस अपने भाई के इज्जत में कालिक मत पोतना,नहीं तो अजय सब सहन करेगा पर इज्जत से खिलवाड़ नहीं,जो करना देख के ही करना ,'विजय उठकर मौसी के गालो को चूम लेता है ,और वहा से भागता हुआ चला जाता है ,मौसी हस्ती हुई सुपारी कटते रहती है ,
"पागल लड़का "मौसी के मुह से अनायास ही निकल पड़ता है,
एक शांत कमरा जो अजय ने अपने पढाई के लिए ही बनवाया था,जिम्मेदारियों के भोझ तले वो खुद तो नहीं पढ़ पाया पर उसे पढ़ने का बहुत शौक था,इसलिए उसने अपने घर में एक लिब्रेरी बनवा रखी थी,वो वह बैठ के पढ़ा करता था ,वो चाहता था की उसके छोटे भाई भी वहा पढाई करे पर किसी को इसमें कोई खासी दिलचस्पी ही नहीं थी,अजय बड़े ही मन से एक पुस्तक पढने में लगा था की किसी की पायल की आवाज से उसका धयान भंग हुआ ,वो समझ चूका था की ये निधि ही होगी ,निधि छमछम करते उसके पास आती है उसे देखकर अजय के चाहरे पर एक मुस्कान आ जाती है,निधि एक लहनगा चोली पहने हुए थी ,और किसी गुडिया की तरह सुंदर लग रही थी ,आज जरुर किसी के कहने पर उसने ये रूप लिया होगा ,अजय के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी ,16 साल की निधि का शारीर अपने यौवन के उचाईयो पर था पर दिल और दिमाग से वो किसी बच्चे की तरह मासूम थी ,खासकर अपने भाइयो के सामने ,उसका मासूम सा चहरा देख अजय के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी ,वो देख रहा था की कैसे निधि बड़ी मुस्किल से अपने लहंगे को सम्हाल रही थी,वो देहाती लहंगा जो शायद रेणुका का लग रहा था ,उसके लिए आफत ही था पर बड़ी ही उम्मीद से वो उसे पहने हुए अपने भाई को दिखने आ रही थी ,अजय ने अपनी किताब पर एक पेन रख कर उसे बंद किया और उसकी और मुड कर उसे देखने लगा .वो उसके पास पहुची तब तक निधि के चहरे में भी एक मुस्कान ने जन्म ले लिया था,
'भईया देखो मैं कैसे लग रही हु ,'एक उत्सुकता और चंचलता से निधि ने पूछा ,
'ये क्या नया शौक चढ़ा है तुझे ,'अजय उसी मुस्कान से अपनी सबसे लाडली और प्यारी बहन को देखते हुए कहा,
'बताओ ना भाई ,कितने मुस्किल से पहन कर आई हु और आप 'निधि थोड़े गुस्स्से में आते हुए बोली 
'अरे मेरी प्यारी बहना ,तू जो भी पहन लेगी वो अच्छा ही होगा ना ,बहुत प्यारी लग रही है ,'अजय उसके गालो पर एक हलकी सी चपत मरते हुए बोला ,निधि उछल पड़ी 
'भईया जानते हो मैं ना यही पह्नुगी रेणुका दीदी की शादी में ,'
'हम्म्म अभी से तयारी और ये देहाती वाला लहंगा क्यों पहनेगी मेरी बहन,तेरे लिए तो शहर से डिजायनर लहंगा ला देंगे,खरीददारी करने शहर जाना है ना ,'अजय की बात सुनकर निधि फिर उछल पड़ी ,
'सच्ची भईया,'
'हा और रानी और सोनल को भी तो लाना है ना ,'
'वाओ' निधि उछल कर अजय के गले लग जाती है,जब वो थोड़ी सामान्य होती है तो अजय से दूर होती है ,
'तो भईया इसे मैं दीदी को वापस कर देती हु,'अजय को हसी आ जाती है ,
'तो ये रेणुका का है ,'
'हा तो और क्या मैं भी अब बड़ी हो गयी हु ,मैं भी अब दीदी की शादी में लहंगा पहनूंगी 'निधि फिर से सम्हालते हुए बहार निकलने लगी तभी किशन अंदर आता है ,निधि को ऐसे चलता हुआ देख वो हस पड़ता है ,
'अरे बहना ,पहले ढंग से सम्हाल तो ले फिर शादी में पहनना ,'किशन की बात से निधि को गुस्सा आ जाता है ,
'मैं सम्हाल लुंगी समझे ,बड़े आये आप 'निधि मुह बनाकर वहा से चली जाती है ,किशन हसता हुआ अजय के पास आता है ...
'भईया वो बनवारी के बारे में पता कर लिया है ,सीधा साधा लड़का है ,'
'ह्म्म्म ठीक है फिर उसे भी घर में रख सकते है ,और एक दो दिन में ही शहर जायेंगे,रानी और सोनल को लाने और समान भी खरीद लायेंगे ,सबके कपडे वगेरह ,तू चलेगा ,'
'भईया यहाँ भी तो किसी को रहना पड़ेगा ना ,विजय भईया जाने को कह रहे है तो मैं यही रह जाऊँगा ,
'ठीक है फिर ,दो गाड़िया जाएँगी और दो ड्राईवर ,तीन नौकर और 5-6 पहलवान भी रहेंगे किसे भेजना है देख लेना ,'
'ठीक है भईया ,'अजय फिर से अपने किताब को उठा कर उसमे खो जाता है ....
Reply
12-24-2018, 12:04 AM,
#4
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
अजय अपने कमरे में कसरत कर रहा होता है ,रात सोने से पहले उसे व्ययाम की आदत थी उसका विशाल सीना घने बालो से ढका हुआ था ,भुजाओ की गोलाई और चौड़ाई किसी पहलवान की तरह थी,बिक्लुल सपाट पेट जिसमे 6पेक वाली धरिया साफ़ दिख रही थी,
उसका रूम किसी राज महल के विशाल कक्ष जैसे बड़ा था,जहा पर एक कोने में कसरत के कुछ समान रहे थे,आदमकद का शीशा लगा था जिसपर से उसे अपने आप को देखने की सुविधा होती थी ,अजय अपने में सम्मोहित सा दर्पण में अपने को घुर रहा था और पसीने से भीगा हुआ उसका बदन कमरे की दुधिया रोशनी में चमक रही थी,भार उठाने पर उसकी मसपेशिया फुल सी जाती थी जिससे उसकी विशाल काया और भी विशाल हो जाती थी ,अपनी ताकत को वो वह पूरी तरह से खपाने में आमादा था,जैसे इसके बाद दुनिया खत्म ही हो जानी है,तभी उसे हलके हलके से किसी पायल की आवाज आई जिससे उसके चहरे पर एक मुस्कान घिर गयी ,वो जानता था की ये पायल किसकी है ,उसने मुड़कर देखा निधि उसकी ओर ही बढ़ी आ रही थी ,निधि ने एक झीनी सी सफ़ेद कलर की nighty पहन रखी थी जो पूरी तरह से पारदर्शी था और उसका साचे में ढला बदन उसे साफ़ साफ दिखाई दे रहा था ,वो पगली कभी अन्तःवस्त्र भी तो नहीं पहनती थी ,अजय की नजर जब उसके मादक शारीर पर गयी तो उसने अपना सर पकड़ लिया और मन में ,
"ये लड़की कब बड़ी होगी ,इतना बड़ा कमरा बना के दिया हु इसे और ये मेरे पास ही सोती है,इतनी बड़ी हो गयी है और ऐसे कपडे पहन के घुमती है,इसे कब शर्म का आभास होगा,कब इसे पता लगेगा की वो अब बच्ची नहीं रह गयी है ,क्या उसे सचमे नहीं पता ,नहीं ऐसा तो नहीं है ,सभी तो कहते है की गुडिया बड़ी हो गयी है समझदार हो गयी है,पर मेरे ही सामने ये क्यों बच्ची बन जाती है ,मेरी प्यारी सी गुडिया देखो कितनी खूबसूरत लग रही है ,किसी की नजर ना लग जाए इसे ,इतनी प्यारी इतनी नाजुक है मेरी बच्ची,कैसे दूर कर पाउँगा इसे ,लेकिन कब तक आज नहीं तो कल तो इसे किसी और की होना ही है ना,फिर क्या करूँगा कैसे रहूँगा इसके बिना ,नहीं कुछ भी हो जाए मैं इसे अपने से अलग नहीं करूँगा ,पर एक भाई का फर्ज भी तो अदा करना है ना मुझे ,"अजय के आँखों में पानी आ गया था,जिसे देख निधि मुस्कुरा पड़ी उसे पता था उसका भाई उसे देख के ही उसके लिए प्यार से भर गया है,अजय कितना भी बलशाली क्यों ना हो और कितना भी गंभीर क्यों ना हो वो हमेशा अपने बहनों के लिए और खाशकर निधि के लिए बहुत ही नर्म दिल का था निधि ने उसे कई बार अकेले में रोते हुए देखा था,या ये कहे की सिर्फ निधि ने उसे रोते हुए देखा था,क्योकि अजय और किसी के सामने नहीं रोता,पर निधि ही उसके सबसे करीब थी और निधि ही उसके पास अधिकतर समय गुजरती थी ,माँ बाप के मौत के बाद से निधि के लिए उसका भाई ही उसकी जिंदगी था ,पता नहीं क्यों इतने बड़े हो जाने पर भी निधि को उसके साथ रहने पर निधि की समझदारी जाती रहती है और वो बच्चो जैसे हो जाती है ,जबकि निधि में बहुत समझदारी थी वो इतनी भी भोली नहीं थी जीतनी वो दिखाती थी ,
"भईया आप क्यों रो रहे हो ,"निधि ने मजे लेने के लिए कहा 
"मै कहा रो रहा हु,और तू ऐसे कपडे क्यों पहन के घूम रही है ,अब तू बड़ी हो गयी है समझी "अजय को अपनी आँखों से बहते मोती का आभास हो गया और उसने अपने हाथो से उसे पोछा,
"कहा घूम रही हु आपके ही पास तो आ रही हु अपने कमरे से और बाजु में तो है आपका कमरा,और मैं अभी बच्ची हु समझ गए ना आप ,मुझे बड़ी नहीं होना है और आपके लिए तो कभी भी नहीं ,"निधि की प्यारी प्यारी सी आवाज ने अजय के चहरे पर एक मुस्कान फैला डी ,सच में कितनी प्यारी है मेरी बहना...
"अच्छा अब तो तेरी शादी करने की उम्र हो गयी है मेरी बच्ची जी ,"अजय पुलअप मारते हुए कहा,निधि ने बुरा सा मुह बनाया और अजय के कमर को पकड लिया और उसमे झूल गयी अजय के लिए तो निधि फूल सी थी वो उसे भी अपने साथ ऊपर उठा लिया जिससे निधि को बहुर मजा आने लगा ,मगर 6-7 बार के बाद अजय की हिम्मत जवाब देने लगी वो उतरने वाला था पर निधि ने उसे टोक दिया,
"भईया मजा आ रहा है करते रहो ना "अजय अपनी बहन की बात को कैसे टाल सकता था,वो फिर पुलअप करना सुरु किया 10 लेकीन निधि का मन नहीं भरा था 15 अजय के बाईसेप और सोल्डर में दर्द भर चूका था मसल्स में तनाव बाद रहा था जैसे अभी ही फट जाने को है ,वो सामान्यतः 10-15 के रेप लेता था पर निधि का वजन भी काफी था,लेकिन अजय की हिम्मत नहीं टूटी उसने आँखे बंद की और एक गहरी साँस लेकर पूरी ताकत लगा दि ,उसने महसूस की निधि की ख़ुशी को उसके चहरे की हसी वो खिलखिलाना जब वो ऊपर जाता है ,उसका वो चहकना अजय के अन्दर पता नहीं कहा से इतनी ताकत आ गयी की वो लगातार पुलअप करने लगा 20,30,अजय के मसल्स तनाव में फटने को थे पर अजय को दर्द का कोई भी आभास ही नहीं हो रहा था,उसके चहरे पर एक मुस्कान थी और आँखे बंद थी वो निधि के चहरे को निहारे जा रहा था ,अचानक की निधि ने अजय की हालत देखि और अपने जिद पर उसे बड़ा दुःख हुआ अजय के एक एक नश जैसे फटने वाले हो वो तुरंत अजय को छोड़ डी और अजय को भी रोक दिया अजय जब निचे उतरा उसका हाथ पूरी तरह से अकड़ गया था,निधि ने उसका हाथ सीधा करना चाहा तो अजय के मुख से एक आह निकली ,निधि के आँखों में पानी आ गया वही अजय को अपनी गलती का आभास हो गया की उसकी बहन डर गयी है ,और उसने दर्द की जगह अपने चहरे में मुस्कान ला लिया ,और निधि की आँखों के पानी को अपने हाथो से साफ़ करने के लिए आगे बढ़ाया,पर निधि ने उससे पहले ही अजय के सीने में आ चिपकी...
"दर्द दे रहा था तो बोले क्यों नहीं ,भईया आप कैसे करते हो कितने गंदे हो "निधि उसकी छाती में मुक्के मरने लगी ,अजय के पसीने से उसका चहरा भी गिला हो गया ,वो उसके शारीर से चिपकी और उसका शारीर अजय के पसीने से गिला होने लगा ,वो अजय से आते मर्दाना खुसबू के आभास में डूबी हुई अजय को और जकड ली,ये खुसबू उसके लिए मर्द होने की निशानी था ,उसके भाई की निशानी था,जो उसे बहुत पसंद थी ,अजय दर्द को नजर अंदाज करता हुआ अपने अपने हाथो को निधि के सर पर रखा,
"मेरी बहन कुछ बोले और मैं उसे पूरा ना करू ऐसा हुआ है क्या कभी ,"अजय उसके सर को चूमता है,और निधि को अलग करता है ,
"चल अब मैं नहा के आता हु ,जल्दी सोना है आज कल फिर शहर जाना है,"निधि भी मुस्कुराते हुए अजय से फिर चिपक जाती है ,रुको ना अच्छा लग रहा है ,अजय उसके सर में हाथ फिरता है ,
"पूरी रात तो लिपट के ही सोएगी ना अब नहाने दे ना बहन ,"निधि मुस्कुराती हुई अलग होती है और अपनी एडी उठा कर अपने भाई के गालो पर एक किस कर लेती....
Reply
12-24-2018, 12:04 AM,
#5
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
दूसरे दिन सभी लोग शहर की ओर निकल पड़े निधि अजय और विजय के साथ एक गाड़ी में कुछ लठैत भी थे, अजय सोनल और रानी को सरप्राइस देना चाहता था इसलिए सीधे घर न जाकर वह एक होटल में रुक गए, निधि ने शहर में pab के बारे में बहुत सुन रखा था, उसने अजय और विजय से एक डिस्को में चलने की इजाजत मांगी अजय को उसको इनकार करते भी ना बना, दिन भर के थके होने के कारण wo सो गए और शाम को तैयार होकर पास के ही एक डिस्को में चले गए, निधि एक जींस टॉप पहनी थी जिसमें उसका शरीर बहुत ही आकर्षक लग रहा था,
इधर सोनाला रानी अपने कुछ दोस्तों के साथ एक डिस्को में बैठी हुई इंजॉय कर रही थी, उसकी एक दोस्त किसी लड़के को बड़े देर से घूरे जा रही थी, सोनल ने उसे देखते ही उसकी नजर का पीछा किया कोई 6 फुट 2 इंच का लंबा चौड़ा गबरु जवान लड़का जो पीछे से बहुत ही हैंडसम लग रहा था सोनल समझ गई की खुशबू उसी लड़के को देख रही है, उसने खुशबू को कोहनी मारते हुए कहा,
“ क्या बात है मेरी जान तू तो कभी किसी लड़के को भाव भी नहीं देती और आज घूरे जा रही है,”
“ क्या करूं यार लगता है उस लड़के से मुझे प्यार हो गया इतना हैंडसम असली मर्द लग रहा है,” सोनल ने उसका चेहरा देखना चाहा पर नाकामयाब हुई, कुछ ही देर में एक हट्टा-कट्टा भारी भरकम शरीर का लड़का बार के काउंटर पर जोर से गिरा वहां मौजूद सभी लोगों का ध्यान उसकी तरफ ही चला गया, सोनल और रानी मुंह खोल कर उन्हें देख रहे थे, वही खुशबू एक सम्मोहित निगाह से उस लड़के को देख रही थी जिसने उस भारी भरकम लड़के को बार के काउंटर पर पटक दीया था, wo wahi लड़का था जिसे खुशबू इतनी देर से घूरे जा रही थी, अनायास ही सोनल और रानी के मुंह से निकला भैया….
डिस्को में आते ही निधि अपनी मस्ती में झूमने लगी वही अजय और विजय पास ही बार में बैठे चुस्कियां लेने लगे, तभी किसी लड़के ने आकर निधि को छेड़ना शुरू कर दिया जिसे देख अजय का खून खौल गया, अजय ने सीधा जाकर उस लड़के को उठाकर बार के काउंटर में पटक दिया, पास खड़े कुछ और लड़के जो कि उनके ग्रुप के थे वहां आ गए लेकिन अजय और विजय के सामने कौन टिक सकता था, उनकी ताकत के आगे सभी छोटे लग रहे थे, जब तक लड़ाई खत्म हुई निधि ने सोनल और रानी को देख लिया था वह दौड़ कर उनके पास गई और उनसे लिपट गई, जैसे उसे कोई फर्क ही नहीं पड़ता हो कि उनके भाई लड़ रहे हैं, वह जानती थी कि अजय और विजय को हराना किसी के बस की बात नहीं..
दोनों ने मिलकर सबकी हड्डियां तोड़ दी वहां खड़े सोनल के दोस्त जिनमें कुछ लड़कियां और कुछ लड़के थे आंखें फाड़े उन्हें देख रहे थे, अजय और विजय भी अब उनके पास आ गए थे.. सोनल और रानी दौड़ कर उनसे लिपट गए, सोनल को अजय का कपड़ा देख कर समझ आ गया यह वही लड़का है जिसे खुशबू ghur रही थी,
“ भैया आप लोग यहां” सोनल ने अजय से लिपटते हुए पूछा,
“ हां बहन रेणुका की शादी है और हम तुझे सरप्राइज देना चाहते थे इसलिए पहले घर नहीं आए लेकिन तुम तो यही मिल गई”
“ भैया मुझे आपको किसी से मिलाना है,” सोनल अजय और विजय को अपने दोस्तों के पास ले गई और सब से मिलवाया खुशबू अभी भी अजय को घूर रही थी, सोनम ने हल्के से उसे कोहनी मारी थोड़ी देर बाद सब जाने को हुए, तो खुशबू ने सोनल को थोड़ी देर के लिए अपने पास रोक लिए,
“ यार तेरे भैया तो बहुत हैंडसम है, मैं तो लगता है उनकी दीवानी हो जाऊंगी क्या नाम है तेरे भाई लोगों ka,”
“ जिनकी तो दीवानी हो रही है वह अजय है अजय ठाकुर और छोटे भैया विजय विजय ठाकुर, चल अब जा रही हूं देर हो रही है भैया राह देख रहे होंगे,तू भी चल ना हमारे साथ ”खुशबु कुछ सोचते हुए ना में सर हिलाया , सोनल तो वहां से चले गई पर दोनों का नाम सुनते ही खुशबू की आंखों में पानी आ गया उसकी आंखें लाल हो गई जैसे खून उतर आया हो, खुशबू बस उनको जाते हुए देखने लगी और सोचने लगी, जिंदगी में पहली बार किसी से प्यार हुआ कोई लड़का पसंद आया किसी को दिल दिया मोहब्बत की उसे अपना बनाना चाहा पर किसे, अपनी बुआ के लड़के को उस लड़के को जिसके खून के प्यासे मेरे घरवाले है, उस लड़के को जिस के परिवार ने मेरे मां-बाप को रुलाया, जिसके पिता ने मेरे चाचा को मारा खुशबू रोती हुई और अपने आंखों में पानी की धार लेते hui वहीं बैठ गई……

सभी शहर वाले घर आ जाते है ,सोनल और रानी बहुत खुस थे की रेणुका की शादी लग गयी है और वो घर में ही रहेगी ,तीनो बहन मिलकर समान की लिस्ट बनाते है,अजय का शहर वाला घर भी काफी अच्छा था,अजय किशन या विजय को वहा भेजना चाहता था ,ताकि शहर का कारोबार भी देखा जा सके पर दोनों को गाव से ही प्यार था ,और उनकी मस्तिय भी गाव में ही चल सकती थी ,अजय अपने भाइयो पर बेवजह का बोझ भी नहीं डालना चाहता था,आखिर सब खाना खाने बैठे,सोनल और रानी ने अपने हाथो से खाना बनाया था,
"भाई कैसा है खाना ,"सोनल बड़े ही प्यार से अजय से पूछ रही थी,
"हम्म बढ़िया है,"अजय थोडा गंभीर लग रहा था जैसा वो हमेशा ही लगता था,
"हमें भी पूछ लिया करो मैं भी तो तेरा भाई हु,"विजय ने हलके से कहा सोनल उसे आँखे दिखने लगी 
"तुझे तो जो भी दे दो बस रेणुका के हाथ का ही अच्छा लगता है "सोनल धीरे से उसे कह गयी ,विजय जैसे उछल गया और चुप रहने का इशारा किया रानी और सोनल दोनों हस पड़े वही निधि एक अजनबी निगाहों से उन्हें देखने लगी,अजय ने सुना तो सब और समझा भी सब पर कुछ प्रतिक्रिया नहीं दि ,
"सोनल तुम पड़ी लिखी हो और समझदार भी हो गयी हो ,पर मैंने सोचा नहीं था की तुम यु डिस्को में बैठी शराब पीती हुई मिलोगी,और वो लड़के लडकिया तुम्हारे दोस्त है ,कैसे कपडे पहने थे उन सबने ,देखो मैं तुम्हे डाट नहीं रहा हु बस तुम लोग अब बड़ी हो गयी हो और अपना अच्छा बुरा समझती हो मुझे कहने का यु तो कोई हक़ नहीं है पर ,..."अजय का इतना बोलना था की सोनल फफक कर रो पड़ी वही रानी की भी सुबकिया अजय को सुनाई दि ,उसे इस बात का इल्म ही नहीं था की वो कुछ गलत बोल गया है ,उसने सर उठा कर अपनी बहनों को देखा सोनल तो रो रही थी और निधि उठकर उसके पास जा चुकी थी और उसे दिलशा दे रही थी,सोनल सुबकते हुए बोल पायी 
"भईया आप ऐसे क्यों बोल रहे हो की हम पर आपका कोई हक़ नहीं है,क्या हम शहर में रहकर पढाई करते है तो हम आप के लिए पराये हो गए ,भईया आप हमारे लिए भगवन हो ,आपने हमें पाला पोसा है ,आप ही हमारे बाप हो और माँ भी आप ने हमें कोई भी दुःख नहीं होने दिया ,अपनी हर खुशियों को हमारे बाद ही समझा है ,आपको क्या लगता है की हम पढ़ लिख कर ये सब भूल जायेंगे ,हम जाहिल नहीं है भईया जो आपने किया उसे भूल जाय ,और आप ऐसे क्यों बोल रहे हो ,आपको बुरा लगा तो हमें डाटो मरो पर पराया मत करो भईया ,"सोनल बड़ी मुस्किल से ये बोल पायी की अजय को भी ये अहसास हो चूका था की वो कुछ गलत बोल गया है,वो उठा और सोनल और रानी को एक साथ अपनी बांहों में भर लिया दोनों मोम की गुडिया जैसे उसके तरफ खिसकती चली गयी और उसके सीने में समां गयी ये देखकर निधि भी अपने को नहीं रोक पायी और दौड़कर उनसे लिपट गयी ,ऐसे तो विजय का भी बड़ा मन कर रहा था पर अजय के कारन वो वही खड़ा रहा पर सोनल ने अपने हाथो से उसे इशारा किया और वो भी दौड़कर सोनल के पीछे से ही उन्हें अपने बांहों में भर लिया ,थोड़ी देर में जब सब सामान्य हुआ तो सभी अलग हुए लेकिन सोनल अभी भी अजय को जकड़े हुई थी ,अजय सोनल से पहले कभी ऐसे प्यार नहीं जताया था ,असल में रानी और सोनल,किशन और विजय के बहुत ही करीब थे और चारो अजय से थोडा डरते भी थे वही निधि को बस अजय ही समझ आता था बाकियों से वो उतनी घुली मिली नहीं थी ,निधि कभी भी अजय से नहीं डरी,सारे भाई बहान उसे भईया की चमची कहते थे,लेकिन आज अजय की बांहों में सोनल को बहुत सुकून मिल रहा था,वो इसे छोड़ना नहीं चाहती थी,अजय भी अपना हाथ सोनल के सर पर ले गया ,
"सॉरी बहन गलती हो गयी ,मुझे लगा की मेरी बहने शहर आकर बदल गयी होंगी और जैसा वह का माहोल था और जैसे तुम लोग लडको के साथ बैठे थे मुझे सच में तुम लोगो का वह होना अच्छा नहीं लगा ,पर क्या करू बहन मैं एक भाई हु ना वो भी एक जाहिल गाव का लड़का,"सोनल अजय के मुह पर अपना हाथ रख दिया ,
"मेरे भाइयो से जादा अच्छा वहा कोई भी नहीं था,वहा जो लोग थे वो अपने बाप की दौलत उड़ने वाले थे ,पर मेरे भाई तो कई लोगो को आश्रय देने वाले है,भईया हमें माफ़ कर दीजिये हम वहा कभी नहीं जायेंगे ,और भईया हम शराब नहीं पि रहे थे वो एक दोस्त का बर्थ डे था इसलिए चले गए ,और वो सभी लड़के लडकिय मेरे कॉलेज के दोस्त है ,सॉरी भईया ,और आप मेरे भाई सबसे बेस्ट है ,:सोनल अजय के गाल पर एक किस देकर उससे अलग हुई ,रानी भी दौड़कर आई और अजय को किस कर दि ,अजय हलके से मुस्कुरा दिया वही विजय ने सोनल को अपने गाल पर उंगली रखते हुए इशारा किया ,सोनल ने जीभ दिखा के इशारे में हलके से रेणुका कहा और हसने लगी ,ये देखकर निधि ने जाकर विजय को एक किस दे दिया ,विजय बहुत खुश हुआ और सोनल को चिढाने लगा ,तभी निधि बोली 
"हमारे भईया सबसे बेस्ट है तभी तो आपकी सब फ्रेंड्स इन्हें लाइन मार रही थी ,और खासकर वो खुसबू कैसे अजय भईया को घुर रही थी ,"निधि ने मुह बनाते हुए कहा ,लेकिन सब थोड़े असहज हो गए जिसे अजय ने महसूस कर लिया था ,
"कौन खुसबू ,"
"वही पिंक कपड़ो वाली "निधि ने फिर चिड़ते हुए कहा , 
"भईया वो मेरी बहुत अच्छी दोस्त है ,वो अपने परिवार के साथ यही रहती है ,"सोनल ने बात सम्हाला
"कौन कौन है उसके परिवार में "अजय ने यु ही पूछ लिया 
"उसके माता पिता तो यहाँ नहीं रहते ,उसने बताया की वो विदेश में रहते है यहाँ उसके दो भाई और उसकी एक बहन है,एक भाई अभी छोटा है स्कूल में है वो अपने दादा जी के पास गांव में रहता है ,"अजय सब धयान से सुन रहा था ,
"अच्छा कोण से गांव के है वो "
"वो तो मुझे नहीं पता भईया "
"ह्म्म्म ठीक है ,दोस्तों का चयन हमेशा सम्हाल के करना जानती हो ना हमारे कितने दुसमन है ,चलो अब सो जाओ कल मुझे किसी से काम है ,पापा के पुराने दोस्त है उनसे मिलाना है ,मैं सोने जा रहा हु और तुम लोग भी जादा बाते मत करना ठीक है ना ,"सब ने सर तो हिला दिया पर वो कहा सोने वाले थे ये तो उन्हें भी पता था ,और अजय को भी ,अजय के जाने के बाद उनकी मस्ती चालू हो गयी लेकिन पहले निधि के जाने का वेट कर रहे थे ,थोड़ी देर में निधि भी बोर होकर अजय के कमरे में चली गयी ,और उसके जाते ही ,
"कैसे रे कमीने अपनी महबूबा की शादी करा रहा है ,"सोनल ने विजय का कॉलर पकड़कर कहा,विजय और सोनल जुड़वाँ थे वही किशन और रानी भी इनके हमउम्र इसलिए इनके बीच कुछ भी छिपा हुआ नहीं था ,खासकर सोनल और विजय के बीच ,
"क्या करू यार मौसी और भईया की बात कोई टाल सकता है क्या ,लेकिन एक चीज तो अच्छी है कि वो अपने पास ही रहेगी "
Reply
12-24-2018, 12:04 AM,
#6
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
यानि तेरी तो ऐश है ,कमीना साला बहुत ही लक्की है तू "सोनल ने हस्ते हुए कहा यु तो रानी को सब कुछ पता था पर वो थोडा असहज महसूस कर रही थी अगर किशन होता तो अलग बात थी ,उसे किशन की बहुत याद आ रही थी,
"दीदी मैं चली सोने आपलोग को शर्म तो है नहीं की छोटी बहन बैठी है,और ऐसे बात कर रहे हो "रानी ने बुरा सा मुह बनाया ,सोनल हस पड़ी वही विजय ने उसे ऊपर से निचे तक घुर के देखा 
"ऐसे हमारी छोटी बहन अब बहुत बड़ी हो गयी है ,है ना सोनल "और सोनल को आँख मार दिया ,रानी उसका मतलब समझ कर शर्मा गयी विजय को एक मुक्का मार कर झूठा गुस्सा दिखाते हुए वहा से चली गयी वही सोनल की हसी छुट गयी ,रानी के जाते ही सोनल विजय की बांहों में आ गयी ,विजय सोफे में बैठा था और सोनल उसपर झुक बैठ गयी थी विजय ने उसे अपने बांहों में भर लिया ,और उसके सर को किस किया ,
"निधि कितनी लकी है ना विजय की घर में ही रहती है ,और एक हम है जो अपने भाइयो से मिलने के लिए भी तडफते रहते है ,कितने दिन हो गए तेरी बांहों में नहीं सोयी हु,मुझे तो निधि से जलन होती है कभी-कभी, हमेशा भईया से चिपकी रहती है और हम है भाई के गले लगने के लिए भी सोचते है ,और उनसे डरते है ,
विजय उसके सर को सहलाता है 
"भईया से गले लगने को तो मैं भी तडफता हु मेरी जान ,वो देवता है उनकी पूजा करो पर प्यार ना दिखाओ ,और निधि तो बच्ची है ,प्यारी सी गुडिया "सोनल उसे कस लेती है 
"हा वो तो अब भी तुम्हारी प्यारी सी गुडिया है ,तुम्हारी प्यारी गुडिया के हर चीज बड़े हो रहे है कभी देखा भी है "विजय उसे एक चपात उसके सर में मार देता है की सोनल आऊ कर जाती है ,
"मैं अपनी गुडिया के देखूंगा ,कामिनी कही की "सोनल फिर हस देती है 
"हा हा मेरा राजा भाई तो बहुत शरीफ है ना ,जैसे उसे कुछ पता ही नहीं गाव की ना जाने कितनी लडकियों को तुमने ,....और अभी सरीफ बन रहा है ,हां अब तो तू रेणुका का ही देखता होगा मैं तो भूल गयी थी ,"विजय उसे जोर से जकड लेता है की सोनल के मुह से आह निकल जाती है और वो छूटने के लिए छटपटाने लगती है ,
"आजकल बहुत बोल रही है ,और वो आयटम कौन थी मस्त थी क्या नाम था हा खुसबू ,"सोनल अपना सर उठा के देखती है 
"कमीने वो भाभी है तेरी समझे ,"
"अच्छा जैसे भईया उसे घास भी डालेंगे "
"क्यों नहीं डालेंगे ,मैं उसकी मदत करुँगी ना भईया को पटाने में,कब तक मेरे भईया हमारी जिम्मेदारियों के बोझ में दबे रहेंगे हमें भी तो उनके लिए कुछ करना चाहिए ना,और खुसबू से अच्छी कोई हो सकती है क्या ,और मैंने खुसबू की निगाहों में देखा है वो तो बस पगला गयी है भाई को देखकर ,"
"अरे हमारे भईया किसी हीरो से कम है क्या ,चल ठीक है हम भी मदद करेंगे और उसके चरण धो के पियूँगा अगर भईया ने उसे हमारी भाभी मान लिया तो ,चल जान अब सोना है कल भाई जल्दी उठा देंगे पापा के किसी दोस्त से मिलने जाना है ,"
"ओके पर मेरे और रानी के साथ ही सोयेगा तू ,कितने दिन हो गए तुझसे लिपट के सोये हुए ,और जबसे ये रेणुका जवान हुई है मेरे भाई को ही छीन ली "सोनल हलके गुस्से से बोली 
"अरे मेरी जान रेणुका क्या कोई भी लड़की मेरे बहनों की जगह नहीं ले सकती समझी चल अब चलते है ,"सोनल मुस्कुरा कर अपने भाई के बांहों से निकलती है और उसके गालो में प्यारी सी पप्पी दे देती है ,विजय भी मुस्कुरा देता है ,
"और ये कोण दोस्त है पापा के जिससे मिलने जाना है ,"
"अरे है कोई बड़ा अजीब नाम है ,बाली काका ने कहा है की मिलके आ जाना ,क्या नाम है ....
हा डॉ चुन्नीलाल तिवारी यरवदा वाले "सोनल आँखे फाडे देखती है 
"डॉ चुतिया "
"डॉ चुतिया ये कैसा नाम है "
"अरे बहुत नाम है उनका इस शहर में उन्हें सब चुतिया डॉ कहते है ,कल मिल लेना तुम्हे भी पता चल जायेगा ..."सोनल मुस्कुराती हुई विजय का हाथ पकडे अपने रूम में जाती है ....

अजय और विजय डॉ चुतिया के क्लिनिक पहुचाते है ,जाने से पहले उन्होंने सभी को तैयार रहने के लिए कहा था ताकि जल्द ही सारी शोपिंग करके पूरा काम निपटा लिया जाय,वो क्लिनिक पहुचते है,एक छोटा सा क्लिनिक था उनका अंदर जाने पर वह कोई भी मरीज नहीं दीखता ,डॉ अपने केबिन में बैठे हुए थे ,अजय केबिन के बहार से ही दरवाजा खोलता है और अंदर झाकता है,डॉ उसे अपने लेपटोप में कुछ काम करते हुए दिखाई देते है,
"क्या मैं अंदर आ सकता हु,"डॉ बिना डॉ उठाये ही कहते है 
"हा हा आ जाओ अजय ,"अजय और विजय दोनों आश्चर्य से अंदर जाते है ,एक सावले रंग का पतला दुबला सा शख्स चेयर पर बैठा होता है ,चहरे की आभा उसके ज्ञान को बतला रही थी ,उम्र कोई 40-45 की वही एक 29-30 साल की महिला जो दिखने में सेकेटरी जैसे पोसख पहने थी ,जिसके उन्नत वक्ष उसके तने हुए कपड़ो से बहार आने को बेताब थे और कुलहो के उभार ऐसे थे जिसे देख कर विजय के मुह में पानी आ गया वही अजय थोडा असहज सा हो गया ,
"हा बैठो बैठो "डॉ ने सर उठाते हुए कहा ,
"वाह तो तुम अजय हो और तुम विजय ,बिलकुल अपने बाप पर गए हो ,वीर ठाकुर साले की क्या पर्सनाल्टी थी ,बिलकुल तुम्हारी तरह और बाली तुम तो उसके जीरोक्स लगते हो विजय ,"दोनों डॉ को आश्चर्य से देख रहे थे ,की पापा और चाचा को इतने अच्छे से जानने वाले शख्स को ये जानते ही नहीं ,
"वो डॉ साहब काका ने आपसे मिलने को कहा था ,कोई काम था क्या ,"
"ह्म्म्म काम तो नहीं था बस मैं तुमसे मिलना चाहता था,वीर के जाने के बाद मैं वह कभी नहीं आ पाया ,सोचा उसके बच्चो से ही मिल लू,और तुम्हारी बहने कैसी है ,यही कॉलेज में पड़ती है ना,बाली ने मुझे बताया था,"
"जी यही है ,"अजय ने एक छोटा सा उत्तर दिया वही विजय नजर बचा के उस महिला को देख रहा था जिसे डॉ ने भाप लिया .
"ये मेरी सेकेटरी है ,मेरी मारलो "विजय को खासी आ गयी ,
"कोई बात नहीं इसका नाम सुनकर सभी को ऐसा ही होता है ,ऐसे तुम इसे मेरी बुला सकते हो,मेरी विजय को थोडा बहार ले जाओ और पानी पिला देना ,देखो पानी ही पिलाना "डॉ और मेरी के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी वही अजय को चिंता होने लगी क्योकि वो विजय को अच्छे से जानता था और ये उनका गाव नहीं था,उनके जाते ही डॉ अजय के तरफ मुखातिब हुआ,
"अजय बात कुछ ऐसी है की मैं तुम्हे विजय के सामने नहीं बता सकता,बात असल में ये है और ऐसी है की मैंने आज तक बाली से भी ये बार छुपा के रखी थी,अब तुम बड़े हो चुके हो और मेरा मानना है की तुम अब समझदार हो तो तुम्हे ये बात बता सकता हु,पर मेरी बात को बड़े ही धयन से सुनना और इसका जिक्र किसी से नहीं करना ,"अजय के चहरे पर चिंता के भाव गहरा गया था,जिस वक्ती को उसने कभी देखा नहीं था वो उसे क्या बताने वाला है जो उसने इतने दिनों तक छिपा रखा था,
"अजय देखो जिस दिन तुम्हारे पापा मम्मी का एक्सीडेंट हुआ था वो मेरे पास ही आ रहे थे "अजय चौक गया ,
"हा अजय बात ऐसी है की ये कोई हादसा नहीं था ,बल्कि सोची समझी चाल थी ,और ये एक मडर था,वो दोनों अकेले ही शहर के लिए निकले है ये बात किसी ने उन्हें बताई थी ,और उन्हें प्लानिंग से एक्सीडेंट कराया गया था,"अजय की आँखे लाल हो चुकी थी वो जानता था की किसने ये बताया होगा और किसने उनका एक्सीडेंट कराया होगा ...
"मैं जानता हु डॉ ये किसने किया होगा ,ये मेरी ही चाची और तिवारियो की मिली भगत होगी "डॉ उसे लाल होते देख थोडा घबराया पर उसने उसे शांत रहने को कहा ,
"अजय पहले तो मुझे भी ऐसा ही लगा था,इसलिए मैं तुम्हे शांत रहने को कह रहा हु,जल्दबाजी में लिया गया फैसला कई जिन्दगिया बर्बाद कर सकता है,और अब तुम अकेले तो नहीं हो तुम्हारे ऊपर कई जिम्मेदारिय भी तो है,"डॉ की बात से अजय चौक गया और डॉ को घूरने लगा 
"डॉ हमारे परिवार का एक ही दुसमन है और वो है तिवारी,उनके सिवाय ये काम कौन कर सकता है ,और आपने ये फैसला कैसे किया की वो गुनाहगार नहीं है,आप जानते ही क्या है हमारे परिवार के बारे में ,"अजय के चहरे से मनो खून उतर आया हो लेकिन डॉ शांत थे और उनकी शांति ही अजय को शांत रहने को मजबूर कर रही थी,वो चाह कर भी अपने को बेकाबू नहीं कर पा रहा था,ये कैसे हो रहा था ये तो उसे भी नहीं पता था बस उसे लग रहा था की जैसे कोई ताकत उसे शांत कर रही थी ,ये डॉ का ही ओरा था ,उनका ही प्रभाव था की अजय कुछ नहीं कर पा रहा था,
"हा अजय मैं तुम्हारे परिवार की स्तिथि को नहीं जानता ,इसलिए मैं इतने सालो से तुम्हारे माँ पिता के कातिलो को ढूँढ रहा हु,तुमने सही कहा की मेरा तुम्हारे परिवार से कोई रिश्ता नहीं है है ना,इसलिए तुम्हारे परिवार को बचाने के लिए मैं बाली से सच छिपा के रखा था,मैंने सोचा था की तुम समझदार होगे ,अगर तुम्हे मेरे बात पर भरोषा नहीं है तो ठीक है ,जाओ मार दो अपनी चाची को और बहा दो खून की नदिया तिवारियो के लेकिन असली गुनाहगार का क्या ,जो आज भी तुम्हारे परिवार को बर्बाद करने की सपथ लिए बैठा है,तुम्हे क्या लगता है, तुम्हारी बहनों पर यहाँ कोई भी खतरा नहीं है,तुम और तुम्हारा परिवार आज भी खतरे में है ये समझ लेना तुम ,मैं सालो से तुम्हारे परिवार पर नजर रखे हु,जब वीर जिन्दा था तब भी मैंने उसे आगाह किया था की तुमपर खतरा है,मेरे बच्चे जो गलती तुम्हारे पिता ने की वो तुम मत करो "डॉ की बाते सीधे अजय के दिल में लगी उसे डॉ के अहसानों का मतलब समझ आया वो उठा और डॉ के चरणों में बैठ गया ,अब उसकी आँखों मर आंसू था ,
"अंकल मुझे नहीं पता की मैं क्या करू पर आपने जो कहा अगर वो सच है तो मैं उसे तबाह कर के रहूँगा जिसने मेरे परिवार को उजड़ने की कोसिस की है ,कोण है वो "
डॉ ने उसे उठाया और फिर से उसे खुर्सी में बैठाया 
"यही तो पता नहीं चल पा रहा है ,मैंने जीतनी जाच अभी तक की है उसमे इतना ही पता चल पाया है की वो ना तो तिवारी है ना तुम्हारी चाची,इनफोर्मेसन देने वाला कोण है ये पता नहीं चल रहा पर हा एक्सीडेंट जिस ट्रक से हुआ था उसका ड्राइवर से मैं मिला उसकी अब मौत हो चुकी है ,उसे बस किसी ने अच्छे खासे पैसे दिए थे वो कोण था ये उसे नहीं पता,"
"पर आपको कैसे पता चला की तिवारियो का इसमें कोई हाथ नहीं है,"
"जब तुम्हारे पापा जिन्दा थे तभी से हमने तिवारियो के यहाँ अपने आदमी बिठा के रखे थे ,उन्होंने ही मुझे ये बताया था की उस दिन कोई भी कही नहीं गया और ना ही उसके कुछ दिन पहले ही कोई ऐसी हरकत हुई की कोई शक उनपर जाए ,माना वो लोग तुम लोगो के सबसे बड़े दुसमन है ,पर तुम्हारी माँ उस घर्र की ही तो बेटी है ,और रामचंद्र कभी अपनी इकलौती बेटी को नहीं मार सकता ,वो तो आज भी उसे बहुत प्यार करता है ,और तुम लोगो को भी वरना उसके बेटे यु चुप रहने वालो में से तो नहीं है ,"अजय को डॉ की बात पर भरोषा होने लगा 
"पर अंकल अब हम क्या करेंगे "डॉ के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी 
"कुछ भी नहीं ,बस इन्तजार ....ताकि वो कुछ करे और हमारे हत्थे चढ़े ..."डॉ एक शून्य आकाश में देखते हुए बोला ...
तभी एक चीख आई वो चीख मेरी की थी,अजय और डॉ अपने खयालो से निकले अजय जैसे ही उठने को हुआ डॉ ने अपनी जगह से उठकर उसे रोक लिया और उसका हाथ पकड़ कर मुस्कुरा दिया ...
"डॉ साहब सॉरी वो विजय "
"कोई बात नहीं आज मेरी को भी कोई असली मर्द मिल ही गया जो उसकी चीख निकल सके "अजय ने अपना सर निचे कर लिया और डॉ के पैर पढ उनसे आशीर्वाद लिया 
"अंकल हमें जाना होगा वो बहाने भी वेट कर रही होंगी "डॉ कुछ नहीं बोले और अपने सिट पर बैठ गए ,अजय अपना सर निचे किये ही कमरे से बाहर आया
Reply
12-24-2018, 12:04 AM,
#7
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
इधर .....
डॉ के केबिन से निकलते ही मेरी की कातिल हसी ने विजय को मदहोश कर दिया वो उसके पीछे पीछे किसी पालतू की तरह जाने लगा,मेरी की बलखाती कमर और उभरे हुए गांड ने विजय की सांसे बढ़ा दि थी,एक तो मेरी का कातिल शारीर उसपर उसकी कातिल अदाए,विजय की हालत ही ख़राब थी,मेरी उसे बहार बने काउंटर पर ले गयी,और वही सोफे पर बैठा दिया,
"आप क्या पीना पसंद करेंगे,"बड़ी ही लिज्जत से अपने छातियो को विजय की ओर झुकाती हुई बोली ,विजय की निगाहे उसके बंद कबुतारो पर अटक गए जो बस फुदकने के लिए बेताब थे,विजय ने अपने सूखे गले से थूक को निगला और बड़ी मुस्किल में कह पाया ,
"जो आप पिला दे,"मेरी उसकी ये हालत देख जोर से हस पड़ी,और अपनी होठो पर अपनी जीभ फिर कर बोली ,
"चाय काफी या पानी क्या पियोगे,"विजय ने अपने मन में सोचा ,साली अगर मेरे गाव में होती तो अभी तक इसे पटक के चोद चूका होता,क्या करू भईया भी साथ है ,चांस लू या रहने दू,नहीं नहीं भाई को पता चल गया तो ,ये साली बहका रही है,कुछ तो हिम्मत दिखानी पड़ेगी हम भी ठाकुर है,विजय ने अपना गला साफ़ करते हुए अपने चहरे पर एक स्माइल लायी और 
"मेडम जी दूध नहीं मिलेगा क्या,"विजय के चहरे पर एक हसी खिल चुकी थी की उसकी पूरी हिचक जाती रही ,वो पहले तो मेरी के बड़े बड़े बालो को देखा फिर उसके चहरे को मेरी के होठो में भी एक मुस्कान आ चुकी थी,
"नोटी बॉय ,दूध पीना पी तो टॉयलेट में आ जाओ,"विजय के तो जैसे बांछे खिल गए ,वो बड़ी बेताबी से मेरी के पीछे आया ,टॉयलेट में पहुचते ही मेरी ने दरवाजा बंद कर दिया ,और उसके ऊपर टूट पड़ी जैसे सदियों से पयासी हो ,ऊपर उसके शर्ट से बहार निकलते कबूतर विजय के लिए खास आकर्षण थे उसने देर नहीं करते हुए उसके शर्ट के बटन खोलने लगा ,पर मेरी ने उसका सर पकड़ कर अपने होठो के पास ले आई और उसके होठो को अपने होठो में भरकर चूसने लगी ,जैसे विजय को कुछ समझ नहीं आ रहा हो ,आज तक वो ही लडकियों पर भरी रहा था ,पर आज ये क्या हो रहा था ,एक औरत उसपर भरी हो रही थी ,विजय ने अपनी ताकत का इस्तमाल किया और मेरी को अपने दोनों हाथो से हवा में उठा दिया मेरी तो जैसे चुहक ही गयी ,विजय उसके कमर को पकड कर उसे किसी गुडिया की तरह उठा लिया और उसके जन्घो को अपने सर तक ले आया ,उसने उसकी स्कर्ट में अपने सर को घुसा दिया ,और बड़े ही सुखद आश्चर्य में पड़ गया क्योकि मेरी ने कोई भी अन्तःवस्त्र नहीं पहने था,उसकी कोरी बिना बालो की योनी उसके होठो के पास थी,उसने अपना सर उठाया और अपने होठो पर मेरी को बैठा दिया मेरी उसकी ताकत से हस्तप्रद सी हो गयी वही जैसे ही विजय ने अपनी नथुनों से उसकी योनी को जोर से सुंघा उसके नथुनों से आती हवा ने मेरी के योनी पर प्रहार किया और मेरी की योनी ने तेजी से पानी छोड़ना शुरू कर दिया विजय अपने जीभ को निकाल कर सीधे ही उसके योनी के दोनों फाको के बीच रगड़ने लगा,उसे उस नमकीन पानी का आभास हो गया मेरी विजय के सर में बैठी थी और उसके बालो को अपने हाथो से जकड रखा था,वो विजय के जानवरों जैसे ताकत और तरीके की दीवानी होती जा रही थी ,आज तक ना जाने कितने लोगो को उसने अपने जिस्म का स्वाद चखाया था पर ये पहला शख्स था जो मेरी पर भारी पड़ रहा था,और उसे अपने काबू में कर लिया था,मेरी के दिल से यही बात निकली साला मर्द तो यही है,बाकि सब तो ...???
विजय अपने जीभ का कमाल दिखा कर मेरी को पागल ही कर दिया था,विजय के अंदर का जानवर जगाने लगा था जो की जब जाग जाये तो बड़ा ही खतरनाक हो जाता है ,विजय उसकी योनी को ऐसे खा रहा था जैसे कोई कुत्ता किसी चाकलेट केक को खाए ,अपने पूरा सर उसने उस छोटे से छेड़ में डालने की ठान ली थी,उसके दांत जब जब योनी को रगड़ते मेरी की आहे निकल पड़ती उसे इतना मजा आ रहा था की उसके आँखों से आंसू आने लगे ,
"अआह्ह्ह आह्ह ओ ओ ओ बेबी बेबी सक इट सक इट ,माय होली जीजस मैं मर जाउंगी ओह ओह ओह बेबी ,नो नो नो "विजय ने अपने दांतों से उसकी योनी की दीवारों को काटना चालू कर दिया हलके हलके किये वार ने मेरी की हालत इतनी ख़राब कर दि की वो विजय के बालो को नोचने लगी ,उसने पूरी ताकत से विजय के बालो को उखाड़ने लगी पर विजय नहीं माना वो रोने लगी ,हा लेकिन वो आंसू मजे के थे मजे के अतिरेक के ,वही विजय को पहली पबार इतनी दुधिया गोरी और चिकनी चुद मिली थी जिसके फांके भी गुलाबी थे वो उसे कैसे छोड़ देता ,मेरी अपने सर झुका के विजय के गले तक ले आई और उसके दांतों से जो भी चमड़ी आई उसने अपने दांत गडा दिए ,पर वो तो साला हवसी जानवर ,सांडो की ताकत वाला विजय था इस फूल का प्रहार उसपर क्या असर करता पडले में वो उसका कमर उठा कर अपने दांतों को उसकी योनी में रगड़ दिया ये प्रहार मेरी नहीं सह पायी और एक जोरदार चीख के साथ झड गयी ,उसे इसका भी भान नहीं रहा वो क्लिनिक में है,विजय का चहरा पूरी तरह से भीगा हुआ था उसने उसके पानी को चूस चूस कर पिया उसे भी इस बात का इल्म ना रहा था की वो क्लिनिक में है ,उसने मेरी को निचे उतरा तो मेरी जैसे मरी हुई थी,बिलकुल बेसुध लेकिन उसके चहरे पर तृप्ति के भाव थे पर विजय का डंडा तो अब पुरे जोर में खड़ा था जसने उसके स्कर्ट को निकल फेका पर मेरी की हालत देख थोडा रिलेक्स करने की सोची मेरी को अपने सीने में चिपका लिया ,मेरी बेसुध सी उसके ऊपर अपने को पूरी तरह से छोड़ चुकी थी ,थोड़ी देर बाद रिलेक्स होकर जैसे ही मेरी आँखे खोली उसने विजय को पकड़ कर एक जोर का किस उसके होठो में दिया 
"थंक्स विजय तुमने जो किया वो कोई नहीं कर पाया "
"अरे थंक्स छोड़ अब मेरा भी..."विजय इतना ही बोला था की दरवाजे में खटखट हुई ,आवाज अजय की थी जिसे सुनकर विजय का खड़ा डंडा पूरी तरह से मुस्झा गया उसे याद आया की मेरी किस तरह चीखी थी,वो डर और शर्म से पानी पानी हो गयी वही मेरी की हसी निकल पड़ी,विजय ने उसका मुह दबाया और 
"बस आता हु भईया दो मिनट "विजय बड़ी ललचाई नजरो से उसके योनी को देखा फिर उसके तरबूजो को ,उसका चहरा यु उदास हो गया था जैसे किसी बच्चे के हाथो से कोई चोकलेट छीन ले,मेरी उसकी ये स्थिति देख उसके गालो में बड़े ही प्यार से किस किया और 
'कोई बात नहीं मेरी जान ,मेरी इस गुलाबो में आजतक सिर्फ दो ही मुसल गए है,एक तो डॉ का और एक मेरे पति का लेकिन तुझे भरोसा दिलाती हु तीसरा तेरा होगा,तूने तो मुझे खुस ही कर दिया "विजय को उसकी बात से थोड़ी रहत मिलती है वो जल्दी अपनी हालत दुरुस्त कर वह से निकलता है मेरी अब भी अंदर थी बहार अजय नहीं होता वो अपने भाई की इज्जत बचने के लिए क्लिनिक के बहार निकल गया था,विजय सर निचे किये हुए अजय के पास पहुचता है ,अजय उसके चहरे के डर को देखता है और उसे अपने भाई पर बड़ा प्यार आता है ,और उसके चहरे पर एक मुस्कान आ जाती है पर वो कुछ कहता नहीं और वो घर की ओर चल देते है,.....

जब दोनों घर पहुचे तब तक सभी देविया तैयार होकर अपने भाइयो का वेट कर रही थी,सोनल और रानी ने सामान्य सा टी शर्ट और जीन्स पहना हुआ था पर निधि कही दिख नहीं रही थी,
"निधि कहा है ,"अजय ने पहला प्रश्न किया 
"वो तैयार हो रही है ,"सोनल ने चिढ़ते हुए कहा ,उसकी बात सुन कर अजय को समझ आ गया था की जरुर निधि इन दोनों को परेशान कर दि होगी ,
"कैसे अभी तक तैयार नहीं हुई "
"अरे भईया महारानी जी को कोई भी कपडा पसंद ही कहा आता है ,मेरे और रानी के सभी कपडे देख लिए बड़े मुस्किल से एक स्कर्ट उसे पसंद आया है ,प्लीज् आज उसके लिए उसकी पसंद के बहुत सारे कपडे ले दीजियेगा नहीं तो वह जाकर हमें परेशां करेगी,"सोनल थके हुए आवाज में बोली ,जिसपर अजय हस पड़ा 
"हा ठीक है उसे जो भी पसंद आएगा सब ले लेना और तुम लोग भी अपने लिए अच्छे कपडे ले लेना ,और हा मैं तो भूल ही गया था ,तुम सब अपने लिए डिसाईंनर लहंगा भी ले लेना और रेणुका के लिए भी तो लेना है कपडे ,और सबके लिए 2-3 लेना नहीं तो वहा जाकर झगड़ोगी "सोनल और रानी का चहरा खिल गया ,ऐसे तो वो अजय से कुछ मांगने में हिचकिचाते थे पर निधि हो तो उन्हें कोई गम नहीं ,निधि को आगे करके अजय से अपनी हर मांग पूरी कर लेते थे ,लहगे का आईडिया भी सोनल ने निधि के दिमाग में डाला था,दोनों खुस थे की आज तो जी भर के शोपिंग करेंगे ....तभी निधि बहार निकली और सब उसे बस देखते ही रह गए वो इतनी प्यारी लग रही थी उस ब्लैक स्कर्ट में,उसका दुधिया गोरा मासूम सा चहरा जो अपनी जवानी के उत्कर्ष में था ,काले रंग में और भी खिल के आ रहा था,चहरे की लाली और कौमार्य का तेज, सादगी का श्रृंगार उसकी खूबसूरती को चार चाँद लगा रही थी ,सभी बस उसे आँखे फाडे यु देख रहे थे की निधि भी शर्मा गयी ,उसका शर्माना अजय और विजय के आँखों में पानी ला गया ,अपनी सबसे प्यारी बहन को उन्होंने पहली बार यु बड़े होने के अहसास में देखा था ,निधि हमेशा ही झल्ली जैसे रहा करती थी जिससे उसकी सुन्दरता और उसका यौवन निखरकर बाहर नहीं आता था ,दोनों भाई अनायास ही उसके पास गए और उसके एक एक गालो को चूम लिया ,निधि और भी शर्मा गयी ,अजय और विजय ने उसकी कमर के पीछे से अपने हाथ मिलाये और मुठठी बढ़ कर एक झूले सा तैयार कर दिया वो दोनों निचे बैठ गए ,ये किसी नाटक जैसा हो रहा था निधि को भी समझ नहीं आ रहा था की उसके भाई कर क्या रहे है ,अजय ने उसे इशारा किया की इसपर बैठ जा वो उनके हाथो से बने झूले पर बैठ गयी और उनके कंधो को पकड़ लिया उन्होंने अपनी गुडिया को उठा लिया ,और सोनल और रानी के पास पहुचे अब तक ये सब देखकर दोनों के आँखों में भी आंसू आ चुके थे ,वही निधि अपने भाइयो का अपने लिए प्यार देखकर अपने को रोक नहीं पायी और उसकी आँखों ने सब्र का बांध तोड़ दिया ,वो निचे उतरी और अपने छोटे से हाथो से अपने विशालकाय भाइयो को लपेट लिया ,दोनों उससे लिपट कर उसके सर पर एक किस किया ,सोनल अपने आंसुओ को पोछती हुई बोली,
"अगर ये इमोशनल ड्रामा हो गया हो तो चले बहुत देर हो रही है ,और आप लोग को और भी तो समान खरीदना है ना,हमें तो कपड़ो में और लेडिस के itams में ही रात हो जायेगी ,"सब अलग हुए और अजय ने भी अपने आंसू पोछे जिसे देख कर सोनल और रानी हस पड़े ,उन्हें हसता देख अजय अपने को थोडा सम्हाला और विजय की तरफ देखा जो दबी सी हसी हस रहा था,अजय थोडा असहज होते हुए 
"अब तुझे क्या हुआ "
"भाई आपको रोता देखा तो हसी आ गयी ,कल की बात अलग थी पर आज भी ,ही ही ही "रानी हस पड़ी अजय भी मुस्कुरा दिया 
"तुम लोग क्या मुझे पत्थर समझते हो ,मैं भी इन्सान हु,मेरा भी दिल है,हा पहले की बात अलग थी ,पहले मैं बड़ा था और तुम सब छोटे थे ,लेकिन अब तो मेरी सबसे छोटी बहन भी बड़ी हो गयी है ,अब बड़ा भाई नहीं तुम्हारा दोस्त बनकर रहने का समय आ गया है ,तो अब तक मैं हमेशा अपने जस्बातो को दबाता रहा पर अब ना तुम्हे मुझसे डरने की जरुरत है और ना ही मुझे ,अब मैं भी तुम्हारे साथ हसूंगा तुम्हारे साथ रोया करूँगा ,"अजय का इतना बोलना था की तीनो लडकिय दौड़कर उसके गले लग गई वही विजय दूर से उन्हें देख रहा था ,जब सब उसे छोड़ी तो उसने विजय को देखा वो ऐसे जैसे देख रहा था जैसे वो भी उसके गले लगाना चाहता हो पर कोई तमीज उसे रोके हुई थी ,अजय ने उसे देखा उसकी ओर मुड़ा और अपनी बांहे फैला दि ,विजय की आँखों में आंसुओ की नदी बह गयी वो दौड़ के आया और अजय को ऐसे कस के जकड लिया जैसे कभी छोड़ेगा नहीं ,ये जिंदगी में पहली बार हुआ था जब अजय और विजय गले मिल रहे थे ,अभी तक तो बड़े भाई का मान उनके प्यार पर भरी पड़ जाता था पर आज क्या हुआ था,अजय के मन में वो बाते चल रही थी 
अजय मन में :-"आज मेरे भाई बहन मेरे दोस्त बन गए ,जो जिम्मेदारी मैं एक बड़ा और जिम्मेदार भाई बनकर नहीं निभा पाउँगा वो शायद मैं इनके करीब आकर इनका दोस्त बन कर निभा पाऊ,डॉ ने कहा है की मेरे परिवार पर खतरा है कैसा खतरा ,मेरे परिवार में किसी को आंच नहीं आना चाहिए ,मुझे इनका दोस्त बनना है पर अपनी मर्यादा को भी नहीं भूलना है,मैं आज भी इनका वही बड़ा भाई हु बस थोडा सा खुला हुआ ......"
Reply
12-24-2018, 12:05 AM,
#8
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
बहनों को माल में छोड़ अजय ने उन्हें कपड़ो की लिस्ट पकड़ा दि और अपना कार्ड देने लगा ,
"अरे भईया आप लोग आ जाओ ना फिर पेमेंट कर देना ,आप लोगो के लिए भी तो कपडे लेने है ना "सोनल ने टाइम देखते हुए कहा 
"नहीं बेटा हमें देर हो जाएगी शादी का पूरा समान लेना है ,जो जो गाँव में नहीं मिलेगा ,और फिर उसे अपनी किसी गाड़ी में भरकर भिजवा देंगे फिर आयेंगे,"ठाकुरों का अपनी ट्रेवल एजेंसी थी ,ठाकुर ट्रेवल्स जिसे वीर बाली ने शुरू किया था और अजय विजय ने बढाया था,आज इनके बसे कई जगह चलती थी ,और एक ही कॉम्पिटिटर था जी हा तिवारी ट्रेवल्स ..
"पर भईया हमें और भी देर लगेगी आप चिंता मत करो "निधि हस्ते हुए बोली अजय ने उसे आँखे दिखाई और फिर मुस्कुराता हुआ ओके कहकर वह से निकल गया उसने पीछे अपने साथ आये पहलवानों और बाकि लोगो को वही छोड़ दिया ताकि उन्हें कोई प्राब्लम ना हो ,उन्होंने पूरा समान खरीद कर लोड करा 3-4 घंटे में भेज भी दिया...जब वो माल पहुचे तो शाम के 5 बजे हुए थे , अजय और विजय खुस थे क्योकि वो अब रात तक गाव भी जा सकते थे पर माल पहुचने पर उनके आशा पर पूरी तरह से पानी फिर गया ....
मॉल में घुसते ही उसने देखा की उनके पहलवान किसी आदमी के चारो और हाथ बांधे खड़े है साथ में एक इंस्पेक्टर भी बैठा है वो शख्स अपने सर पर हाथ रखे हुए है ,इंस्पेक्टर ने अजय को पहचान लिया 
"अरे ठाकुर साहब बढ़िया हुआ आप आ गए अब मुझे छुट्टी दीजिये "इंस्पेक्टर को देख अजय और विजय घबरा गए,
"अरे सिंग साहब आप ,क्या हुआ कुछ प्रोब्लम तो नहीं है "इंस्पेक्टर सिंग पहले अजय के ही इलाके में पोस्टेड था और ठाकुरों को अच्छे से जनता था,अजय से ही सिफारिश करा कर उसे पैसे वाले जगह में (शहर में )अपनी पोस्टिंग करायी थी ,अजय आगे बढ़ कर उससे हाथ मिलाता है ,
"अरे कुछ नहीं वो आपकी तीनो देवियों के कारन यहाँ आना पड़ा ,ये जो बैठा है वो यहाँ का मनैंजर है ,उसने ही हमें बुलाया था,वो क्या है निधि बिटिया को एक कपडा पसंद नहीं आया तो उसने उसे फेक दिया इस बात पर यहाँ की सेल्स गर्ल से उसका झगडा हो गया ,निधि को तो आप जानते है ना उसने दो हाथ उसे लगा दिए और उसने मनेजर और बाउंसर को बुला लिया बाउंसरो बिटिया को बाहर जाने कहा और उसने पहलवानों को बुला लिया ,पहलवानों ने बाउंसरो को तो मारा ही तोड़ फोड़ भी चालू कर दि,तो इसने (मनेजर की तरफ उंगली दिखाते हुए )मुझे बुला लिया ,मैंने निधि को समझा लिया और इसे भी पर निधि ने आप को कुछ ना बताने की कसम दे दि और कहा की जब तक आप ना आओ इसे यही बैठे रहने दो और मुझे भी यही बैठा दिया है ,अब उनकी बात तो नहीं टाल सकता ना तो ..."इंस्पेक्टर के चहरे में एक मुस्कान आई वही विजय ने मनेजर को घुर के देखा की उसकी सांसे ही रुक गयी वो कुछ बोलने की हालत में नहीं था,अजय के चहरे पर पहले एक मुस्कान आई फिर उसका चहरा गंभीर हो गया ,
"थैंकस थैंकयु सो मच सिंग साहब ,ये लडकिय ना ..."अजय एक गहरी साँस लेता है 
"ओके आप को तकलीफ हुई इसके लिए माफ़ करे ,थैंक्स "
"अरे ठाकुर साहब आप भी क्यों हमें जलील कर रहे है,हम तो आपके सेवक है "अजय इंस्पेक्टर के हाथो को पकड़कर उसे माफ़ी मांगता है और धन्यवाद देता है इंस्पेक्टर के जाने के बाद पहलवानों को इशारे से जाने को कहता है ,और मेनेजर के पास जाकर हाथ जोड़ लेता है जो की विजय को बिलकुल भी पसंद नहीं आता ,
"माफ़ कीजिये सर मेरी बहनों के कारण आपको तकलीफ हुई ,"मनेजर उठ कर लगभग उसके पैर पकड़ने की मुद्रा में बोला ,
"नहीं नहीं सर मुझसे गलती हो गयी की मेडम को परेशानी हुई सॉरी ,मुझे पता नहीं था की वो कौन है ,मैंने उस लड़की को भी निकल दिया है सर काम से "उसने हाथ जोड़ते हुए अजय से कहा विजय उसे ऊपर से निचे तक देखा 
"साले तुझे अभी भी नहीं पता की वो कोण है नहीं तो तेरी पैन्र्ट अभी तक गीली हो जाती "अजय ने घूरकर उसे देखा विजय को अपनी गलती का अहसास हुआ और वो चुप हो गया ,
"उस लड़की को बुलाओ जिसको निधि ने मारा था "मेनेजर ने तुरंत 'जी सर' कहते हुए फोन घुमाया और 10 मिनट में ही वो लड़की उनके सामने थी,अजय ने उसे धयान से देखा ,माल का ही ड्रेस(लाल रंग की टी शर्ट और जीन्स) पहने वो पतली दुबली सवाली सी लड़की अपने सर को झुकाय खड़ी थी,उसके चहरे से ही आभाव और गरीबी झलक रही थी ,7-8 हजार महीने की तनख्वाह के लिए उसे इतना जलील होना पड़ा था,जितना वो महीने भर में अपने खून पसीने से कमाती थी उतना तो यहाँ आने वाले एक दिन में उड़ा कर चले जाते थे ,फिर भी अपने आत्मसम्मान के लिए उसने झगडा कर लिया पता नहीं अब उसकी नौकरी रहे या ना रहे ,
गरीबो का कोई आत्मसम्मान नहीं होता ये उसकी माँ उसे कहा करती थी ,और सेल्स वालो का तो होता ही नहीं ये उसका मनेजर,, फिर भी उसने झगडा किया ,
अजय के पास आते ही उसकी पर्सनाल्टी और रौब देखकर उसे ये तो समझ आ चूका था की किसी बड़े आदमी से पंगा हो गया है,वो कपने लगी जिसे देखकर अजय को बहुत ही बुरा लगा ,उसने अपने हाथ बढ़ाते हुए उसके कंधो पर रखा वो सिहर उठी थी,
"तुम्हारा क्या नाम है बहन "बहन उस लड़की ने अपना चहरा उठाया अजय की आँखों में उसके लिए गुस्सा नहीं दया और प्रेम दिखाई दिया इतने देर से मन में चल रही शंकाओ का एक प्यार भरे शब्द ने निराकरण कर दिया था ,जो शख्स एक अदन सी लड़की को इतने प्यार से बहन पुकार सकता है वो गलत तो नहीं हो सकता ना ही क्रूर उसका मुरझाया चहरा खिला तो अजय को भी थोडा शकुन आया ...
"जी सर वो सुमन "अजय ने उसे देखा पता नहीं क्यों वो लड़की उसके दिल को कही छू गयी थी ,अजय बहुत ही संवेदनशील था जो उसकी कमजोरी और ताकत दोनों थी,
"अच्छा चलो मेरे साथ ,और आप भी "अजय ने मनेजर को कहा सभी वह चलने लगे जहा तीनो देविया खरीदी कर रही थी ,वो एक बड़ा सा किसी डिजायनर ब्रांड का शाप था,पुरे माल में इन तीनो की दहशत सी हो गयी थी वो जहा भी जाती उस शॉप का मनेजर खुद आ कर उन्हें अटेंड करता ,अपने भाइयो को आता देख निधि दौड़कर आई और अजय के गले लग गयी उसके हाथो में एक लहंगा था ,जो बहुत ही महंगा लग रहा रहा था ,निधि जब उस लहंगे को घसीटते हुए भागी तो सभी कर्मचारियों के दिल से एक चीख निकली लेकिन दिल में ही दब गयी ,
"भईया देखो ये कैसा है "अजय ने उसे अपने से दूर किया 
"वो सब छोड़ पहले ,इससे माफ़ी मांग ,"अजय ने सुमन के तरफ इशारा करते हुए कहा 
निधि उसे देख कर नाक मुह सिकोड़ ली पर सामने अजय था ,वो हिली तो नहीं पर कुछ बोली भी नहीं ,अजय ने सुमन को आगे किया सभी की सांसे रुकी हुई थी की क्या होने वाला है ,अजय ने वही खड़े एक सेल्समेन को बुलाया और निधि जिस लहंगे को पकडे थी उसके तरफ इशारा करते हुए कहा ,
"इस लहंगे का रेट कितना है "
:सर 15 हजार "
"ओके, निधि मेरी बात धयान से सुनना तुम अपने लिए 15 हजार के कोई 3-4 लहंगे लेने वाली हो जिसे तुम सिर्फ रेणुका की शादी में पहनोगी या शायद उसके बाद कभी कभी "अजय सुमन की तरफ मुड़ता है ,
"तुम्हारी सेलरी कितनी है ,"
"सर 7 हजार "
"बस या और कुछ "
"सर इंसेंटिव मिलता है,कुछ बेचने पर महीने का टोटल 10-12 तक पहुच जाता है "
"कितने लोग है तुम्हारे घर में "
"सर माँ है और एक छोटा भाई है "
"क्या करती है माँ और भाई "
"सर माँ कुछ नहीं करती वो बीमार रहती है ,और भाई अभी पढ़ाई कर रहा है ,"
"तो तुम इतने कम पैसे में ही पुरे घर का खर्च चलती हो ,और अपनी माँ का इलाज और भाई की पढ़ाई भी "
"जी सर "सुमन की नजरे अभी भी निचे ही थी 
"जितना तुम 5 महीने में कमाती हो उतने की मेरी बहन अपने लिए सिर्फ लहंगा ले के जा रही है,फिर भी तुमने इससे लड़ाई क्यों की "सुमन के आँखों में आंसू था पर वो सर झुकाय ही थी 
"बोलो जो पूछ रहा हु"अजय ने थोड़ी उची आवाज में कहा 
"सर मैंने कोई लड़ाई नहीं की मैंने तो बस मेडम को समझाया की कपडे को ऐसे मत फेके ,सर इतना महंगा कपडा होता है अगर फट जाय तो हमारी सैलरी से कट जाएगा ,उतनी तो हमारी सेलरी भी नहीं होती ,अगर मुझे सेलरी नहीं मिली तो मेरे घर वाले खायेंगे क्या ,लेकिन मेडम गुस्से में आ गयी और मुझे मार दिया ,"सुमन सिसकने लगी अजय ने अपना हाथ बढाया और उसके कंधे पर अपना हाथ रखा ,वो निधि की तरफ घुमा 
"निधि तुम इससे माफ़ी मांगना चाहो या नहीं तुम्हारा डिसीजन है,पर तुम्हारे कारन इसे जॉब से भी निकल दिया गया है ,हा ये गरीब है पर इनका भी आत्मसम्मान है ,ये भी इन्सान है और इन्सान को इन्सान की इज्जत करनी चाहिए ,वरना हममे और जानवरों में फर्क ही क्या रह जायेगा ,"निधि की आँखों में पानी आ चूका था ,उसे अपनी गलती का अहसास हो चूका था ,वो आगे बड़ी और सुमन को अपने गले से लगा ली और बच्चो जैसे पुचकारने लगी ,
"सॉरी बहन मुझे माफ़ कर दे ,"वो उसे ऐसे मना रही थी जैसे बच्चे एक दुसरे को मानते है ये देखकर सभी के चहरे में स्माइल आ गयी ,मनेजर और कर्मचारियों ने चैन की साँस ली और सुमन भी उसके मानाने और प्यारी बातो से हस पड़ी ,लेकिन निधि ने फिर एक तीर छोड़ दिया 
"मनेजर अंकल आप इसे जॉब से नहीं निकालेंगे "मनेजर ने हां में सर हिलाया 
"और भईया मुझे ये माल बहुत पसंद आया ,इसे खरीद लो ना ,"सब फिर आँखे फाडे उसे देखने लगे,और निधि सुमन को अपने साथ ले गयी कपडे की चोइस कराने लेकिन अजय और विजय के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी ,विजय ने अजय की ओर देखा 
"भईया ऐसे भी खरीदने की सोच ही रहे थे गुडिया का दिल भी रख लेते है और अपना काम भी हो जाएगा कोई दूसरा क्यों यही ले लेते है "अजय मेनेजर की तरफ मुड़ता है ,
"किसका है ये माल और कहा रहता है "मनेजर भी उन्हें आँखे फाडे देख रहा था
"सर ये सिंघानिया साहब का है ,मुंबई में रहते है "
"विवेक सिंघानिया "
"जी सर उन्ही का "
"ठीक है विवेक सर तो हमारे खास आदमी है ,उनसे मैं बात कर लूँगा "मनेजर हाथ जोड़ कर खड़ा रहता है उसके दिमाग में विजय की बात गुज रही थी ("साले तुझे अभी भी नहीं पता की वो कोण है नहीं तो तेरी पैन्र्ट अभी तक गीली हो जाती ").....................
Reply
12-24-2018, 12:05 AM,
#9
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
शहर के कमरे के का र्रूम अजय आज अपनी सोच में डूबा था और खाना खा कर सीधे रूम में आ गया ,निधि और रानी अपने कमरे में ख़रीदे हुए कपड़ो में बीजी थे वही सोनल विजय के साथ हाल के एक कोने में रखे सोफे पर लेती थी ,वो विजय के गोद में अपना सर रख कर लेटी हुई थी और विजय उसके बालो को सहला रहा था ,यार आज डॉ चुतिया के पास गए थे ने क्या हुआ वहा,
क्लिनिक की बारे में सोचकर उसे मेरी की याद आ जाती है,और उसके चहरे पर एक मुस्कान खिल जाती है,जिसे सोनल भाप जाती है,क्या हुआ मेरे हीरो क्यों मुस्कुरा रहा है ,
"अरे यार क्या बताऊ,उसकी सेकेटरी मेरी वाह "सोनल ने उसे आश्चर्य से देखा 
"क्या वाह कर रहा है,तेरे जैसे कमीने सिर्फ एक चीज के लिए लडकियों को देखते है,"विजय सोनल को घुर के देखता है जो हलके हलके मुस्कुरा रही थी,
"बहुत बात करने लगी है तू,(थोड़ी देर रूककर )ऐसे सच भी है,लेकीन आज तो मजा ही आ गया ,"विजय एक अगड़ाई लेते हुए कहा ,सोनल को समझ तो आ गया था की उसका कमीना भाई क्यों कुछ तो कर के आया होगा ,उसने आँखों से इशारा किया क्या हुआ 
विजय हसता हुआ उसे सारी बाते बताता गया और सोनल मुह खोल के उसकी करतूत सुनती रही ,जब उसे पता चला की विजय के साथ KLPD हो गया तो वो जोर जोर से हसने लगी की उसका पेट दुखने लगा,वो सोफे एस गिरते गिरते बची वही विजय बुरा सा मुह बनाया हुआ था ,जब सोनल का हसना थोडा कम हुआ तो उसने विजय के मुह को अपने हाथो से दबाया ,
"कोई बात नहीं भाई उसकी भी ले लेना ,ऐसे उसने तुझसे वादा किया है तो निभाएगी ही ना,ऐसे उसका नाम सुनकर तेरा शेरखान बिलकुल तन गया है ,"सोनल फिर से हसने लगी ,विजय का डंडा खड़ा होकर सोनल के सर को चुभ रहा था,विजय थोडा असहज हो गया पर सोनल के हसने पर उसे थोड़ी रहत मिली ,उसने सोनल के गालो पर एक चपत मारी 
"अपने भाई से ऐसा मजाक करती है,"सोनल उसे घूरती है 
"भाई ,वाह रे मेरे भाई,तुझे बताने में और करने में तो शर्म नहीं आई अब तू भाई बन रहा है साले"विजय और सोनल दोनों मुस्कुरा पड़े ,विजय सोनल को धयन से देखता है,माथे पर लगा छोटा सा टिका जो उसके गोरे मुखड़े को प्यारा बना रहा था,वो एक ढ़ीले से टी शर्ट और बोक्सर में थी जो उसके घुटनों के ऊपर था ,कपड़ो के ढीले पण के बावजूद उसके कटाव साफ़ दिख रहे थे,उसके छातिके उन्नत पहाड़ विजय की कोहनी से हलके रगड़ खा रहे थे ,जिसका आभास दोनों को ही नहीं था ,वासना का कोई नामो निशान उनके बीच नहीं था ,पर विजय उसकी सुन्दरता में खो गया था और सोनल भी अपने भाई की मर्दाना छाती में उगे बालो को अपने हाथो से सहला रही थी ,उसे तो सिर्फ उसके भाई ही मर्द लगते थे बाकी लडको में वो ,वो वाली बात ही नहीं पाती थी ,
"क्या देख रहा है भाई,"सोनल धीरे से कह पायी 
"बस देख रहा हु मेरी बहन कितनी सुन्दर है,"
"झुटा कही का ,तेरी itams से जादा सुंदर थोड़ी होंगी तेरी बहने "विजय उसे अपने बाजुओ में भरकर अपने सर को निचे उसके चहरे के पास लाता है ,
"दुनिया में कोई ऐसी लड़की नहीं है जो मेरी बहनों से सुंदर हो ," विजय सोनल के गालो पर अपने होठो को रख देता है ,लेकिन हटाता नहीं और अपनी थूक से उसे गिला कर देता है,सोनल के चहरे पर एक मुस्कान खिल जाती है और वो अपनी बाजुओ को विजय के गले में डाल लेती है और अपनी ओर खिचती है ,विजय उठाकर उसे देखता है ,सोनल की प्यारी मुस्कराहट में वो खो जाता है ,
"भाई आई रेली लव यु ,तू हमेशा मुझे ऐसे ही प्यार करेगा ना ,"विजय सोनल के नाक से अपनी नाक रगड़ता है ,
"कोई शक"सोनल हस पड़ती है और उसे अपनी बांहों में भर लेती है ,थोड़ी देर में दोनों उठकर अपने रूम में जाते है वह निधि और रानी अब भी कपड़ो को लेकर ही बाते कर रही होती है निधि अभी भी वही सुबह वाला स्कर्ट पहने बैठी थी ,विजय पीछे से जाकर उसे कस कर पकड़ लेता है,
"क्या मेरी खरगोश तुझे सोना नहीं है क्या,"सब उसे प्यार से खरगोश बुलाया करते थे ,निधि उसकी बांहों में मचल कर अपना सर उठा कर उसके गले को किस कर लेती है,ये देख कर रानी की आँखों में आंसू आ जाता है ,
"क्या हुआ दीदी "
"मुझे किशन की बहुत याद आ रही है ,हम सब यहाँ साथ है और वो वहा अकेला ,"
"कोई बात नहीं दीदी कल तो जा ही रहे है ना ,"
"हा और तू फिकर मत कर वहा उसका ख्याल रखने के लिए लाली है ना,"सोनल की बात से रानी रोना बंद कर उसे मार देती है वही सोनल और विजय हसने लगते है ,लाली किशन की पर्मनेट वाली जुगाड़ थी ,(जुगाड़ ही कहूँगा क्योकि गर्ल फ्रेंड कहना गलत होगा ),निधि सब को हस्ते हुए देखकर सबका मुह देखने लगी उसे ये बात समझ नहीं आया की लाली दीदी किशन भईया का धयान कैसे रखेंगी ,आखिर उसने विजय से पूछ ही लिया ,,विजय मुस्कुरा कर उसके गालो में किस कर लिया 
"कुछ नहीं मेरी खरगोश चल रात हो चुकी है तू सो जा ,कहा सोएगी "
"अरे ये तो भईया की चमची है वही सोयेगी उनके साथ "
"मुझे भईया बिना नींद नहीं आती समझी "निधि ने अपना बुरा सा चाहरा बनाते हुए कहा ,जिसपर सभी हस पड़े 
"तो शादी के बाद क्या करेगी जब अपने पति के साथ सोना पड़ेगा "
"भाग जाओ मुझे नहीं करना शादी वादी आप कर लेना ,मैं नहीं छोड़ने वाली अपने भाइयो को"निधि की प्यारी बातो ने सभी के चहरे पर फिर से एक मुस्कान खिला दिया और वो सभी के गालो में किस करके वह से अजय के रूम चली गयी .....

अजय अपने ही सोच में गुम बिस्तर में शून्य को निहारते बैठा था,वो अपने माँ बाप के कातिलो के बारे में सोच रहा था ,की अगर तिवारी नहीं तो और कौन और कैसे पता लगाया जाय ,और क्या करने वाले है .....या क्या कर सकते है ,
अपनी सोच में घूम अजय को पता ही नहीं लगा की निधि कब उसके कमरे में आई ,अजय का बस एक छोटी निकर में लेटा था निधि ने कमरा बंद किया और अजय के पास जाकर खड़ी हो गयी ,तभी अजय के दिमाग ने उससे कहा की अपनी बहनों का सोच की इस लड़ाई में तू उनकी रक्षा कैसे करेगा उसे सबसे पहला ख्याल निधि का ही आया ,निशि उसकी जान ,निधि,
निधि का चहरा उसके सामने आ गया वो अपनी प्यारी बहन के लिए तड़फ गया ,क्या उस मुसीबत का साया निधि पर भी पड़ सकता है,नहीं मैं उसे कुछ नहीं होने दूंगा,वो मेरी जान है अपनी जान देकर भी उसे आच नहीं आने दूंगा ,अजय की आँखों में अनायास ही आसू की बुँदे छलक पड़ी जो निधि ने देख लिया ,वो अजय के इस हाल से व्यथित हो गयी ,वो अजय के सामने जाकर बैठ गयी अजय की नजर जैसे ही उसपर पड़ी उसने उसके गालो को अपने हाथो से छुआ उसे अब भी ये एक सपना ही लग रहा था,निधि हलके से मुस्कुराई,उसने उसके गले में अपने हाथ डाल कर अपनी ओर खीच लिया ,निधि किसी गुडिया सी जाकर अजय के बांहों में समां गयी ,
"मेरी जान जब तक मैं हु तुझे कुछ नहीं होने दूंगा ,मैं अपनी जान भी तुझपर कुर्बान कर दूंगा मेरी बहन,मेरी जान "अजय रोने लगा निधि को कुछ समझ नहीं आ रहा था की भईया ये क्या बोल रहे है,वो अजय को जकड कर उसके सीने में छुप गयी अजय ने भी उसे कसकर जकड़ा,और उसे सहलाने लगा ,अजय को ये अजीब लग रहा था की वो सपने में भी उसे इतना कैसे फील कर पा रहा है ,उसने अपने को झटका और निधि को अपने से अलग किया,निधि के चहरे पर उदासी थी और आँखों में पानी ,
"क्या हुआ मेरी जान "उसने निधि के गालो को सहलाते हुए कहा ,
"आप रो क्यों रहे हो ,"निधि के प्यारे से बोल ने अजय के चहरे पर मुस्कान ला दि ,
"कुछ नहीं तू नहीं थी ना मेरे पास इसलिए ,"
"अब तो हु ना ,"निधि उसके आंसुओ को अपने होठो से पि गयी और फिर उसकी बांहों में समां गयी ,अजय ने उसे फील किया आज वो स्कर्ट पहने थी ,
"निधि ये सपना है या सच ,"निधि हलके से हस पड़ी 
"ही ही ही क्यों क्या हुआ ,"
"रोज तो तू,nighty या टी शर्ट पहनती है और आज ये स्कर्ट और रोज तो तू अंदर कुछ नहीं पहनती और आज तो तूने पहना है "अजय का हाथ उसके कुलहो पर था ,वो उसकी पेंटी को छूते हुए बोला ,जिससे निधि खिलखिला कर हस पड़ी ,
अजय स्तब्ध सा उसे देख रहा था ,
"क्या भईया अभी तो दीदी के रूम से आ रही हु,आप भी ना पता नहीं कहा गम हो ,चलो चेंज करके आती हु आज नयी nighty लायी हु देख के बताना कैसी है ,"निधि वह से उठ गयी ,उस भोली बच्ची को तो अजय की बात से कोई फर्क नहीं पड़ा पर अजय जरुर असहज हो गया,ये क्या बोल गया मैं,यानि वो सच में मेरे सामने थी ,उसने उठकर एक गिलास पानी पिया सामने देखा तो निधि उसके सामने ही कपडे बदल रही थी वो एक आइने के सामने सिर्फ अपने अंतःवस्त्रो में थी और फिर वो उसे भी उतारकर अपनी नयी nighty पहनने लगती है ,
ऐसे तो अजय निधि को बचपन से ही बिना कपड़ो के देख रहा था,पर आज कुछ हुआ ,कुछ ऐसा जिसे अजय भी नहीं समझ पा रहा था,वो अपनी बहन के बदन से नजरे नहीं हटा पा रहा था,क्या शारीर दिया था बनाने वाले ने निधि को बिलकुल साचे में ढला हुआ,गोरा बदन की छू दो तो गन्दा हो जाय,तरसा हुआ संगमरमरी उसके नव यौवन से उन्नत वक्ष ,जो अपनी पूरी गोलियों में थे ,और दर्पण से भी साफ़ झलक रहे थे ,निचे उसका सपाट पेट और गहरी नाभि ,फिर एक पर्वत सा गोलाई लिए कमर का निचला हिस्सा ,दर्पण से उसके जन्घो के बीच का जंगल दिख रहा था ,और केले के ताने से उसके सुडोल जंघा,वाह कुदरत ने भी बड़े प्यार से बनाया था,
अजय बिलकुल ही निर्दोष और मासूम निगाहों से निधि को घुर रहा था पर जब निधि अपनी झीनी सी काले रंग की nighty जो उसके एडी से कही ऊपर थी और निताम्भो को बस ढक पाने में समर्थ थी ,उसके उजोर दो पतले से धागे सम्हाले हुए थे ,लेकिन पर्दारसी होने के कारन पूरा शारीर हो दिख रहा था,निधि अजय को घूरता देख शर्मा गयी और अपनी निगाहे निचे कर ली ,अजय ने अपने हाथो से उसे अपने पास आने का इशारा किया पर वो हया की मूर्ति सी बस लाज की घूँघट ओढे सर झुकाय कड़ी थी ,अजय मुस्कुराता हुआ उसे देखने लगा ,शर्माती हुई उसकी बहन और भी प्यारी लग रही थी वो उठा और उसके पास आकर उसे पीछे से जकड लिया ,
"मेरी बहन शरमाने लगी है "दोनों के जिस्म की गर्मी ने उन्हें एक मादक अहसास दिया जिससे निधि के मुह से अनायास ही आह निकल पड़ा ,
"आप ऐसे घुरोगे तो शर्माऊगी ही ना ,क्यों घुर रहे थे ऐसे ,"निधि अपना सर उठा कर अजय को देखती है ,और अजय अपने होठो को उसकी आँखों में रख देता है,
"क्योकि मेरी प्यारी बहना रानी आज बहुत ही प्यारी लग रही है ,"निधि ने अपनी आँखे बंद कर ली और अपने भाई के प्यार में खो गयी,अजय के होठो को अपने आखो में महसूस करके वो शांत हो गयी और अपने होठो को ऊपर उठाया और एडी को ऊपर उठाकर उसने अजय के होठो पर के चुम्मन रसीद कर दि ,अजय ने भी अपने बहन को मुस्कुराते हुए पलटा और उसे अपने मजबूत हाथो से उठा कर अपनी बांहों में ले लिया ,वो चलता हुआ बिस्तर पर जाकर बड़े ही प्यार से उसे वह लिटाया और उसके बाजु में आकर लेट गया,निधि उसकी ओर पलट कर उसके छाती के बालो से खेलने लगी ,अजय उसके सर में अपना हाथ फिरता हुआ अपनी बहन के प्यार को महसूस करने लगा ,
"भईया वो सुमन है ना ,माल वाली लड़की .उसे मैं अपने साथ रखूंगी ,उसे मैंने गाव बुला लिया है और वो कल हमारे साथ ही जाएगी ,भईया क्या आप उसकी माँ और भाई का खर्च उठाओगे "अजय निधि के दिल को जानता था ,वो बड़ी ही मासूम और नर्म दिल की थी बस कभी कभी उसका बचपना भारी हो जाता था और अजय के लाड प्यार की वजह से जिद्दी हो गयी थी ,
Reply
12-24-2018, 12:05 AM,
#10
RE: Nangi Sex Kahani जुनून (प्यार या हवस)
"हा बिलकुल ऐसे भी वहा तू अकेली हो जाती है ,कुसुम पढ़ी लिखी भी लगती है उसे हम तुम्हारे साथ कॉलेज में दाखिला भी दिला देंगे और उसका और उसके परिवार का पूरा खर्च उठायेगे "निधि उछल पड़ी और अजय के चहरे को किस करने लगी वो उसके पुरे चहरे को भिगो दि,अजय हसता रहा ,
"चलो बहुत हुआ प्यार अब सो जाओ कल सुबह जल्दी उठकर तैयार होना है ,और जल्दी से गाव जाना है,"निधि ने लास्ट किस उसके होठो पर दि और उसके सीने से लगकर सोने लगी ...

सुबह ही सब तैयार होकर चलने को हुए ,सुबह से सुमन भी अपना समान पकड़कर आ चुकी थी,आ उसने एक हलके रंग का सलवार कमीज पहने था,उसके कपड़ो से ही उसके असली आर्थिक हालत का पता चल रहा था,लेकिन निधि को वो बिलकुल भी पसंद नहीं आया उसने तुरंत उसे अपने कमरे में ले जाकर अपने कपडे पहनने को दे दिया ,एक जीन्स और कमीज में अब उसका रूप कुछ खिलने लगा था,सब गाव के लिए निकल पड़े,गाव में उनका स्वागत करने को पूरा घर मौजूद था ,सिवाय उनके चंपा चाची के,निधि में सबको सुमन से मिलवाया ,रानी दौड़कर किशन के गले लग गयी वही सोनल सीधे बाली चाचा के तरफ भागी,अपनी बच्चियों को देखकर बाली भी बहुत खुस था,किशन को रानी छोड़ ही नहीं रही थी,सोनल उसके पास पहुच कर उसके गले से लग गयी,रानी ने भी अपने आशु पोछे और और किशन ने भी ,सोनल ने धीरे से पूछा ,
"और मेरे भाई ,लाली भाभी कैसी है,"किशन का चहरा लाल हो गया,
"क्या दीदी आप भी ना सबके सामने ,वो तो खड़ी है देख लो ना,"रानी और सोनल खिलखिला पड़े और सीता मौसी की तरफ बढे,मौसी ने बड़े ही प्यार से दोनों को दुलारा,और अजय को देखते हुई बोली 
"रेणुका की तो शादी कर दिया तूने अब तेरी दोनों जवान बहनों का भी कुछ सोच ,इनके भी हाथ पीले कर दे अगले साल "रानी और सोनल ने बुरा सा मुह बनाया वही मौसी और अजय हस पड़े...
"मौसी इन्हें पड़ने दो जितना पड़ना चाहे फिर तो शादी करना ही है ,हम तो नहीं पढ़ पाए पर अपनी बहनों को तो खूब पढ़ाउंगा ,"दोनों लडकिय अजय से आकर चिपक गयी ,
"देख कही जादा पड़कर वही शादी ना कर ले "मौसी ने दोनों को चिढाते हुए कहा 
"इनका भाई अभी मारा नहीं है ,जो इन्हें भाग के शादी करना पड़े ,मेरी बहने जिसे पसंद करेगी इनकी शादी उनसे ही करूँगा,अपने आप को बेच दूंगा पर अपनी बहनों के लिए हर खुसी ला के दूंगा,"अजय जैसे खुद से बात कर रहा था,दोनों उसके चहरे को देखने लगे वही मौसी के चहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान घिर गयी ,और रानी और सोनल की आँखों में अपने भाई का प्यार देखकर पानी आ गया ,उन्होंने अपनी एडी उची की और एक प्यार भरी पप्पी अजय के गालो में दि ...
"चढ़ा ले इन्हें भी ,एक तेरी छोटी है ,इतना चढ़ा के रखा है,"मौसी ने प्यार से अजय को देखते हुए कहा ,अजय ने निधि की और देखा वो सुमन को घर दिखा रही थी और नौकरों को उसके रूम तैयार करने को कह रही थी ,सुमन बेचारी को अपने भाग्य पर जैसे विश्वास ही नहीं हो रहा था,जो लड़की उसे गलिया देकर मार रही थी उसके कारन उसकी जिन्दगी सवर गयी ,वो निधि को बड़े ही प्यार और सम्मान से देख रही थी,जिसे वो उसके लिए भगवन हो,वही किशन की नजरो को विजय ने पढ़ लिया जो सुमन को देखे जा रहा था,विजय उसके पास जाकर बोला,
"सोचना भी मत साले ,निधि और भईया का हाथ है उसपर,"किशन के चहरे पर एक कातिल मुस्कान खिल गयी ,
"अच्छा इसलिए आप अभी तक पीछे हो "विजय भी हस पड़ा 
"अरे यार इतनी तो लडकिय छानी है हमने एक नहीं सही ,"
"ह्म्म्म बात तो सही है भईया पर इस लड़की में कुछ तो बात है ,"विजय उसे घूरता है 
"क्या बात है बे हवसी ,लाली से जादा खुबसूरत है क्या,बेचारी सवाली सी दुबली पतली है "
"भईया ये थोड़ी तैयार हो जाए और आँखों में काजल लगा ले ना तो देखना आप भी दीवाने हो जाओगे"विजय हँसाने लगा
"तुझे ही मुबारक हो ऐसी कलि मैं तो खिले हुए फूलो को भी रुला देता हु ये तो मर जायेगी ,"किशन विजय की ओर देखता है ,
"ह्म्म्म तो मैं इसे खाऊंगा ,लेकिन थोडा आराम से रिस्क जादा है निधि को पता चला तो मार डालेगी .."दोनों हसने लगे..
रानी किशन के पास पहुचती है ,
"भाई माँ कहा है ,"
"होगी अपने कोपभवन में ,इस घर में कुछ ख़ुशी हो तो उन्हें ही सबसे जादा तकलीफ होती है ना "किशन छिड़ते हुए कहता है,रानी के आँखों में आंसू आ जाता है ,
"भाई ऐसा मत बोल ,आपके और मेरे सिवा उनका है ही कोण इस दुनिया में ,"सोनल भी पास आ जाती है ,वो समझ चुकी थी की रानी क्यों दुखी है ...
"चल रानी चाची से मिलकर आते है ,"सोनल ने उसके कंधे पर हाथ रखा ,रानी उसके सीने से लग के रोने लगी विजय भी ये सब देख कर उनके पास पहुचता है ,वो रानी के कंधे पर हाथ रखता है ,
"देखो भले ही चची हमारे बारे में जो भी सोचे पर हमारे लिए तो वो माँ जैसी है है ना ,"विजय बोलता चला गया 
"पहले इस घर में जो हुआ वो हुआ पर अब हम सबको मिलकर उन्हें फिर से हसना होगा ,हम सब यहाँ खुसिया मनाये और हमारी माँ वह अकेली बैठी रहे ये कैसे हो सकता है,"
"पर भईया आप तो जानते हो माँ की आदत वो इस घर की खुशियों में कभी सरिक नहीं होती ,पापा तो उनसे बात भी नहीं करते वो अकेले ,"किशन बोलते हुए थोडा उदास सा हो गया,
"अब नहीं मेरे भाई हम सब की मिलकर उन्हें मनाना चाहिए ,चाचा उन्हें नहीं माफ कर पाए पर अजय भईया ने उन्हें हमेशा ही अपनी माँ माना है ,और अब चाची को हम फिर से अपने परिवार का हिस्सा बनायेंगे,"सोनल ने चहकते हुए कहा की सभी को उम्मीद की एक किरण दिखने लगी सभी चंपा के कमरे की तरफ जाने लगे ,
रानी और किशन कमरे में जाते है वही सोनल और विजय बाहर ही रुक जाते है ,दोनों को देखकर चंपा उछल पड़ी और दौड़कर रानी को अपने सीने से लगाकर रोने लगी ,
"मेरी बच्ची तू आ गयी "
"हा माँ और आप निचे क्यों नहीं आई सब लोग थे बस आप नहीं थी "चंपा के आँखों में पानी आ गया और उसका गला भर सा गया था,वो थोड़ी देर तक बस चुप ही रही ,फिर बड़ी मेहनत करके कुछ बोल पायी ,
"बेटी मैं वहा आकर सबकी ख़ुशी ख़राब नहीं करना चाहती थी ,"सोनल और किशन कमरे में आते है ,जिसे देख कर चंपा थोड़ी असहज सी हो जाती है ,
"आपको किसने कहा की आपके आने से किसी को तकलीफ होगी ,बल्कि आपके आने से तो हमें ख़ुशी होती ,आप भी तो हमारी माँ है ना "अब तक सोनल के आँखों में भी पानी आ चूका था,चंपा अपना सर निचे किये थी और कोई भी जवाब नहीं दे रही थी,विजय ने आगे बड़ते हुए चंपा के हाथो को थाम लिया ,
"चाची हम बचपन से ही माँ के प्यार के लिए तरसे है ,बाप का प्यार तो हमें बाली चाचा और अजय भईया ने दिया है ,पर क्या हम आपके बच्चे नहीं है ,सालो पहले जो हुआ वो बस हादसा था,उसकी अपने आपको और हमें इतनी बड़ी सजा मत दीजिये ,आप हमारी माँ है चाची ,"चंपा नज़ारे निचे किये हुए रो रही थी ,जिस परिवार को उसने आजतक इतनी नफरत दि थी वही उसे इतना प्यार करता है चंपा ने कभी सोचा ही नहीं था,जब से अजय ने उसकी जान बचायी थी वो अंदर से पश्चाताप में जल रही थी ,लेकिन वो कभी भी ये किसी से नहीं कह पायी थी ,,बाली आज भी उससे उतनी ही नफरत करता था जीतनी वो पहले किया करता था,इधर सोनल और विजय भी रोने लगे थे किसे पता था की इस विशाल देह में भी एक मासूम सा धडकता दिल है ,चंपा से अब रहा नहीं गया वो मुड़ी और जाने को हुई लेकिन उसी समय किसी ने उसके पैरो को जकड लिया एक सुबकी सी उसके कानो को सुनाई दि ....उसने बिना निचे देखे ही खुद को आगे धकेला पर वो मजबूत हाथ थे जिसके कारन वो हिल भी नहीं पा रही थी ,उसने मजबूर होकर निचे देखा तो उसका मुह खुला का खुला रह गया ...अजय उसके पैरो को पकड़ा र्रो रहा था ,चंपा ने कभी इसकी कल्पना भी नहीं की थी ,हुआ ये की अजय ने जब सबको जाते देखा तो वो भी धीरे से उनके पीछे चल दिया उनकी बाते सुनकर उससे रहा नहीं गया और वो अंदर आकर चंपा के पैरो को पकड़ लिया,
"चाची क्या हमसे कोई गलती हुई है जिसके वजह से आप हमसे दूर रहती है ,क्या हमें आपके प्यार पाने का कोई हक़ नहीं है ,"ये चंपा के लिए बहुत ही जादा था उसके सब्र का बांध अब टूट ही गया वो फफक कर रो पड़ी और अजय को उठा कर उसे अपने सीने से लगा लिया ,
"नहीं अजय मैं तुम्हारी गुनाहगार हु,मेरी वजह से ही भईया भाभी की मौत हुई है ,मैंने ही तुम्हारे चाचा को उनके भाई से अलग किया ,पूरी गलती मेरी है मेरे बेटे ,मैं माफ़ी के काबिल नहीं हु,वीर भईया तो भगवान थे जिन्होंने मुझ जैसी लड़की को इस घर की बहु बनाया पर मैंने क्या किया इस घर को तोड़ने की कोशिश की ,अगर मैं ना होती तो शायद भईया भाभी जिन्दा होते और इसपर भी तुमने मेरी जान बचाई ,तुम भी वीर भईया जैसे हो मेरे बेटे और मैं अब तुम्हारी खुशियों में नहीं आना चाहती ,"चंपा अजय को ऐसे गले लगायी थी जैसे जन्म की प्यासी को ,जैसे कई जन्मो से इसी पल का इन्तजार था ,आज वो अपने गुनाहों की माफ़ी मांग रही थी जो वो हमेशा मांगना चाहती थी ,अजय उससे अलग हुआ और उसके चहरे को अपने हाथो में थाम लिया उसने बड़े प्यार से उसे देखा,
"चाची जो भी हुआ वो तो हो चूका है ,अब हम नयी सुरुवात करते है ,आप हमारी माँ है और हमारे खुशियों और दुःख में सरिक कोने का आपको पूरा हक़ है ,हम सब यही चाहते है की आपके चहरे में फिर से एक मुस्कान आ जाय,"चंपा के चहरे में एक मुस्कान फैली वो कोई सामान्य मुस्कान नहीं थी ,बहुत ही दर्द के बाद जेहन से आई थी ,उसमे ममता भी था और पश्चाताप भी ,उसमे दर्द भी थी और खुसी भी ,चंपा ने अजय के माथे को चूम लिया ,उसके नयना अब भी धार बहा रहे थे..बाकि सभी बच्चे भी आकर उनसे लिपट गए ,थोड़े इमोशनल ड्रामे के बाद सब अलग हुए और अपने कमरों में गए ,...

सभी लोग बस शादी की तैयारियों में व्यस्त थे ,लडकिया सजने सवारने की तैयारिया कर रही थी ,ऐसा लग ही नहीं रहा था की किसी नौकरानी के बेटी की शादी है ,सभी उसे घर का सदस्य ही मान कर जुटे हुए थे ,घर को सिंपल सा सजाया गया था,और पूरा परिवार बहुत खुस नजर आ रहा था,सुमन भी अब घर में घुल मिल गयी थी वो हर वक्त ही निधि के साथ रहती और जो निधि कहती बस वही करती ,निधि को तो जैसे एक प्यारी सहेली मिल गयी थी,सुमन भी कुछ ही दिनों में खिलने लगी थी ,निधि उसे किसी गुडिया जैसे सजाती थी ,उसने उसे नए नए कपडे दे रखे थे ,लगता ही नहीं था की वो कोई आश्रित है ऐसा ही लगता था की वो परिवार की कोई सदस्य है,सभी भाई बहन मिलने की खुसिया मना रहे थे और अब चंपा भी पूरी तरह साथ थी ,अजय बाली को मना चूका था बाली चंपा से बात तो नहीं करता पर उसके वहा होने से कोई समस्या भी नहीं थी,इधर बारात के एक दिन पहले निधि की जिद थी की हल्दी के कार्यक्रम के साथ महंदी और डांस का भी कार्यक्रम करे,ऐसे अजय को ये सब आफत सा लग रहा था ,पर बहनों की खुशियों को नजरंदाज भी नहीं कर पा रहा था,उसके दिमाग में कुछ और ही चल रहा था ,सभी घर के लोग हल्दी खेलने में बिजी थे सब एक दुसरे को दौड़ दौड़ कर हल्दी लगा रहे थे ,बस सबकी हसी ठहाको से पूरा घर गूंज रहा था,काम करने वाले नौकरों और मजदूरों को भी नहीं छोड़ा जा रहा था,वो बेचारे थोड़े नर्वस भी थे ,इतने बड़े घर की लडकिय उन्हें हल्दी लगा रही थी ,कुछ की आँखों में पानी था तो कोई उन्हें दुवाए दे रहा था,ठाकुरों की यही बात उन्हें सबसे अलग और लोकप्रिय बनाती थी की वो इंसानों का सम्मान करते थे और उनसे इंसानों जैसे ही बर्ताव करते थे,,,
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Exclamation Kamukta Story सौतेला बाप sexstories 72 5,590 Yesterday, 11:00 AM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद sexstories 66 15,718 05-24-2019, 11:12 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Indian Porn Kahani पापा से शादी और हनीमून sexstories 29 9,610 05-23-2019, 11:24 AM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani पापा की दुलारी जवान बेटियाँ sexstories 225 70,375 05-21-2019, 11:02 AM
Last Post: sexstories
Star Kamvasna मजा पहली होली का, ससुराल में sexstories 41 16,053 05-21-2019, 10:24 AM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna अमन विला-एक सेक्सी दुनियाँ sexstories 184 48,540 05-19-2019, 12:55 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Parivaar Mai Chudai हमारा छोटा सा परिवार sexstories 185 35,602 05-18-2019, 12:37 PM
Last Post: sexstories
Star non veg kahani नंदोई के साथ sexstories 21 16,618 05-18-2019, 12:01 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Hindi kahani कच्ची कली कचनार की sexstories 12 13,601 05-17-2019, 12:34 PM
Last Post: sexstories
Star Real Chudai Kahani रंगीन रातों की कहानियाँ sexstories 56 23,271 05-16-2019, 11:06 AM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


మొత్తని పిర్రchupka sa mom ko nahate dhaka hindi kahani xxxmazburi m gundo se chudwayanimbu jaisi chuchi dabai kahani neha sharma srutti hasan sex babagaramburchudaiathiya shetty sexy chut chodi image www sex baba. comwww bhabi nagena davar kamena hinde store.comಮೊದಲು ಅಮ್ಮನ ತುಲ್ಲು ನಂತರ ಅಕ್ಕನ ತುಲ್ಲುघर मे घूसकर कि चूदाई porn हिंदी अवाजxxx BF HENAD MA BOLAYLAbhosra ka gande tarike se gang bang karwane ki hindi sex storiwamiqa gabbi xxx .com picledij डी सैक्स konsi cheez paida karti घासxxx keet sex 2019xxxcom Jo Chori Chupke video Kiya jata hai.xxxbilefilmk2019xxxchaut bhabi shajigk2019xxxintiki vachina guest tho dhenginchukuna sex storiespramguru ki chudai ki kahanihindi havili saxbabagand our muh me lund ka pani udane wali blu film vidiosatso ke tel ae landko ko kaiseआर्फीकन सेक्सpriya varrier nude fuking gifs sex babaहलक तक लन्ड डालोhavas kacchi kali aur lala ka byaz xxx kahani ileana ki gaand kaun marna chahta haieilyana sex2019 imegas downladgcerzrs xxx vjdeo ndSex Sex करताना स्तन का दाबतातtv actress bobita xxx lmages sexbabaLand mi bhosari kaise kholte xxx photoबेटेका लांड लिया गांद मेnewsexstory com marathi sex stories E0 A4 A8 E0 A4 B5 E0 A4 B0 E0 A4 BE E0 A4 A4 E0 A5 8D E0 A4 B0माझी मनिषा माव शीला झवलो sex story marathiwwbf baccha Bagal Mein Soya Hua tab choda chodididi "kandhe par haath" baith geeli baja nahin sambhalshemailsexstory in hindixxxsex gusur ke Pani valachot me land andar chipchi xnxx compoorna sex baba nexxx video hd bf १९१२poty khilaye sasur ne dirty kahanisexy video bra panti MC Chalti Hui ladki chudaibra.panati.p.landa.ka.pani.nikala.bhabi.n.dak.liya.sex.vidioMosi aur vhatije xxx sexi HD Xnxxna bete ki chudai Hota HaiPorn vedios mom ko dekhaya mobile pai porn vediosWww mom ko bar panty me dekhkar mom pe rep kardiya comपुचची त बुलला sex xxxMarathi sexstories वैलमाMom moshi anti bibi bita ki pragnat kiya ki saxy saxy Mast kahniya hide mehotho se hoth mile chhati se chhati chut me land ghusa nikal gaya pani sexभोसी चाहिए अभी चुदाई करने के लिए प्लीज भोसी दिखाओnigit actar vdhut nikar uging photuphli bar chut mari vedioxxnxjhaibollywood actress sexbaba stories site:mupsaharovo.rumeri sundar bahen bhi huss rhi thi train ne antrasana.comsexybaba.net/zannat zubarsas aur unki do betaeo ek sath Hindi sex storysyska bhabhi ki chudai bra wali pose bardastWww.sex balholi. Comhttps://forumperm.ru/printthread.php?tid=2663&page=2sex baba nude savita bhabhididi ki badi gudaj chut sex kahanirassi se band ker dasi pornghor kalyvg mebhai bahan ko chodegaಕಾಮ ನಾದಿನಿ ಮೊಲೆनई लेटेस्ट हिंदी माँ बेटा सेक्स राज शर्मा मस्तराम कॉम